क्या उज्जैन में कोरोना से होने वाली मौतों को छुपाया जा रहा है,,,, DGPके ट्वीट ने पोल खोल दी

 उज्जैन ।शहर में कोरोना से होने वाली मौतों को क्या छुपाया जा रहा है यह सवाल गहराता जा रहा है ,वजह यह है कि शहर में अब कोरोना से मरने वालों की सूचनाएं पत्रकारों को लगातार प्राप्त हो रही है लेकिन हेल्थ बुलिटिन में इसका जिक्र ना होने से यह आशंका प्रबल हो गई है कि किसी अदृश्य गाइड लाइन के जरिए शहर में कोरोना से होने वाली मौतों को छुपाया जा रहा है। ताजा मामला पुलिस विभाग के प्रधान आरक्षक भेरूलाल हाड़ा का है जो कि घटिया थाने में पदस्थ है थे और जिला प्रशासन द्वारा जारी 19मार्च के हेल्थ बुलेटिन में कोरोना पॉजिटिव घोषित किया गया था। 20 मार्च को उनके निधन की खबर सामने आई लेकिन हेल्थ बुलिटिन में इसका कोई जिक्र नहीं किया गया, आश्चर्य की बात यह भी है कि मध्य प्रदेश के डीजीपी ने इस निधन को कोरोना से मौत मानते  हुए प्रधान आरक्षक को ट्विटर पर श्रद्धांजलि तक दे दी। इस एक प्रकरण ने जो कि स्वयं जिला प्रशासन से जुड़ा है और बेहद संवेदनशील मामला है, प्रशासन के प्रेस नोट की  पोल खोल कर रख दी है। कोरोना से होने वाली मौतों को शुरुआत में भी छुपाया गया था जिसके कई प्रमाण सामने आए और अब फिर से मौतों को छुपाया जा रहा है, ऐसा क्यों किया जा रहा है यह समझ से परे है।