इलाज के दौरान युवती से दुष्‍कृत्‍य करने वाले आरोपी डॉक्‍टर का 3 दिन का पुलिस रिमांड

  नाबालिक लडकी को भगाकर ले जाने वाले आरोपी को भेजा जेल  


 जिला अभियोजन अधिकारी मो. अकरम शेख द्वारा बताया गया कि श्रीमती अर्चना रघुवंशी न्‍यायिक मजिस्‍ट्रेट प्रथम श्रेणी महू इंदौर के न्यायालय में थाना बडगोंदा के अपराध क्रमांक 487/2020 धारा 363 भादवि में गिरुफतार शुदा अरूण पिता राधेश्‍याम उम्र 20 वर्ष निवासी ग्राम मगरदा रामपुरयिा महू को पेश किया गया एवं न्‍यायिक अभिरक्षा में भेजे जाने का निवदेन किया गया। अभियोजन की ओर से एडीपीओ श्री बलबहादुर सिंह अलावा के द्वारा न्‍यायालय के समक्ष आरोपी को न्‍यायिक अभिरक्षा में भेजे जाने हेतु तर्क रखे गये कि, प्रकरण गंभीर प्रकृति का होकर प्रकरण में अनुसंधान शेष हैं। यायालय द्वारा तर्क से सहमत होते हुए आरोपी को दिनांक 26/10/2020 तक न्‍यायिक अभिरक्षा में भेजे जाने का आदेश दिया गया।


अभियोजन कहानी संक्षेप में इस प्रकार है कि, फरियादी ने थाना आकर रिपोर्ट दर्ज कराई कि, मैं खेती बॉडी का काम करता हुँ मेरी चार लडकी व एक लडका हैं। मेरी तीसरे नम्बर की लडकी हैं। वह अनपढ हैं दिनांक 06/10/2020 को घर से दोपहर 02 बजे सोयाबीन काटने अंतरसिंह के खेत पर बोलकर गई थी तो अंतर सिंह ने घर पर आकर बताया कि, आपकी लडक़ी खेत पर सोयाबीन काटने नही आई है तो मैने बोला कि वह यहॉ से तो 02 बजे सोयाबीन काटने चली गई थी। मैनें मेरी लडकी की तलाश आस पास के रिश्तेदारों के यहॉ की नही मिलने पर मैने थाना आकर रिपोर्ट दर्ज कराई कि, कोई अज्ञात व्यक्ति मेरी 16 साल 09 माह की नाबालिक लडकी को बहला फुसलाकर भगाकर ले गया हैं उक्त पर से पुलिस द्वारा अपराध पंजीबद्व कर विवेचना में लिया गया।  


आनलाईन सट्टा खिलाने वाले आरोपी का चार दिन का पुलिस रिमांड


 जिला अभियोजन अधिकारी मो. अकरम शेख द्वारा बताया गया कि श्रीमती अर्चना रघुवंशी न्‍यायिक मजिस्‍ट्रेट प्रथम श्रेणी महू इंदौर के न्यायालय में थाना महू के अपराध क्रमांक 266/2020 धारा 420,120-बी,34 भादवि एवं सार्वजनिक जुआ अधिनियम की धारा 3,4 में गिरुफतार शुदा आरोपी मनोज मालवीय ऊर्फ गोंरी पिता कैलाश मालवीय उम्र 27 साल निवासी पालदा पत्थर मुण्डला रोड इंदौर को पेश किया गया एवं पुलिस अभिरक्षा में रखे जाने का निवेदन इस आधार पर किया गया कि आरोपी से पूछताछ की जानी है एवं लैपटॉप एवं मोबाइल फ़ोन जप्त करना है अभियोजन की ओर से श्री बलबहादुर सिंह अलावा के द्वारा न्‍यायालय में उपस्थित होकर तर्क रखे गए । न्यायालय द्वारा अभियोजन के तर्को से सहमत होते हुए आरोपी को दिनांक 15/10/2020 तक पुलिस अभिरक्षा मे रखे जाने का आदेश दिया गया।


