प्राइवेट अस्पताल के हाल बेहाल,,,,,,,,,जांच करने पहुंचे तो नहीं मिला स्टॉफ

गुरु नानक अस्पताल की आकस्मिक जांच की गई, मेडिकल एवं पैरामेडिकल स्टाफ अनुपस्थित पाए गए, 12 घंटे में ड्यूटी पर उपस्थित होने की चेतावनी
 
उज्जैन  ।कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी के द्वारा विभिन्न निजी अस्पतालों में आकस्मिक चिकित्सा एवं अन्य गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए दिए गए   निर्देशो के अनुपालन में नर्सिंग होम में चिकित्सक      एवं स्टाफ  को मौजूद रहने के निर्देश दिए गए थे।  निर्देशों के अनुपालन में मेडिकल एवं पैरामेडिकल स्टाफ नर्सिंग होम में उपस्थित रहते हैं या नहीं इसकी जांच के लिए एक दल गठित किया गया है । अनियमितता पाए जाने पर अपर कलेक्टर विदिशा मुखर्जी  को  विभिन्न अधिनियमों के  तहत   कार्रवाई करने के  अधिकार   दिए गए हैं।
         आज 28 अप्रैल को दल की सदस्य श्रीमती विनीता राय एवं कार्यपालन यंत्री श्री  के सी पाटीदार ने गुरु नानक हॉस्पिटल फ्रीगंज का आकस्मिक निरीक्षण किया तथा पाया कि यहां पर लंबे समय से मेडिकल एवं पैरामेडिकल स्टाफ  डयूटी से अनुपस्थित है ।उनके द्वारा उपस्थिति पंजी का निरीक्षण एवं सत्यापन भी किया गया।


       निरीक्षण टीप के आधार पर अपर कलेक्टर एवं सक्षम अधिकारी श्रीमती विदिशा मुखर्जी ने गुरुनानक अस्पताल के डॉक्टर मोईन खान ,नर्स सुश्री रीना चौहान, प्रीती बंसल, सुनीता माली ,रानी बड़ोदिया तथा वार्ड बाय भेरूलाल को नोटिस जारी कर आगामी 12 घंटे में अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं . साथ  ही  चेतावनी  दी   गई  है  कि ड्यूटी पर उपस्थित नही  होने की स्थिति में  उक्त स्टाफ के विरुद्ध आवश्यक सेवा  संधारण  तथा  विच्छिनता  निवारण अधिनियम 1979, डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005,  तथा एपिडेमिक डिजीज एक्ट 1897 की  धाराओं  के तहत दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी.


Popular posts
अखाड़ा परिषद् अध्यक्ष नरेंद्र गिरी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत
Image
देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले वीर जवानों को श्रद्धांजलि
स्ट्रांग रूम का निरीक्षण करने के लिए राजनीतिक दल आमंत्रित 
फेसबुक गैंग के गुंडे दुर्लभ कश्यप की हत्या
Image
सरकारी जमीन पर तान दी मल्टी, टीएनसीपी ने निरस्त की अनुमति, नगर निगम ने भ्रष्टाचार की सीमा तोड़ी,,, बिल्डर ने शासकीय अधिकारी एवं इंजीनियरों से सांठगांठ कर अवैध मल्टी का निर्माण करने पर नगर निगम इंजीनियर मीनाक्षी शर्मा, भवन अधिकारी रामबाबू शर्मा, नगर निवेशक मनोज पाठक पर धारा 420, 467, 468, 471, 120-बी भादवी एवं भ्रष्टाचार का प्रकरण दर्ज करने की मांग की थी
Image