प्रेम संबंध की बात को लोकविदित करने एवं रूपयें मांगकर आत्महत्या के लिये दुष्प्रेरित करने वाले आरोपी को 05 वर्ष का कठोर करावास 

-


प्रेम संबंध की बात को लोकविदित करने एवं रूपयें मांगकर आत्महत्या के लिये दुष्प्रेरित करने वाले आरोपी को 05 वर्ष का कठोर करावास 


 न्यायालय श्रीमान मुकेश नाथ, द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश महोदय महिदपुर जिला उज्जैन के न्यायालय द्वारा अभियुक्त अजय पिता बाबूलाल मीणा, निवासी गांधी मार्ग महिदपुर जिला उज्जैन को 05 वर्ष का कठोर कारावास एवं 3000/- रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया। 


       मीडिया सेल प्रभारी श्री मुकेश कुमार कुन्हारे ने अभियोजन घटना अनुसार बताया कि घटना दिनांक 06/04/2017 को शाम के लगभग 07ः00 बजे सूचनाकर्ता/मृतिका के मामा निवासी महिदपुर को उसके ताऊ के लड़के ने घाटी मोहल्ला से मोबाइल पर सूचना दी कि मृतिका ने घर में फांसी लगा ली है, तब उसने मौके पर जाकर देखा तो उसकी भानजी मकान की दूसरी मंजिल पर छत में लगी बल्ली से बंधी चुनरी (दुपट्टा) से फांसी लगाकर लटकी हुई थी, तब उसने वह परिचित दो व्यक्तियों ने मृतिका को फांसी के फंदे से नीचे उतारा व देखा तो मृतिका मर चुकी थी, फिर वे मृतिका को तुरन्त अस्पताल लेकर गए, डॉक्टर को दिखाने पर डॉक्टर ने उसे मृत घोषित किया। सूचनाकर्ता किशोर द्वारा घटना दिनांक को ही पुलिस थाना महिदपुर जाकर घटना के सम्बन्ध में सूचना दी गई। पुलिस थाना महिदपुर द्वारा अभियुक्त के विरूद्ध प्रथम सूचना रिपोर्ट लेखबद्ध की गई, तथा मृतिका के परिचित व परिजनों के कथन लेखबद्ध किये गये। जिसमें उन्होने बताया कि आरोपी अजय मृतिका से प्रेम संबंध की बात को सभी को बताकर बदनाम करने की बात पर उससे रूपयों की मांग करता था। जिससे मानसिक रूप से प्रताडित होने के कारण मृतिका द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या करना पाया गया है। अनुसंधान पश्चात् अभियोग पत्र माननीय न्यायालय में प्रस्तुत किया गया था। अभियोजन के तर्कों से सहमत होकर आरोपी को दण्डित किया गया। 


दण्ड के प्रश्न:- अभियुक्त के अधिवक्ता द्वारा निवेदन किया गया कि आरोपी का यह प्रथम अपराध है, एवं उसकी उम्र को ध्यान में रखते हुये उसके प्रति उदारता का रूख अपनाये जाने का निवेदन किया गया। अभियोजन अधिकारी द्वारा आरोपी को कठोर दण्ड से दण्डित करने का निवेदन किया गया। 


न्यायालय की टिप्पणीः- अभियुक्त के कृत्य एवं उससे समाज पर पड़ने वाले दुष्परिणाम को दृष्टिगत रखते हुए अभियुक्त को समानुपातिक दण्ड दिया जाना न्यायोचित प्रतीत होता है, इसलिए अपराध की प्रकृति, परिस्थिति व परिमाण के आधार पर समग्र परिस्थितियों पर विचारोपरांत अभियुक्त को दण्डित किया गया।


प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी श्री अजय वर्मा, एजीपी महिदपुर, जिला उज्जैन द्वारा की गई। 


 


      


Popular posts
122 साल पुराने उज्जैन के नक्शे को आधार बनाकर,,, तालाबों की जमीन हड़पने वालों पर शिकंजा कसेगा,,, उज्जैन जिलाधीश के निर्देश से जमीन पर कब्जा करने वालों में हड़कंप मचा
Image
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
उज्जैन के अश्विनी शोध संस्थान में मौजूद हैं 2600 साल पुराने सिक्के
Image
उज्जैन के विश्वप्रसिद्ध महाकाल मंदिर परिसर में बिना अनुमति के युवती द्वारा वीडियो बनाकर वायरल किए जाने पर प्रकरण पंजीबद्ध
Image