शराब के लिय घर में घुसकर मारपीट करने वाले अभियुक्त की जमानत निरस्त,,,,,चाकू से लोगो को डराना धमकाना पड़ा महंगा

-न्यायालय श्रीमान राजेश नामदेव, प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट जिला उज्जैन के न्यायालय द्वारा अभियुक्त आकाश उर्फ बडे मराठा पिता ओमप्रकाश मराठा निवासी पंवासा उज्जैन का जमानत आवेदन निरस्त किया गया।  


 अभियोजन मीडिया सेल प्रभारी/पैरवीकर्ता श्री मुकेश कुमार कुन्हारे ने बताया कि अभियोजन घटना इस प्रकार है कि दिनांक 23.03.2020 को फरियादी रंजीत देवडा पिता शिवनारायण ने अपनी मॉ एवं भाई के साथ थाना चिमनगंजमण्डी पर उपस्थित होकर रिपोर्ट लेख कराई की मै संेटथामस स्कूल के पीछे पंवासा मक्सी रोड पर रहता हूॅ तथा पंचर एवं चाय की दुकान चलाता हूॅ। कल रात 10ः30 बजे मै अपने घर पर ही था, तथी अभियुक्त आकाश उर्फ बडे अपने साथी के साथ आया और मुझे बोला कि मुझे शराब पीने के लिये पैसे दे तो मैनें बोला कि मेरे पास पैसे नही है, तो इसी बात को लेकर आकाश बडे व उसका साथी मुझे मॉ-बहन की नंगी-नंगी गालिया देने लगा, मैंने गाली देने से मना किया तो दोनो जबरन मेरे घर में घुस आये और अभियुक्त आकाश उर्फ बडे ने लोहे के सरिया से मारपीट की व उसके साथी ने थप्पड मुक्कों से मारपीट की जिससे मुझे बायंे तरफ पसली व दोनो हाथ में चोट आई, मै चिल्लाया तो मेरा भाई सागर एवं मॉ ने बीच-बचाव किया। वह जाते-जाते बोले की तुने शराब के पैसे नही दिये तो तुझे किसी भी दिन जान से खत्म कर देगे। फरियादी की रिपोर्ट पर से थाना चिमनगंजमण्डी द्वारा अपराध पंजीबद्ध किया गया। 


 अभियुक्त आकाश द्वारा न्यायालय में जमानत आवेदन प्रस्तुत किया गया था। अभियोजन अधिकारी द्वारा जमानत आवेदन का विरोध किया कि अभियुक्त द्वारा पंचर बनाने वाले व्यक्ति के घर में घुसकर शराब के पैसे नही देने पर मारपीट की यह एक गंभीर अपराध है। यदि अभियुक्त को जमानत दी जाती है तो वह पुनः अपराध कारित करेगा। न्यायालय द्वारा अभियोजन के तर्कों से सहमत होकर अभियुक्त का जमानत आवेदन निरस्त किया गया।       


 प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी श्री मुकेश कुमार कुन्हारे सहा. जिला लोक अभियोजन अधिकारी, जिला उज्जैन द्वारा पैरवी की गई।


 चाकू से लोगो को डराना धमकाना पड़ा महंगा न्यायालय ने की अभियुक्त की जमानत निरस्त


 न्यायालय माननीय कु. वन्दना मालवीय, न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी तराना जिला उज्जैन के न्यायालय द्वारा अभियुक्त लखन पिता सुरेश उर्फ कालू खंगार उम्र 23 वर्ष, निवासी-मालीपुरा तराना जिला उज्जैन का जमानत आवेदन निरस्त किया गया। 


 अभियोजन मीडिया सेल प्रभारी श्री मुकेश कुमार कुन्हारे ने अभियोजन घटना अनुसार बताया कि घटना दिनांक 19.07.2020 को थाना तराना पर पदस्थ सउनि त्रिभुवन सिंह को कस्बा भ्रमण के दौरान उत्तरा चौराहा नयापुरा पर मुखबीर द्वारा सूचना मिली कि, एक अज्ञात व्यक्ति जिसके पास खटकेदार चाकू है, जो लोगो को डरा रहा है। सूचना पर से फोर्स को तलब कर अवगत कराया तभी तलाब के पास की तरफ से एक व्यक्ति दिखा जिसे हमराह की मदद से पकडा, और उससे नाम पता पूछने पर उसने अपना नाम लखन पिता सुरेश उर्फ कालू खंगार तराना को होना बताया। जिसकी विधिवत तलाशी लेने पर उसकी पेंट की जेब में से एक खटकेदार चाकू मिला, चाकू रखने के लायसेंस के बारे में पूछताछ की तो लायसेंस का नही होना बताया। पुलिस द्वारा अभियुक्त से चाकू को विधिवत जप्त किया गया तथा अभियुक्त को गिरफ्तार किया गया।  


 अभियुक्त द्वारा न्यायालय में जमानत आवेदन प्रस्तुत किया गया था, अभियोजन अधिकारी द्वारा जमानत का विरोध किया। न्यायालय द्वारा अभियोजन के तर्कों से सहमत होकर अभियुक्त का जमानत आवेदन निरस्त किया गया।      


 प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी श्री सुनील परमार, सहायक जिला अभियोजन अधिकारी, तराना, जिला उज्जैन द्वारा की गई। 


 


               


Popular posts
122 साल पुराने उज्जैन के नक्शे को आधार बनाकर,,, तालाबों की जमीन हड़पने वालों पर शिकंजा कसेगा,,, उज्जैन जिलाधीश के निर्देश से जमीन पर कब्जा करने वालों में हड़कंप मचा
Image
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
उज्जैन के अश्विनी शोध संस्थान में मौजूद हैं 2600 साल पुराने सिक्के
Image
उज्जैन के विश्वप्रसिद्ध महाकाल मंदिर परिसर में बिना अनुमति के युवती द्वारा वीडियो बनाकर वायरल किए जाने पर प्रकरण पंजीबद्ध
Image