क्या कानून का डंडा सूरत देखकर दंड देता है,,,,,

हम बोलेंगे तो बोलोगे के बोलता है,,,,,
उज्जैन।क्या कानून का डंडा सूरत देखकर दंड देता है,,,,, यदि इस सवाल का जवाब उज्जैन में खोजा जाए तो शायद जवाब   हां,,,,,,,, में आएगा क्योंकि मध्यप्रदेश का यह अनोखा शहर है जहां रसूखदार व्यक्ति को अघोषित रूप से कोरोना फैलाने का लाइसेंस दिया गया ।यह व्यक्ति डॉ वीके महाडिक है यह वही डॉक्टर है जिसने आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज का डायरेक्टर होने का और राजनीतिक पहुंच का फायदा उठाया और 
लॉकडाउन के बावजूद अपने भाई को इंदौर से उज्जैन लाकर न सिर्फ इलाज करवाया बल्कि  कोराना की चेन को बनने में सहयोग दिया ।डॉक्टर महाडिक की वजह से ही उनके भतीजे सहित अस्पताल के स्टाफ की 2 नर्सों के साथ लगभग 5 लोगों को कोरोना की पुष्टि हो चुकी है जबकि इनके संपर्क में आने वालों का कोई रिकॉर्ड नहीं है । घर से आटा लेने निकले व्यक्ति को अस्थाई जेल भेजने वाले सख्त ? ? ? प्रशासन की आंखें डॉक्टर महाडिक को देखकर बंद हो जाने से स्पष्ट है कि कानून का डंडा सूरत देखकर ही दंड देता है।                 आज से यह कॉलम शुरू किया जा रहा है, जिसका मकसद व्यवस्थाओं  में सुधार लाना है।


Popular posts
बेटे के वियोग में गीत बनाया , बन गया प्रेमियों का सबसे अमर गाना
Image
ये दुनिया नफरतों की आखरी स्टेज पर है  इलाज इसका मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं है ,मेले में सफलतापूर्वक आयोजित हुआ मुशायरा
उज्जैन के अश्विनी शोध संस्थान में मौजूद हैं 2600 साल पुराने सिक्के
Image
पूर्व मंत्री बोले सरकार तो कांग्रेस की ही बनेगी
Image
नवनियुक्त मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव को उज्जैन तथा अन्य जिलों से आए जनप्रतिनिधियों कार्यकर्ताओं और परिचितों ने लालघाटी स्थित वीआईपी विश्रामगृह पहुंचकर बधाई और शुभकामनाएं दी
Image