समय पर अस्पताल पहुंचते बच सकती थी दो जिंदगी , शहर के नागरिक अभी भी कोरोना को हल्के में ले रहे हैं

उज्जैन। शहर में कोरोना पॉजिटिव 3 मरीजों की मौत से एक बार फिर शहर में दहशत का माहौल है इन तीनों मौतों में से एक नियाज खान अस्पताल का ही कर्मचारी था इसने 5 दिन तक रोग छुपाया और विमान होने के बावजूद स्वास्थ्य कर्मियों को खाना बाद में कार्य करता रहा लास्ट स्टेज पर पहुंचने के बाद अस्पताल में भर्ती हुआ जिस दिन अस्पताल में भर्ती हुआ उसी दिन इसकी मौत हो गई यहां तक कि इसकी मौत की खबर सुनकर इसकी पत्नी की भी मौत हो गई थी इसी प्रकार बहादुरगंज निवासी सरला परमार भी अपनी बीमारी छुपाती रही और लास्ट स्टेज पर अस्पताल पहुंची 27 अप्रैल को वह भर्ती हुई और इसी दिन उसकी मौत हो गई इस तरह अब 8 मौतें ऐसी हुई जो अस्पताल में भर्ती होने की कुछ समय बाद हुई दैनिक मालूम क्रांति ने इस संबंध में स्वास्थ्य अधिकारी एचपी सोनानीया से चर्चा की उन्होंने बताया की नियाज खान और सरला परमार यदि समय पर अस्पताल में भर्ती होते तो शायद उनकी जान बच जाती उन्होंने शहर के नागरिकों से अपील की है कि कोरोना के लक्षण दिखाई देने पर तत्काल अपना इलाज शुरू करवाएं जिससे जान का खतरा डाला जा सके और स्वयं तथा आस-पड़ोस के लिए खतरा ना बने, उन्होंने कहा कि आज जिन तीन मरीजों की मौत  कोरोना से होने की पुष्टि हुई है इनमें से दो जाने बचाई जा सकती थी।


Popular posts
जिले में आज से ही लेफ्ट राइट के नियम का पालन करते हुए शाम 7:00 बजे तक खुली रहेगी दुकाने ,,,,, धार्मिक स्थल नहीं खुलेंगे,,,,,ब्लैक फगस के 89 मरीज हैं जिनका उपचार चल रहा है,,,,,,,कलेक्टर ने कहा कि अब आगे से कोरोना के जितने भी प्रकरण पॉजिटिव आएंगे उन सभी को होम क्वॉरेंटाइन के स्थान पर कोविड केयर सेंटर में रखा जाएगा
Image
आज 11 जून से ही संपूर्ण बाजार खुलेगा लेफ्ट राइट का नियम तत्काल प्रभाव से समाप्त
Image
पारस जैन और मंत्री डॉ मोहन यादव ने मुख्यमंत्री से कहा की वैवाहिक आयोजनों के लिए वर पक्ष को 100 एवं वधु पक्ष को 100 व्यक्तियों की अनुमति प्रदान की जाए
Image
पटवारियों की दुर्घटना में मौत के बाद एक्सिस बैंक ने उनके नामिनी को दिए 20 20 लाख रुपए, जिलाधीश ने सोपे चेक
Image
चौबीस घंटे पर्दे के पीछे रहकर कर रही है टीम डाटा कलेक्शन का काम*
Image