उच्च शिक्षा मंत्री का हेल्थ अपडेट और हिंदी की दुर्गति,,,,

आज दोपहर जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी का कोविड-19 संबंधी पत्र पढ़कर बड़ी खुशी जाहिर हुई.. खुशी इस बात पर जाहिर हुई कि कैबिनेट मंत्री डॉ मोहन यादव की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई है.. लेकिन थोड़ा दुख इस बात का हुआ कि पत्र पढ़ने में काफी कठिनाई आई , पत्र में चार लाइन लिखी हुई थी लेकिन आठ जगह मिस्टेक की गई थी.. कैबिनेट मिनिस्टर को मोनिस्टर लिखकर बाद में उसे काट दिया गया.. समस्त को भी सेमस्त लिख दिया गया.. इसके अलावा मीडिया लिखने में भी गलतियां दिखाई दी.. गलती की बात तो छोड़िए, यह पत्र देखकर कोई भी इस बात का अंदाजा नहीं लगाएगा कि संभागीय मुख्यालय के सबसे बड़े अस्पताल के सबसे बड़े अधिकारी की ओर से यह लेटर जारी हुआ है.. खैर, इस बात को गंभीरता से नहीं लेना चाहिए.. कोरोना के मामले में अस्पताल के लेटर की लापरवाही कोई पहली नहीं है.. पहले कई बार बुलेटिन में भी गलत आ चुकी है,लेकिन अगर रिपोर्ट हिंदी में नहीं बन पाए तो उसे इंग्लिश में भी जारी कर देना चाहिए.. उज्जैन के पत्रकार पॉजिटिव-नेगेटिव के बारे में तो अच्छी तरह जान चुके हैं... बाद में किरकिरी होने के बाद फिर से अंग्रेजी में बुलेटिन जारी किया गया है।


Popular posts
122 साल पुराने उज्जैन के नक्शे को आधार बनाकर,,, तालाबों की जमीन हड़पने वालों पर शिकंजा कसेगा,,, उज्जैन जिलाधीश के निर्देश से जमीन पर कब्जा करने वालों में हड़कंप मचा
Image
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
उज्जैन के अश्विनी शोध संस्थान में मौजूद हैं 2600 साल पुराने सिक्के
Image
उज्जैन के विश्वप्रसिद्ध महाकाल मंदिर परिसर में बिना अनुमति के युवती द्वारा वीडियो बनाकर वायरल किए जाने पर प्रकरण पंजीबद्ध
Image