कोरोना मरीजों के इलाज में गंभीर लापरवाही को प्रशासन ने माना, डॉक्टर हुए निलंबित

उज्जैन-
 जिला प्रशासन ने मान लिया है कि कोरोना वायरस से ग्रसित मरीजों का समय पर ना तो इलाज हो रहा है और न ही उन्हें समय पर सुविधाएं प्राप्त हो रही है। इसकी पुष्टि मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी डॉ अनसूया गवली द्वारा जारी प्रेस नोट से होती है। गवली ने डॉक्टर आरसी परमार सिविल सर्जन उज्जैन को पद से हटा दिया है। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि सिविल सर्जन अपने कर्तव्यों का पर्याप्त सतर्कता से पालन नहीं कर रहे थे। उन्होंने यह भी आरोप लगाया है कि 2 अप्रैल को संदिग्ध कोरोना ग्रसित मरीज को समय पर सुविधाएं प्राप्त नहीं हो पाई एवं घटना की सूचना संबंधित अधिकारी एवं जिला प्रशासन को नहीं दी गई। उनका यह कृत्य गंभीर और घोर  लापरवाही माना गया है। डॉक्टर अनुसूया ने बताया कि शासकीय माधव नगर चिकित्सालय कोरोना अस्पताल के रूप में चिन्हित किया गया है और डॉक्टर आर पी परमार को इसका प्रभारी बनाया गया था। इसके बावजूद उनके द्वारा वेंटिलेटर का प्रबंध पर्याप्त रूप से नहीं किया जाना पाया गया और इसकी सूचना भी संबंधित अधिकारी एवं जिला प्रशासन को नहीं दी गई ।कोरोना संकट के दृष्टिगत उनकी यह लापरवाही क्षमा योग्य नहीं होने से उन्हें सिविल सर्जन के पद से तत्काल हटाकर डॉक्टर पी एन वर्मा को सिविल सर्जन का प्रभार सौंपा गया है।


Popular posts
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image
122 साल पुराने उज्जैन के नक्शे को आधार बनाकर,,, तालाबों की जमीन हड़पने वालों पर शिकंजा कसेगा,,, उज्जैन जिलाधीश के निर्देश से जमीन पर कब्जा करने वालों में हड़कंप मचा
Image
उज्जैन के विश्वप्रसिद्ध महाकाल मंदिर परिसर में बिना अनुमति के युवती द्वारा वीडियो बनाकर वायरल किए जाने पर प्रकरण पंजीबद्ध
Image
रावण दहन भी अब ऑनलाइन
Image
अपराधियों के खिलाफ उज्जैन पुलिस ने जनता से मदद मांगी,,,,जनता से शांतिदूत हेल्पलाइन से जुड़ने की अपील ,,अपराधिक गतिविधियों के संबंध में दे सकते हैं,,, सूचना सूचनाकर्ता का नाम रखा जावेगा गोपनीय
Image