नाबालिग बालिका का अपहरण करने के आरोपी की जमानत खारिज

 


राजगढ। राजगढ न्यायालय में पदस्थ माननीय विशेष न्यायाधीश पाॅक्सो एक्ट श्रीमति अंजली पारे ने अपने न्यायालय के एक प्रकरण में


    थाना मलावर पुलिस द्वारा फरियादी के आवेदन पर अपराध क्रमांक 102/19 की कायमी कर अपराध विवेचना में लिया गया था। विवेचना के दौरान आरोपी को गिरफ्तार कर अभिरक्षा में लिया गया था और आरोपी राजेश वर्तमान में न्यायिक अभिरक्षा में होकर जेल में निरूद्ध है। आरोपी राजेश ने न्यायालय को दिए अपने जमानत आवेदन में लेख किया था कि वह कृषक है तथा यह समय खेत पर काम करने हेतु उपयुक्त है एवं अभियोक्त्री की जन्म दिनांक 01.01.2001 होकर वह बालिग है । आरोपी राजेश ने उपरोक्त आधारों पर अपना जमानत आवेदन पत्र प्रस्तुत कर जमानत की मांग की थी।


 


       अभियोजन की ओर से डीपीओ राजगढ़ श्री आलोक श्रीवास्तव ने तर्क किये कि राजगढ़ जिले में लगभग पचास हजार लोगों के आधार कार्ड में जन्म तारीख एक जनवरी है, जो सॉफ्टवेयर में त्रुटि होने के कारण ऐसा हुआ है। आरोपी राजेश ने पीडित बालिका का अपहरण कर विधिविरुद्ध कृत्य करित किया है। जिसमें यदि आरोपी को जमानत पर रिहा किया जाता है तो आरोपी प्रकरण के गवाहों पर दबाव बनाएगा जिससे निश्चित ही न्याय के विपरीत प्रभाव पड़ेगा । इस कारण आरोपी को जमानत पर रिहा न किया जावे।


अभियोजन के तर्कों से सहमत होते हुए माननीय न्यायालय ने आरोपी राजेश का जमानत आवेदन निरस्त कर दिया है।


    .......………………………………………