गणेश भगवान के हर अंग से मिलती है एक शिक्षा . डीपीओ

*प्रतियोगी परीक्षाओं में फोकस है जरूरी . राजेन्द्र सोनी*


*जिला पुस्तकालय राजगढ में धूमधाम से सम्पन्न गणेश विसर्जन*


राजगढ। जिला पुस्तकालय में विराजमान श्री गणेश प्रतिमा का अनंत चतुर्दशी के दिन धूमधाम से विसर्जन किया गया है।प्रतिवर्ष की तरह इस वर्ष भी जिला पुस्तकालय में श्री गणेश जी की प्रतिमा स्थापित की गई थी। इस वर्ष कोविड-19 वायरस के संक्रमण के कारण पूर्णतः शासन के निर्देशों का पालन करते हुये श्री गणेश विसर्जन कार्यक्रम को सम्पन्न किया गया है। विसर्जन कार्यक्रम में लाईब्रेरी के सभी सदस्यगण और प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारियां कर रहे प्रतिभागीगण भी सम्मिलित हुए । 


  जिला पुस्तकालय राजगढ में पुस्तकालय प्रभारी श्री आशीष कौशिक के निरंतर प्रयासों से न केवल लाईब्रेरी में मूलभूत सुविधाएं सुव्यवस्थित तरीके से उपलब्ध हो गई हैं बल्कि सदस्यगणों की संख्या में भी बड़ा इजाफा हुआ है। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारियों में संलग्न बड़ी संख्या में विद्यार्थी पुस्तकालय में प्रतिदिन दोनों समयों पर उपस्थित होकर पुस्तकालय की किताबों से तैयारियां कर रहे हैं। पूर्व में भी इस लाईब्रेरी में बैठकर पढने वाले अनेकों विद्यार्थीगण आज उच्च पदों पर आसीन है और निकट भविष्य में प्रतिदिन तैयारी हेतु उपस्थित बच्चे भी विभिन्न विभागों में उच्च पद प्राप्त करेंगे। राजगढ जैसे एक छोटे शहर में जिला पुस्तकालय जैसी सुविधाएं होना तथा हजारों की मात्रा में किताबों का संग्रह एक अद्वितीय व्यवस्था है।


  गणेश भगवान की आरती उपरंात श्री आलोक श्रीवास्तव, जिला अभियोजन अधिकारी राजगढ, श्री राजेन्द्र कुमार सोनी इंजीनियर च्ॅक् ने सभी उपस्थित सदस्यों एवं छात्रों को संबोधित करते हुए अनंत चतुर्दशी की शुभकामनाएं देकर पूर्ण एकाग्रता एवं लगन से तैयारी करने के मंत्र दिये। कार्यक्रम में श्री आशीष कौशिक, प्रभारी जिला पुस्तकालय राजगढ द्वारा मंच संचालन किया गया।


 डीपीओ श्रीवास्तव ने छात्रों को बताया कि गणेश भगवान के सूप की तरह कान है, जो हमें बताते है कि हमें सारगर्भित बातों को अपने अंदर समाहित करना है और जिस प्रकार सूपा अनाज से भूसे को अलग कर देता है उसी प्रकार हमें भी सभी बातों में से सारगर्भित बातों को आत्मसात करना चाहिये । गणेश जी की आंखे छोटी-छोटी हैं जो तीक्ष्ण दृृष्टि की प्रतीक है। श्री राजेन्द्र सोनी ने अपने उद्बोधन में छात्रों को बताया कि परीक्षाओं में फोकस बहुत जरूरी है और यदि पूर्ण एकाग्र रहते हुए हर माह किसी न किसी प्रतियोगी परीक्षा में आप सम्मिलित होते है तो आपका एक दो परीक्षाओं में सफल होना और नौकरी प्राप्त करना सुनिश्चित है। कार्यक्रम में श्री दिनेश चंद्र लुहार (सहयोगी), जिला अभियेाजन कार्यालय के अंकित शुक्ला, सहायक ग्रेड- 3, श्री रामगोपाल मेवाड़ा (सहयोगी) भी उपस्थित रहे जिन्होने कार्यक्रम में अपना अपूर्व योगदान दिया है।