धोखाधड़ी से जमीन अपने नाम करने वाली महिला की जमानत निरस्त

 


भिण्ड। न्यायालय षष्ठम् अपर सत्र न्यायाधीष जिला भिण्ड के न्यायालय में धोखाधड़ी कर जमीन अपने नाम करने वाली महिला सूरजमुखी यादव पत्नी मेवाराम यादव निवासी ग्राम किटी थाना ऊमरी भिण्ड द्वारा जमानत के लिये आवेदन पेष किया गया। प्रकरण मे शासन की ओर से पैरवी अभियोजन द्वारा करते हुयें जमानत आवेदन का विरोध किया गया, जिसके आधार पर न्यायालय ने आरोपिया का जमानत आवेदन निरस्त कर दिया। 


               जनसंपर्क अधिकारी (अभियोजन) चंबल संभाग इन्द्रेष कुमार प्रधान द्वारा बताया गया कि फरियादिया केतुका की कोई संतान नहीं हैं। आरोपी चरन सिंह उसके पास उसके मायके आया और बोला कि वह उसे आवास दिला देगा और उसके भिण्ड ले आया और धोखाधड़ी से उसके हिस्से की जमीन साढ़े तीन बीघा भूमि अपने नाम करा ली और किटी मौजे की भूमि रकवा 0.30 अपनी मां सूरजमुखी के नाम करा ली और विक्रय पत्रों पर छलपूर्वक उसके हस्ताक्षर करा लिये। विक्रय पत्र के साक्षी रामसिंह एवं तारासिंह द्वारा षड़यंत्र किया गया हैं। फरियादिया केतुका द्वारा पुलिस अधीक्ष्ज्ञक भिण्ड को लिखित आवेदन प्रस्तुत किया, जिसकी जांच उपरांत थाना ऊमरी में आरोपी चरन सिंह, सूरजमुखी, रामसिंह व तारा सिंह के विरूद्ध अपराध क्रमांक 328/2019 धारा 420,465,467,468,471,34 भादवि में अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।  


      बंदूक से फायर करने वाले जे.पी. की अग्रिम जमानत निरस्त


 भिण्ड। न्यायालय तृतीय अपर सत्र न्यायाधीष जिला भिण्ड के न्यायालय में मुरलीपुरा भिण्ड निवासी जयप्रकाश शर्मा उर्फ जे.पी. द्वारा जमानत के लिये आवेदन पेश किया गया। प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी अभियोजन की ओर से की गयीं जिसके आधार पर न्यायालय ने आरोपी का जमानत आवेदन निरस्त कर दिया।      जनसंपर्क अधिकारी (अभियोजन) चंबल संभाग इन्द्रेश कुमार प्रधान द्वारा बताया गया कि फरियादी संतोष ने रिपोर्ट लेख करायी कि दिनांक 03/03/2020 को रात्रि 11 बजे खाना खाने गया था। होटल के अंदर गया तथा बिना खाना खाये बाहर निकला तो होटल के बाहर रोड़ पर खड़ा हो गया। होटल पर एक व्यक्ति रायफल लिये खड़ा था। उसी व्यक्ति ने उस पर जान से मारने की नियत से फायर किया, जिसकी गोली पीठ में लगी और बांये बाजू से निकल गयीं उक्त रिपोर्ट पर से थाना सिटी कोतवाली भिण्ड द्वारा अज्ञात व्यक्ति के विरूद्ध अपराध क्रमांक 114/2020 धारा 307 भादवि में अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। दौराने विवेचना में फरियादी व साक्षीगणों के कथनों के आधार पर आरोपी जयप्रकाष शर्मा उर्फ जे.पी. द्वारा उक्त घटना को कारित करना पाया गया।  


     जान से मारने की नियत से बंदूक से फायर करने वाले आरोपी शिवराज की जमानत खारिज


भिण्ड। न्यायालय तृतीय अपर सत्र न्यायाधीष जिला भिण्ड के न्यायालय में जे.सी.बी. मशीन को लेकर हुये विवाद में जान से मारने की नियत से बंदूक से फायर करने वाले आरोपी शिवराज सिंह उर्फ सोरज निवासी ग्राम चकरा ऊमरी भिण्ड के द्वारा जमानत आवेदन प्रस्तुत किया गया। प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी अभियोजन द्वारा कर जमानत आवेदन का विरोध किया गया जिसके आधार पर न्यायालय ने आरोपी शिवराज का जमानत आवेदन निरस्त कर दिया।    जनसंपर्क अधिकारी (अभियोजन) चंबल संभाग इन्द्रेश कुमार प्रधान द्वारा बताया गया कि फरियादी तहसीलदार सिंह ने अस्पताल में घायल अवस्था में रिपोर्ट लेख करायीं कि दिनांक 14/06/2018 को सुबह 9 बजे वह अपनी काली माटी वाले खेत में मेढ़ जे.सी.बी. मषीन से डलबा रहा था तभी राजेष सिंह, रजने सिंह निवासी चकरा ढोचरा व दो अन्य अज्ञात लोग आये और उससे बोले कि जेसीबी मषीन उसे दो, रेत निकालना हैं, उसने जे.सी.बी. मषीन देने से मना किया तो राजेष ने जान से मारने की नियत से 315 बोर की बंदूक से गोली मारी जो उसके दाहिने हाथ के बाजू में लगी तथा रजने सिंह 12 बोर की एकनाली बंदूक से तथा दो अन्य अज्ञात लोगो ने 12 बोर के कट्टो से फायर किये, मौके पर उसका लड़का लोकेन्द्र व कृपाल का लड़का सुखवीर सिंह थे जिन्होने घटना देखी थी उक्त रिपोर्ट पर से थाना ऊमरी में अपराध क्रमांक 191/18 धारा 307,34 भादवि में आरोपी राजेष सिंह, रजने सिंह व दो अन्य अज्ञात के विरूद्ध अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया था दौराने विवेचना में आरोपी शिवराज के सम्मिलित पाये जाने से दिनांक 16/08/2020 को आरोपी शिवराज को गिरफ्तार किया गया था