रास्ता रोककर तलवार मारने वाले अभियुक्तगण की जमानत निरस्त,,,तेलगू फिल्म निर्माता से फिल्म की कामयाबी के लिए धोखाधड़ी करने वाले अभियुक्तगण की जमानत निरस्त

-रास्ता रोककर तलवार मारने वाले अभियुक्तगण की जमानत निरस्त


 न्यायालय माननीय कु. वन्दना मालवीय, न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी तराना जिला उज्जैन के न्यायालय द्वारा अभियुक्तगण 1. शेर सिंह पिता नाथू सिंह 2. ईश्वर सिंह पिता नाथू सिंह, निवासी-ग्राम थामली जिला उज्जैन में अभियुक्त का जमानत आवेदन निरस्त किया गया। 


 


 अभियोजन मीडिया सेल प्रभारी श्री मुकेश कुमार कुन्हारे ने अभियोजन घटना अनुसार बताया कि फरियादी बिजेन्द्र सिंह ने अपनी मॉ, बडे पापा का लड़के के साथ थाना तराना पर उपस्थित होकर प्रथम सूचना रिपोर्ट लेखबद्ध कराई कि मैं ग्राम थामली में रहता हूॅ, मेरा भतीजा शैलेन्द्रसिंह फोटो खीचने ग्राम भुआखेड़ी से वापस आ रहा था तभी मेरे पास शैलेन्द्र का फोन आया कि गॉव के शेरसिह व ईश्वर सिंह ने मेरा रास्ता रोक लिया और मुझे मॉ-बहन की नंगी-नंगी गालियां देकर मारपीट करने लगे और रास्ता रोक कर घर नहीं जाने दे रहे थे। तो और जीवनसिंह वहां गये तो देखा कि शेरसिंह व ईश्वर सिंह गालियां दे रहे थे। मैनें गालियां देने से मना किया तो शेरसिंह ने तलवार से मारी मेरे बाये हाथ की कोहिनी में मारी। जीवनसिंह बीच-बचाव करने लगा तो शेरंिसह ने उसे भी तलवार की मारी जो उसके बाये हाथ की हथेली में लगी। मेरी मॉ को भी तलवार की मारी उनके भी बाये हाथ मे चोंट लगी। फिर मेरे काका ने आकर बीच-बचाव किया तो दोनों जाते-जाते बोले कि हमारे बीच में बोले तो जान से खत्म कर देंगें। पुलिस थाना तराना द्वारा दोनों अभियुक्तगण को गिरफ्तार किया गया एवं न्यायालय में पेश किया गया था।


 अभियुक्तगण द्वारा न्यायालय में जमानत आवेदन प्रस्तुत किया गया था, अभियोजन अधिकारी द्वारा जमानत का विरोध किया की अभियुक्तगण द्वारा फरियादीगण के साथ तलवार से मारपीट कर गंभीर अपराध कारित किया हैं। न्यायालय द्वारा अभियोजन के तर्कों से सहमत होकर अभियुक्तगण का जमानत आवेदन निरस्त किया गया।      


 प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी श्री सुनील परमार, सहायक जिला अभियोजन अधिकारी, तराना, जिला उज्जैन द्वारा की गई। 


 


तेलगू फिल्म निर्माता से फिल्म की कामयाबी के लिए धोखाधड़ी करने वाले अभियुक्तगण की जमानत निरस्त


 न्यायालय श्रीमान सज्जन सिंह सिसौदिया, न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी तहसील बड़नगर, जिला उज्जैन के न्यायालय द्वारा अभियुक्तगण 1. हेमनाथ उर्फ हेमानाथ उर्फ हेमू पिता रामसिंह, उम्र-37 वर्ष निवासी-रूपाखेडा बदनावर 2. सुजाननाथ पिता पूनानाथ उम्र-51 वर्ष निवासी-ग्राम चांचली जिला झालावाड़ 3.़ इमरान शेख पिता इकबाल शेख उम्र 34 वर्ष निवासी- महाकाल मंदिर के पास उज्जैन जिला उज्जैन का जमानत आवेदन निरस्त किया गया। 


