जयगुरुदेव नाम धुनि से ही होगी मुसीबतों में रक्षा, आप बोलकर तो देखो-महाराज जी


उज्जैन (मप्र)


कोरोना महामारी से लोगों को बचानें के लिए बराबर शाकाहार,सदाचार,नशामुक्त रहने की सीख दी रहे पूज्य संत उमाकान्त जी महाराज ने जयगुरुदेव नाम की महिमा का वर्णन करते हुए सभी धर्म,जाती,भाषा के मानने वालों से ये प्रार्थना करी कि ये जयगुरुदेव नाम जो हमारे गुरु महाराज का जगाया हुआ है और आने वाले सतयुग में भी रहेगा और इस वक्त कलयुग में अपने पूरे पावर में है ताकत में है। इस जयगुरुदेव नाम की ध्वनि मुसीबत में तकलीफ में मददगार साबित होगी ।


जयगुरुदेव नाम से होगी जीवों की रक्षा ।


महाराज जी ने बताया जयगुरुदेव नाम सन 1960 में हमारे गुरु महाराज द्वारा जगाया गया था ,तब से बराबर चलता आ रहा है।अब इस समय पर इस जयगुरुदेव नाम मे उस मालिक की पूरी ताकत भरी हुई है।इसलिए इस मुसीबत के समय मे इस जयगुरुदेव नाम को बराबर बोलना है,लोगों से बुलवाना है।जयगुरुदेव नाम का प्रचार करना है।जयगुरुदेव नाम एक ऐसा नाम है जैसे कहा गया है वशीकरण मंत्र है ।तो ये वश में करने वाला नाम है।  जैसे कोई आपको मारने के लिए आ रहा है तो आप प्रेम से बोल दिए,मुस्कुरा के बोल दिए,तो वो आपसे प्रभावित हो गया तो फिर हथियार नहीं चलाता ।
ऐसे ही ये जयगुरुदेव नाम वश में करेगा।ये काल कर्म की जो बाज़ी चल रही है।


जयगुरुदेव से होगा फायदा 


महाराज जी ने कहा आप जयगुरुदेव नाम बोल करके तो देखो,लोगो को बता के तो देखों,जब फायदा होने लगेगा,तो अपने आप लोगों को बताएंगे,समझाएंगे लोगों को,चिल्ला-चिल्ला कर बोलेंगे। तो जयगुरुदेव नाम की ध्वनि बराबर चलती रहनी चाहिए।


मांसाहार हो जाएगा जानलेवा


महाराज जी ने लोगों से आह्वान किया कि हमेशा शाकाहारी रहना, सपने में भी मांस,मछली,अंडा,शराब को छूना मत।ये मांसाहार विनाश का कारण बनता जा रहा है। और अगर लोग नही माने शाकाहारी नही हुए तो ये मांस,मछली,अंडा,शराब जानलेवा हो जाएगा ।


जयगुरुदेव


Popular posts
बेटे के वियोग में गीत बनाया , बन गया प्रेमियों का सबसे अमर गाना
Image
ये दुनिया नफरतों की आखरी स्टेज पर है  इलाज इसका मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं है ,मेले में सफलतापूर्वक आयोजित हुआ मुशायरा
पूर्व मंत्री बोले सरकार तो कांग्रेस की ही बनेगी
Image
नवनियुक्त मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव को उज्जैन तथा अन्य जिलों से आए जनप्रतिनिधियों कार्यकर्ताओं और परिचितों ने लालघाटी स्थित वीआईपी विश्रामगृह पहुंचकर बधाई और शुभकामनाएं दी
Image
उज्जैन के अश्विनी शोध संस्थान में मौजूद हैं 2600 साल पुराने सिक्के
Image