आगर में 17 साल बाद कांग्रेस की जीत

आगर सीट पर जीत का स्वाद करीब 17 वर्ष बाद कांग्रेस ने विजयश्री का वरण कर चखा है। इस सीट पर 2003 से लगातार भाजपा जीत रही थी।इस बार विधायक मनोहर ऊँटवाल के निधन के कारण रिक्त हुई इस सीट पर भाजपा ने उनके पुत्र मनोज ऊँटवाल को मैदान में उतारा था।


भाजपा का अभेद किला कहे जाने वाले मालवा क्षेत्र की आगर सीट भी पार्टी के लिए अजेय रही है।2018 के चुनाव में मनोहर ऊँटवाल के हाथों 2490 मतों से हारने के बाद भी विपिन वानखेड़े ने आगर नही छोड़ी।वे मतदातओं से लगातार संपर्क में रहे और नतीजा आज सबके सामने है।


आज संपन्न मतगणना के दौरान 24 राउंड में कांग्रेस के विपिन वानखेड़े को कुल 88,454 मत मिले जबकि मनोज ऊँटवाल को 86507 मत प्राप्त हुवे। इस तरह 1947 मत की बढ़त के अलावा 51 डाक मतपत्र जोड़कर जीत का आंकड़ा 1998 हो गया।आगर सीट से 1998 में कांग्रेस के टिकिट पर रामलाल मालवीय विजय हुवे थे। इस तरह करीब 17 वर्ष बाद कांग्रेस भाजपा के इस गढ़ को भेदने सफल रही। 2003 से यह सीट भाजपा के कब्जे में है। 2003 में रेखा रत्नाकर, 2008 में लालजी राम मालवीय,2013 में मनोहर ऊँटवाल,2014 के उपचुनाव में गोपाल परमार व 2018 के चुनाव में पुनः मनोहर ऊँटवाल भाजपा से विजय हुवे थे।


Popular posts
कोरोना के मरीजों की संख्या में आश्चर्यजनक वृद्धि होने से एक और जहां शहर में दहशत , वहीं दूसरी ओर प्रशासन की कार्यप्रणाली भी संदेह के घेरे में है
Image
लोकायुक्त टीम के 3 अधिकारी और 30 सदस्यों की टीम ने तीन स्थानों पर की कार्रवाई
Image
महाशिवरात्रि पर ऑनलाइन , एप अथवा टोल फ्री नंबर पर प्री बुकिंग करवाई जा सकेगी,,,,प्री बुकिंग 5 मार्च से खुलेगी
Image
बरकतउल्ला विवि कार्य परिषद का निर्णय : संविदा पद से डॉ आशा शुक्ला सेवानिवृत्त कुलपति पद पर नियुक्ति मामले में राजभवन को किसने धोखे में रखा
Image
आज सिर्फ 26 जांच,2 पॉजिटिव
Image