       अभियोजन मीडिया सेल प्रभारी श्री मुकेश कुमार कुन्हारे ने अभियोजन घटना अनुसार बताया कि दिनांक 06.05.2019 को फरियादी अक्का बाबू जो तेलगू फिल्म निर्माता है। उज्जैन में महाकाल के दर्शन के लिए अपने दोस्त के साथ उज्जैन आया था वहां पर उसे अभियुक्त गुरू उर्फ बंटीनाथ मिला, जिसने उसे महाकाल में स्पेशल दर्शन व पूजा करवाई, बाद में अभियुक्त गुरू ने फरियादी से पूछा कि तुम क्या काम करते हो तब फरियादी ने कहा कि मैं तेलगू फिल्म बनाता हूॅ, अभी एक फिल्म बनाई है, जो रिलीज नहीं हुई है, तब अभियुक्त गुरू ने फरियादी को कहा कि अभी तुम्हारा समय अच्छा नहीं चल रहा है। मैं तुम्हारी पूजा करवा दूंगा, जिससे तुम्हारी फिल्म अच्छी चल जायेगी और ज्यादा रूपये कामायेगी व घर में भी सुख शांति हो जायेगी। आरोपी ने फरियादी से पहले 2 लाख रूपये पूजा की सामग्री के लिए और कहा कि मैं पूजा की सामग्री लेकर रख लेता हूॅ। दिनांक 06.05.2019 की शाम 07ः30 बजे गुरू ने फरियादी को उज्जैन से आगे इंगोरिया में मिलने का कहा और बोला वहां पर भवानी माता का मंदिर है वहां पर पूजा करनी है। मैं और मेरे दोस्त मेरी गाड़ी से वहां गये वहां पर आरोपी गुरू व उसका ड्रायवर मिला, जिसने हमें अपनी कार में बैठा लिया और कहा कि कार में बैठकर पूजा शुरू करेंगें। मेरा साथी सुनील के पास बैग में 10 लाख रूपये रखे थे, गुरू का ड्रायवर कार के बाहर खड़ा था तभी वहां एक सफेद कार से पण्डे लोग आये जिन्होने सायरन बजाया और हमारे पास आकर कार रोकी, जिसमें से दो पुलिस की खाकी रंग की ड्रेस में व तीन साधा कपडे पहने लोग आये, उन्होने मेरे दोस्त सुनील से पैसो की थैली चैक करने के लिए ली व तीन आदमी पैसों की थैली लेकर एक कार मे बैठे और भाग गये व दो लोग गुरू के साथ कार में बैठकर भाग गये, आरोपी गुरू उर्फ बंटीनाथ व उसके साथियों ने मेरे साथ 12 लाख रूपये की धोखाधड़ी, फिल्म कामयाब कराने व घर में सुख-शांति कराने के नाम पर की। पुलिस थाना बड़नगर द्वारा अभियुक्तगण के विरूद्ध अपराध पंजीबद्ध किया था पूर्व में अभियुक्त गुरू एवं उसके तीन साथी को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जा चुकी है जो वर्तमान में जेल में है। विवेचना के दौरान तीनों अभियुक्तगण को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया था।


       अभियुक्तगण द्वारा न्यायालय में जमानत आवेदन प्रस्तुत किया गया था। अभियोजन अधिकारी द्वारा निवेदन किया गया कि अभियुक्तगण द्वारा धार्मिक कर्मकाण्ड के आधार पर धोखाधडी की गई है। माननीय न्यायालय द्वारा अभियोजन के तर्कों से सहमत होकर अभियुक्तगण का जमानत आवेदन निरस्त किया गया।  


 प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी श्री राकेश कटारिया, सहायक जिला लोेक अभियोजन अधिकारी तहसील बड़नगर, जिला उज्जैन द्वारा की गई। 


              


Popular posts
कोरोना के मरीजों की संख्या में आश्चर्यजनक वृद्धि होने से एक और जहां शहर में दहशत , वहीं दूसरी ओर प्रशासन की कार्यप्रणाली भी संदेह के घेरे में है
Image
लोकायुक्त टीम के 3 अधिकारी और 30 सदस्यों की टीम ने तीन स्थानों पर की कार्रवाई
Image
महाशिवरात्रि पर ऑनलाइन , एप अथवा टोल फ्री नंबर पर प्री बुकिंग करवाई जा सकेगी,,,,प्री बुकिंग 5 मार्च से खुलेगी
Image
बरकतउल्ला विवि कार्य परिषद का निर्णय : संविदा पद से डॉ आशा शुक्ला सेवानिवृत्त कुलपति पद पर नियुक्ति मामले में राजभवन को किसने धोखे में रखा
Image
आज सिर्फ 26 जांच,2 पॉजिटिव
Image