शहर के सभी टोस्ट उद्योगों की जांच के साथ-साथ बेकरी उत्पादों की भी जांच होना चाहिए, प्रशासन की मुहिम स्वागत योग्य,

उज्जैन। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व पार्षद विजय अग्रवाल ने मिलावट के खिलाफ चल रही प्रशासन की मुहिम की सराहना करते हुए मांग की है कि शहर में संचालित होने वाली सभी बेकरी और टोस्ट बनाने वाले उद्योगों  की शुद्धता की जांच होना चाहिए क्योंकि सिर्फ शहर में ही नहीं बल्कि पूरे भारत में उज्जैन शहर से टोस्ट और बेकरी की अन्य आइटम सप्लाई की जा रही है

मासूम लोगों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं टोस व्यवसाई घातक स्क्रीन और घटिया पाम आयल से टोस बनाने की प्रक्रिया जन स्वास्थ्य पर विपरीत असर डाल रही है काली लक्ष्मी के पुजारी अधिक मुनाफे के लिए यह  अमानवीय कृत्य केवल पैसा कमाने के लिए कर रहे हैं बेकरी पर बनाए जाने वाले टोस मासूम  बच्चे खाते हैं नाश्ते में बड़े बुजुर्ग लोग भी खाते हैं यह दरिंदे यह नहीं समझते कि इसके खाने से वह बीमार पड़ सकते हैं लोग अपने मुनाफे के लिए किस तरह लोगों को बीमारियां परोस रहे हैं घटिया स्तर का नमक घटिया स्तर का स्क्रीन अत्यंत घातक पाम ऑयल अगर शुगर मरीज इसे  खा ले तो उसकी जान भी जा सकती है हमारा कहना है कि ठीक प्रकार की सामग्रियों को मिलाकर टोस क्यों नहीं बनाए जा रहे हैं मैं जिला प्रशासन को दबंग जिला कलेक्टर और उनकी पूरी टीम खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन की संयुक्त टीम को बधाई देना चाहता हूं कि उनकी सक्रियता से इस तरह के मौत के सौदागर   का भंडाफोड़ हो रहा है निश्चित रूप से यह समाज के दुश्मन है लोगों की जान माल के दुश्मन है जितनी ठोस कार्यवाही की जा सकती है इस नए कानून के अंतर्गत भी इन पर कार्रवाई की जाना चाहिए बख्शा नहीं जाना चाहिए इनकी   बेक रियों को भी थोड़ा जाना चाहिए क्योंकि यह एक बहुत बड़ा अपराध है और यह सामाजिक अपराध है किसी की जान माल से खेलना किसी के स्वास्थ्य से खेलना सरासर गलत है केवल चालानी कार्रवाई करने से बात बनने वाली नहीं है अगर इन बेकरी ओं पर ठोस कार्रवाई हो


गई तो अन्य बेकरी वाले भी अच्छे से समझ जाएंगे या मिलावट बंद कर देंगे उज्जैन की तमाम बेकरी  की जांच की जाना चाहिए विभिन्न प्रकार के आइटम और एक और घातक केक भी बनाकर बेचे जा रहे हैं बिस्किट भी बनाकर बेचे जा रहे हैं  खुला घातक शिकारी तिल्ली के ठोस मे भी यही मिलावट की जा रही है और यह गाड़ियां लदान होकर प्रदेश में और प्रदेश के बाहर भी सप्लाई किए जा रहे हैं निश्चित रूप से इन सब की जांच की जाना चाहिए वर्षों से यह जहरीला कारोबार फल-फूल रहा है देर से ही सही प्रशासन ने ठोस कार्रवाई की है मैं समस्त संस्थाओं की ओर से उन्हें बधाई देना चाहता हूं किसी प्रकार का समझौता स्वीकार नहीं आगे भी इस तरह की कार्रवाई होगी ऐसा मुझे विश्वास है