टिकट का पूरा रिफंड मिलेगा

नई दिल्ली। देश में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ने एवं संदिग्धो द्वारा रेल में यात्रा करने के बाद सरकार ने बड़ा कदम उठाते हुए देश में चलने वाली सभी यात्री ट्रेनें 31 मार्च तक के लिए बंद कर दी है। सरकार का मानना है कि कोरोना के संदिग्ध मरीज भी ट्रेनों में सफर कर रहे थे जिससे इस रोग के बढ़ने के खतरे को देखते हुए यह कदम उठाया गया है संक्रमण को रोकने के लिए भारतीय रेल ने बड़ा फैसला लिया है, इंडियन रेलवे ने 31 मार्च तक सभी यात्री ट्रेनों का परिचालन बंद करने का फैसला किया है, रेलवे ने बताया है कि सभी लंबी दूरी की ट्रेनें, एक्सप्रेस और इंटरसिटी ट्रेन (प्रीमियम ट्रेन भी शामिल) का परिचालन 31 मार्च की रात 12 बजे तक बंद रहेगा,


इंडिया की रफ्तार पर कोरोना का ब्रेक


रेलवे की ओर से जारी सूचना में बताया गया है कि रद्द ट्रेनों की सूची में कोलकाता मेट्रो, कोंकण रेलवे, उपनगरीय ट्रेनें नहीं चलेंगीं. हालांकि आज रात 12 बजे तक उपनगरीय ट्रेनें, कोलकाता मेट्रो की सेवाएं जारी रहेगीं.


वैसी ट्रेनें जो 22 तारीख से 4 घंटे पहले चलनी शुरू हुई थीं, वो अपने गंतव्य स्थान तक जाएंगी. रेलवे बोर्ड की बैठक में ये फैसला लिया गया.


मालगाडियों की आवाजाही जारी रहेगी


रेलवे ने कहा है कि देश भर में आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई जारी रखने के लिए मालगाड़ियां चलती रहेंगी.


टिकट का पूरा रिफंड मिलेगा


रेल यात्रियों को राहत देते हुए रेलवे ने टिकट कैंसिल करवाने पर कोई चार्ज नहीं लेने का फैसला लिया है. रेलवे ने कहा है कि यात्रियों को टिकट का पूरा पैसा वापस किया जाएगा. रेलवे के मुताबिक इन टिकटों को कैंसिल करने के एवज में 21 जून तक पैसा लिया जा सकेगा. रेलवे ने कहा है कि यात्रियों को आसानी से पैसा वापस मिल सके इसके लिए पूरा इंतजाम किया जाएगा.