प्रशासन ने खोजें कोरोना के 5 मरीज, 100000 परिवारों तक पहुंची थी टीम

सर्वे टीम की मेहनत रंग लाई 
26 संदिग्ध मरीजों की पहचान की गई इनमें से 05  पॉजिटिव  निकले


पॉजिटिव मरीजो की संख्या बढ़ना  चिंता का विषय नही 


उज्जैन  उज्जैन शहर में कोरोनावायरस से लड़ाई में  अच्छे  संकेत मिलते  दिख  रहे  है ।उज्जैन शहर में सर्वे के लिए लगाई गई 376  टीम्स   प्रभावित क्षेत्र  में  प्रत्येक दरवाजे पर दस्तक दे रही है ,लोगों से पूछ रही है कि उन्हें सर्दी जुकाम बुखार तो नहीं  है ।और यदि है तो ऐसे व्यक्ति की तुरंत जांच करवाई जा रही है । यह टीम की मेहनत का नतीजा है कि लगभग 1 सप्ताह में उन्होंने  97189 परिवारों तक अपनी पहुंच बना ली है ।    यही नहीं इस टीम की मेहनत के कारण विभिन्न क्षेत्रों से कुल 26 संदिग्ध कोरोना मरीजो  की पहचान की गई और उनके सैंपल जांच के लिए भेजे गए ।इनमें से 05 व्यक्ति कोरोनावायरस पॉजिटिव  निकले हैं। जो  पांच  व्यक्ति  कोरोना  पॉजिटिव पाए गए हैं उनमें 40 वर्षीय महिला  प्रकाशनगर  से 47 वर्षीय महिला लक्ष्मी बाई मार्ग से, 62 वर्षीय पुरुष व 23  वर्षीय  महिला दोनों  बेगमपुरा से तथा 40 वर्षीय पुरुष पटेल नगर से शामिल ।  
      सर्वेक्षण टीम  के प्रयास से ही कुछ नए क्षेत्र की पहचान हुई है जहां कोरोनावायरस  पॉजिटिव मरीज घर में  छुपे  बैठे थे और उपचार नहीं करवा रहे थे  ।इन सभी क्षेत्रों पर अब प्रशासन की नजर है और शहर में  कोरोनावायरस के संक्रमण को रोकने के लिए पूरी ताकत झोंक दी गई है।
  
          कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने सर्वेक्षण टीम जिसमें विभाग महिला एवं बाल विकास विभाग ,आशा कार्यकर्ता,  चिकित्सा विभाग के कर्मचारी ,नगर निगम के कर्मचारी ,विभिन्न मुस्लिम क्षेत्र में मुस्लिम समुदाय के चिकित्सक को   प्रेरित  करके  कोरोना   की  लड़ाई  के  कार्य  मे  लगाया  , उनमें  जोश   भरा ।  टीम द्वारा  घर-घर जाकर लोगों से पूछताछ की जा रही  है । कलेक्टर ने कहा कि इस तरह से मरीजों की पहचान होती  रहती है तो यह निश्चित रूप से  कोरोना  कि लड़ाई में जीत की ओर एक कदम साबित होगा ।


     कलेक्टर ने कहा कि पॉजिटिव मरीजों की संख्या  बढ़ना  कोई चिंता का विषय नहीं है ।चिंता तो तब है जब लोग घरों में छुप कर बैठे रहे और  कोरोना  से  संक्रमित  होते रहे ।कलेक्टर ने कहा कि ऐसे लोगों की तुरंत पहचान कर उनका सैंपल आरआर टीम द्वारा लिए जा रहे हैं। गंभीर मरीजों को अस्पताल तक लाकर उनको भर्ती कराया जा रहा है तथा उनकी जांच की जा रही है। समय पर पहचान से मरीजों को क्रिटिकल होने से रोका जा सकेगा ।
   
         सर्वेक्षण टीम प्रभारी अपर कलेक्टर श्रीमती विदिशा मुखर्जी ने बताया कि उज्जैन शहर में कुल 376 टीम सर्वेक्षण के कार्य में लगी है और प्रत्येक टीम ढाई सौ घरों में जाकर लगातार लोगों के घरों में दस्तक देकर उनके स्वास्थ्य की जानकारी एकत्रित कर रही है ।टीम को 4 दिन में ढाई सौ घरों में सर्वेक्षण का लक्ष्य दिया गया है और पांचवे दिन ही  विश्राम दिया जाता है ।  इसके  बाद फिर इन  टीमो को सर्वेक्षण  के कार्य में लगाया जाता है ।इस तरह निरंतर लोगों के संपर्क में रहकर हर एक व्यक्ति पर नजर रखी जा रही है । उन्होंने बताया कि बड़नगर  के 18  वार्डों के लिए लिए भी 40 टीम तैयार कर दी गई है और वहां भी सर्वे का कार्य प्रारंभ हो गया है ।


Popular posts
जिले में आज से ही लेफ्ट राइट के नियम का पालन करते हुए शाम 7:00 बजे तक खुली रहेगी दुकाने ,,,,, धार्मिक स्थल नहीं खुलेंगे,,,,,ब्लैक फगस के 89 मरीज हैं जिनका उपचार चल रहा है,,,,,,,कलेक्टर ने कहा कि अब आगे से कोरोना के जितने भी प्रकरण पॉजिटिव आएंगे उन सभी को होम क्वॉरेंटाइन के स्थान पर कोविड केयर सेंटर में रखा जाएगा
Image
आज 11 जून से ही संपूर्ण बाजार खुलेगा लेफ्ट राइट का नियम तत्काल प्रभाव से समाप्त
Image
आरक्षक का सनसनी खेज अश्लील वीडियो हुआ वायरल, तड़ीपार बदमाश भी है शामिल,
Image
चौबीस घंटे पर्दे के पीछे रहकर कर रही है टीम डाटा कलेक्शन का काम*
Image
पटवारियों की दुर्घटना में मौत के बाद एक्सिस बैंक ने उनके नामिनी को दिए 20 20 लाख रुपए, जिलाधीश ने सोपे चेक
Image