श्री महाकालेश्वर के चमत्कारों पर पुस्तक लिखूगां,,,उज्जैन से मेरी विदाई कभी हो ही नहीं सकती-आनन्द शर्मा

 *सिटी प्रेस क्लब द्वारा आयोजित विदाई समारोह में भावुक हुए पूर्व संभागायुक्त* 


 _*उज्जैन से मेरी विदाई कभी हो ही नहीं सकती-आनन्द शर्मा*_ 


 *-उन्होंने कहा कि श्री महाकालेश्वर के चमत्कारों पर पुस्तक लिखूगां*


 *सिटी प्रेस क्लब ने यातायात व्यवस्था सुधारने और श्री महाकालेश्वर मंदिर क्षेत्र में विकास हेतु पत्रकारों के सुझावों पर अमल करने की मांग उठाई* 


 *- _विदाई समारोह नवागत संभागायुक्त, आईजी, डीआईजी, एसपी ने कहा टीम बनाकर सकारात्मक काम करेंगे_* 


उज्जैन। उज्जैन में पत्रकारों के सकारात्मक सहयोग से मैनें अपने कार्यकाल में शहर के विकास का खाका तैयार किया मुझे लगता है कि उज्जैन से मेरी विदाई कभी हो ही नहीं सकती, क्योंकि यह शहर मेरे हृदय में बसा है, और महाकाल के चरणों में ही हमेशा रहूंगा, उक्त उद्गागार पूर्व संभागआयुक्त और वर्तमान में मुख्यमंत्री के सचिव  श्री आनन्द शर्मा ने सिटी प्रेस क्लब द्वारा आयोजित विदाई समारोह में व्यक्त करते हुए बताया कि मैंने श्रीमहाकालेश्वर मंदिर में अनेक चमत्कारों को देखा है और शीघ्र ही इन चमत्कारों का सविस्तार वर्णन करते हुए एक पुस्तक के रूप में अपने अनुभव सांझा करूगा। उन्होंने कहा कि उज्जैन की प्रेस ने कोरोना और श्री महाकालेश्वर की सवारियों के दौरान जो सहयोग दिया उसे भुलाना संभव नहीं है। इस अवसर पर मंच पर मौजूद आई.जी. राकेश गुप्ता, डीआईजी मनीष कपूरिया, पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र शुक्ला, नवागत संभागायुक्त संदीप यादव, जनसंपर्क संयुक्त संचालक श्रीमती रश्मि देखमुख सहित शहर के वरिष्ठ पत्रकारों की मौजूदगी में श्री आनन्द शर्मा का शॉल, पुष्पमाला से स्वागत कर प्रतीक स्वरूप श्री महाकालेश्वर की तस्वीर भेंट की।

विदाई समारोह में आईजी राकेश गुप्ता ने कहा कि कुछ अधिकारियों को लेकर शहर के लोग चाहते है कि यह कब बिदा होगा, कुछ कब आये और कब गए मामूल ही नहीं पढ़ता  लेकिन श्री आनन्द शर्मा जैस अनुभव के धनी और शानदार व्यक्तित्व के अधिकारी जब जाते है तो ऐसा शानदार विदाई समारोह होता है। डीआईजी मनीष कपूरिया ने शेर और शायरी के माध्यम से पुलिस और पत्रकारों की वेदना को व्यक्त करने हुए कहा कि श्रीशर्मा आम आदमी के दर्द को समझने वाले और बेहतर मार्गदर्शन देने वाले अधिकारी है।

पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र शुक्ला ने कहा कि आनन्द शर्मा की उपस्थिति से ही सकारात्मक उर्जा का संचार होने लगता है। तनाव मुक्त करने की उनकी कला से बहुत कुछ सिखने को मिला, नवागत संभागायुक्त ने कहा कि पत्रकारों से बात करने में अभी तक डर लगता रहा लेकिन उज्जैन के पत्रकारों और प्रशासन की टीम को संयुक्त रूप से काम करने हुए देखकर उन्होंने पत्रकारों से कहा कि मुझे भी ऐसा ही सहयोग दें।

कार्यक्रम के संयोजक, सिटी प्रेेस क्लब के अध्यक्ष शैलेन्द्र कुल्मी ने कहा कि उज्जैन के पत्रकारों ने हमेशा अधिकारियों को सकारात्मक सहयोग देकर शहर के विकास के रास्ते खोले है, श्री कुल्मी ने अधिकारियों को शहर की बिगड़ी यातायात व्यवस्था की जानकारी देते हुए इसे दुरूस्त करने की मांग उठाते हुए कहा कि उज्जैन शहर यातायात व्यवस्था में आदर्श स्थापित करें ऐसा काम होना चाहिए। सिर्फ सड़के चौड़ीकरण से काम नहीं चलेगा बल्कि सड़कों पर अवैध अतिक्रमण करने वालों को हटाना होगा। उन्होनें श्री महाकालेश्वर मंदिर क्षेत्र के विकास में पत्रकारों के सुझाव भी शामिल करने की मांग की। 

इस अवसर डॉ. सचिन गोयल, नरेन्द्र सिंह अकेला, विवेक चौरसिया ने भी संबोधित करते हुए कहा कि आनन्द शर्मा शहर के विकास में मिल का पत्थर साबित हुए।

इस मौके पर अतिथियों द्वारा कोरोना काल में अपने प्राणों की परवाह किए बगैर मैदान में डटे रहने वाले अनेक पत्रकारों को कोरोना सेवा सम्मान से सम्मानित किया गया। अंत में आभार रमेशदास ने माना। इस अवसर पर पत्रकार राजेश कुल्मी, कमल चौहान, पं. राजेश जोशी, सचिन कासलीवाल, महेन्द्र सिंह बैस, रवि सेन, उमेश चौहान, सुनील मगरिया, अजय पटवा, सहित 150 से अधिक पत्रकार मौजूद थे। कार्यक्रम की शुरूआत में अतिथियों का स्वागत पुष्पमालाओं से किया गया । शुरूआत में पत्रकार शाहीद भाई ने देशप्रेम ओतप्रोत गीत भी गाया।