अभियोजन कहानी संक्षेप में इस प्रकार है कि, दिनांक 12/07/2020 को मुखबिर सूचना प्राप्‍त हुइ कि, राजू वर्मा निवासी देवपुरी कालोनी गुजरखेडा महू के किराये के मकान में रूपए पैसों का ऑनलाइन दाव लगाकर आनलाईन सट्टा खेला जा रहा हैा सर्च वारंट लेकर मुखबिर की सूचना अनुसार थाने से राजू वर्मा के मकान की दूसरी मंजिल पर स्थित किराये का कमरा जो कि अंदर से बंद था। जिसका दजवाजा खटखटाया तो एक मोटे लडके ने दरवाजा खोला मय फोर्स के साथ अंदर जाकर देखा तो तीन व्‍यक्ति फर्श पर बैठे हुए थे। जिनके सामने लैपटॉप व अलग-अलग मोबाइल फोन एवं एक कॉपी रखी थी। दरवाजा खोलने वाले व्‍यक्ति के पास लगातार फोन आ रहे थे। इन व्‍यक्तियों का नाम पुछने पर उन्‍होने अपना नाम विकास पिता मनोहर यादव, जितेन्‍द्र पिता नारायण लोवंशी, हेमंत पिता अनिल गुप्‍ता, सोनू पिता संतोष गुप्‍ता होना बताया। इनके सामने रखे लैपटॉप की स्‍क्रीन पर आनलाईन गेम धन गेम चल रहा था पास ही रखे मोबाईल फोन पर अलग-अलग व्‍यक्तियों के कॉल व व्‍हाट्सएप मैसेज आ रहे थे। जिनमें सट्टे के अंको व रूपए पैसो के दाव के मैसेज आ रहे थे जिनके बारे में पुछने पर इन्‍होने बताया कि राजा वर्मा ने आनलाईन सट्टा खिलाने के लिए लैपटॉप व 02 मोबाईल दिये थे। इन्‍ही लैपटॉप व मोबाईल से हम राजा वर्मा ,शुभम कलमे, पलाश अभिचंदानी के कहने पर हार जीत के दाव आनलाईन लगाकर सट्टा खिलवाते थे। इसके बदले में राजा वर्मा हमे पृथक-पृथक 20 हजार रूपए महिने के देता है राजा वर्मा,शुभम कलमे, पलाश अभिचंदानी और हम सभी मिलकर आनलाईन सट्टा खिलवाकर लोगों से अधिक रूपए कमाने का लालच देकर छल करके रूपए कमाते हैा इन व्‍यक्तियों के द्वारा हार जीत का दांव लगाकर सट्टा खिलाकर जनता से छल कर अवैध लाभ अर्जित किया जाता है। इन सभी व्‍यक्यिों से लैपटॉप व मोबाईल फोन जप्‍त कर थाना आकर अपराध पंजीबद्व कर विवेचना में ‍लिया गया। 


इलाज के दौरान युवती से दुष्‍कृत्‍य करने वाले आरोपी डॉक्‍टर का 3 दिन का पुलिस रिमांड 


 जिला अभियोजन अधिकारी मो. अकरम शेख द्वारा बताया गया कि, न्‍यायालय श्रीमती विनीता गुप्‍ता न्‍यायिक मजिस्‍ट्रेट प्रथम श्रेणी इंदौर के समक्ष थाना एमआईजी के अप.क्र.301/2020 धारा 354(क), 509, 376(2)(ड), 376(2)(एन) भादवि में फरार आरोपी हेमंत चौपडा प्रस्‍तुत हुआ जहां पर एमआइजी थाने द्वारा आरोपी को गिरफ्तारी पश्‍चात पुलिस अभिरक्षा में दिए जाने का निवेदन किया गया पुलिस अभिरक्षा इस आधार पर चाहा गया कि आरोपी से अपराध के संबंध में पूछताछ हेतु तथा पीडिता से इलाज के दौरान स्‍वयं हस्‍तलिखित पर्चे में लिखे प्रिसक्रिप्‍शन को जप्‍त कर हस्‍तलिपि विशेषज्ञ से जांच कराई जाना है तथा घटना स्‍थल की तस्‍दीक व साक्ष्‍य एकत्रित करना है। अभियोजन की ओर से एडीपीओ शिवभान सिंह द्वारा तर्क रखे गए। न्‍यायालय द्वारा तर्को से सहमत होते हुए आरोपी को 14.10.2020 तक पुलिस अभिरक्षा में सौंपे जाने का आदेश दिया गया।


