शराब के नशे में घर में घुसकर की थी छेड़छाड़़ - अब जेल में रहेगा अपराधी 

*शराब के नशे में घर में घुसकर की थी छेड़छाड़़ - अब जेल में रहेगा अपराधी  राजगढ/खिलचीपुर । माननीय न्यायालय जेएमएफसी खिलचीपुर ने अभियुक्त बलराम पिता मानसिंह निवासी ग्राम हिम्मतपुरा जिला राजगढ को शराब के नशे में घर में घुसकर बुरी नियत से महिला से छेड़छाड करने के आरोप में जमानत खारिज कर जेल भेज दिया है।    अभियोजन मीडिया प्रभारी एडीपीओ श्री आशीष दुबे ने घटना की जानकारी देते हुय बताया है कि फरियादिया ने दिनांक 23 अगस्त 2020 को थाना भोजपुर उपस्थित होकर रिपोर्ट लिखवाई कि जब वह 20 अगस्त की रात को घर पर सो रही थी तो अभियुक्त बलराम दारू पीकर उसके घर में घुस गया था। बुरी नियत से फरियादिया का हाथ पकड़ा तो उसकी नींद खुल गई थी। अभियुक्त बलराम हाथ खींचकर कह रहा था कि मेरे साथ चल और किसी को बताया तो जान से मार देंगे। फरियादी चिल्लाई तो उसके घर के अन्य सदस्य आ गये थे और अभियुक्त बलराम को पकड़ लिया था। अभियुक्त को पकड़कर डायल 100 को फोन लगा दिया था जिससे पुलिस वाले उसे पकड़कर ले गये थे। फरियादी की रिपोर्ट पर थाना भोजपुर में अपराध क्रमांक 259/2020 अंतर्गत धारा 354, 457, 509, 506 भादवि पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया है।


  अभियुक्त बलराम ने माननीय न्यायालय जेएमएफसी खिलचीपुर के समक्ष अपना जमानत आवेदन प्रस्तुत कर जमानत की मांग की थी। जिस पर शासन की ओर से एडीपीओ श्री मथुरा लाल ग्वाल द्वारा तर्क प्रस्तुत कर जमानत का विरोध किया गया। माननीय न्यायालय ने जमानत आवेदन पर सुनवाई करते हुये अभियुक्त बलराम की जमानत अर्जी खारिज कर जेल भेजा है


 बुरी नीयत से नाबालिग का हाथ पकड़ने वाले अभियुक्त को भेजा जेल*


 


ब्यावरा । माननीय न्यायालय प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश ब्यावरा ने थाना ब्यावरा शहर के अपराध क्रमांक 489/20 अंतर्गत में नाबालिग बालिका से छेड़छाड करने वाले अभियुक्त विष्णु दांगी पिता जगन्नाथ दांगी निवासी मोहनीपुरा जिला राजगढ की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।


अभियोजन मीडिया प्रभारी एडीपीओ आशीष दुबे ने बताया है कि फरियादिया द्वारा दिनांक 19.09.2020 को थाना ब्यावरा में उपस्थित होकर रिपोर्ट लेख कराई कि वह कुछ दिनों से देख रही है कि जब वह अपने घर के आसपास जब टहलती है तो एक लड़का उसका पीछा करता है। अभियोक्त्री दिनांक 19.09.2020 को रात्रि के समय करीबन 10 बजे जब घर के बाहर घूम रही थी तभी अभियुक्त वहां आया और बुरी नीयत से पीडिता का हाथ पकड़ कर बोला कि मुझे तुझसे बात करनी है। पीडिता चिल्लाई तो उसके घर के सदस्य आ गये थे जिन्हें देखकर अभियुक्त विष्णु दांगी भाग रहा था। इसके बाद चिल्लाचैंट होने लगी थी तो भीड़ ने दौड़कर अभियुक्त को पकड़ लिया था। फरियादी की रिपोर्ट पर अपराध क्रमांक 489/2020 अंतर्गत धारा 354, 354घ भादवि 7/8, 11/12 पाॅक्सो एक्ट पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।


  अभियुक्त विष्णु दांगी ने न्यायालय के समक्ष अपना जमानत आवेदन प्रस्तुत कर जमानत की मांग की थी। जिस पर सहायक जिला अभियेाजन अधिकारी श्री आलोक उपाध्याय ब्यावरा ने न्यायालय के समक्ष तर्क किया कि इस घटना को लेकर फरियादी पक्ष में काफी रोष व्याप्त है। यदि अभियुक्त को जमानत पर रिहा किया जाता है तो वह फरियादी पक्ष पर दबाव बनायेगा और उसके हौंसले बुलंद हो जायेंगे। साथ ही अभियुक्त को जमानत न रिहा किया जाने का निवेदन किया। 


  माननीय न्यायालय ने प्रकरण की स्थिति व अभियोजन के तर्कों को दृष्टिगत रखते हुये अभियुक्त विष्णु दांगी की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।