अभियोजन की कहानी संक्षेप में इस प्रकार है कि फरियादिया ने अपने माता-पिता व दीदी के साथ थाने आकर रिपोर्ट लेख कराई कि दिनांक 02.07.2020 को सुबह करीबन 7 बजे मैं अपने पापा के साथ एक्टिवा से दूध लेने के लिए गए थे तो एक्टिवा से गिरने से मेरे दाये पैर के पंजे में चोट आयी थी उसी दिन शाम करीबन 06:30 बजे मेरे पापा मुझे हेमंत चौपडा की क्लिनिक पर पैर का उपचार कराने के लिए लेकर गए थे डॉ. हेमंत चौपडा ने मेरे पापा को क्लिनिक से बाहर कर दिया व अंदर से दरवाजा बंद कर दिया फिर डॉ. ने मेरे पैर को देखा और उस पर दवाई डाली। जिससे मेरे पैर पर जलन पडने लगी। मैं चिल्‍लाई तो डॉ. हेमंत चौपडा ने मुझे कसके पकड लिया और मेरे चेहरे पर बुरी नियत से किस करने लगा तो मैने डॉ. से बोला कि आप यह क्‍या कर रहे हो। तो डॉक्‍टर बोला कि घबराने की जरूरत नही है मैं तुम्‍हे चेक कर रहा हूं इसके बाद डॉक्‍टर ने अपनी पेंट खोली व मेरे साथ गंदी हरकत करने लगा। डाक्‍टर की इस हरकत पर मैं चिल्‍लाई लेकिन क्लिनिक के बाहर मेरी आवाज नही जा रही थी जब मैं चुप हो गई तो डॉक्‍टर ने मेरे पापा को अंदर बुला लिया। मैं बहुत डर गई थी और मुझे चक्‍कर आने लगे थे। डॉक्‍टर ने मेरे पापा को तीन दिन के बाद फिर चेकअप के लिए अपने क्लिनिक पर मुझे बुलाया। मैं डर के कारण अपने पापा को यह बात नही बता पायी। तीन दिन बाद जब मैं डाक्‍टर के पास गयी तो डॉक्‍टर ने फिर से मेरे पापा को क्लिनिक के बाहर कर दिया और मेरे साथ गंदी हरकत करने लगा। में घबराहट के मारे उस दिन भी पापा को कुछ नही बता पायी। दिनांक 07.07.2020 को मेरी दीदी के साथ करीबन 06:30 बजे क्लिनिक गई थी डॉक्‍टर ने दीदी को क्लिनिक से बाहर कर दिया और डॉक्‍टर मेरे साथ गंदी हरकत करने लगा मैंने डॉक्‍टर की इस घिनौनी हरकत को घरवालों को बताने के लिए मोबाईल से वीडियो कैमरा ऑन कर दिया डॉक्‍टर हेमंत ने उस दिन भी मेरे साथ गंदी हरकत की। उसके बाद डॉक्‍टर ने दरवाजा खोला और मेरी दीदी अंदर आयी। वहां से जाने के बाद रास्‍ते में मैंने यह बात अपनी दीदी को बताई। आज मैं अपने पापा, मम्‍मी व दीदी के साथ थाने रिपोर्ट करवाने आयी हूं कार्यवाही की जाएं। उक्‍त रिपोर्ट पर से आरोपी के विरूद्ध अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।


 


Popular posts
शहर के वरिष्ठ पत्रकार के परिवार में तीसरी मौत,दो भाईयों के बाद अब बहु की मौत,,,,,, अनेक पत्रकार कोरोना से लड़ रहे हैं जंग
Image
चारों तरफ मौत का तांडव और ऐसे में बेड के सौदागरो की करतूत का सामने आना बेहद शर्मनाक,,,,,, सोशल मीडिया पर वायरल चैट का सच सामने आना चाहिए
Image
ओ साथी रे,,तेरे बिना भी क्या जीना,,,,,, कोरोना से जंग हार गए पति-पत्नी
Image
कोरोना का नया ट्रेंड पूरा परिवार आ रहा है चपेट में,,,,, पूर्व सांसद का पुत्र संक्रमित हुआ,,,,, विद्यापति कॉलोनी में एक ही परिवार की चार महिलाएं पॉजिटिव आई,,,,,,,,, ऋषि नगर और आजाद नगर में भी पूरा परिवार पॉजिटिव,,,,,,,,
Image
सारे रिकॉर्ड टूटे,,,आज 410 पॉजीटिव
Image