आबकारी अधिनियम में आरोपी को भेजा जेल

    राजगढ। मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी श्री गोपेश गर्ग राजगढ ने थाना सुठालिया के अपराध क्रमांक 258/20 में धारा 34(2) आबकारी एक्ट में बगैर लायसेंस कब्जे में 60 लीटर शराब रखने वाले अभियुक्त कमल पिता हरिचन्द्र निवासी परलापुरा सुठालिया जिला राजगढ का जमानत आवदेन खारिज कर जेल भेज दिया है।


    घटना का संक्षेप में विवरण इस प्रकार है सुठालिया पुलिस को मुखबिर द्वारा सूचना मिली कि एक व्यक्ति गिन्दौरहाट तथा बाल्यांपुरा का रास्ता इन्दर सिहं भील के कुआ के पास दो प्लास्टिक की केन में शराब लिये बैठा है। उक्त सूचना पर जब पुलिस बल मुखबिर द्वारा बताये स्थान पर पंहुचा तो मुखबिर द्वारा बताये हुलिये का एक व्यक्ति अपने पास सफेद रंग की दो प्लास्टिक की केन लिये बैठा दिखा जो पुलिस को आता देखकर भागने का प्रयास करने लगा जिसे घेराबंदी कर पकडा था। 


    पुलिस द्वारा आरोपी से नाम पता पूछने पर उसने अपना नाम कमल पिता हरिचन्द प्रजापति निवासी परलापुरा सुठालिया का होना बताया । आरोपी के पास रखी दोनों केने एक 40 लीटर क्षमता की एवं एक 20 लीटर क्षमता की थी, जिसमें तरल पदार्थ भरा हुआ था। दोनों केनों में कुल शराब 60 लीटर होना पाया गया था। आरोपी से शराब रखने एवं बेचने का लाईसेंस चाहा गया तो नही होना बताया। आरोपी का यह कृत्य धारा 34(2) आबकारी एक्ट का दण्डनीय होना पाया जाकर अपराध कायम किया गया। अभियुक्त को गिरफ्तार कर दिनांक 4 जुलाई को न्यायिक अभिरक्षा में पेश किया गया था। अभियुक्त कमल ने न्यायालय के समक्ष जमानत आवेदन प्रस्तुत कर जमानत की मांग की थी। 


 जिस पर अभियोजन की ओर से सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी श्री राजेश कुमार शाक्य द्वारा ने न्यायालय के समक्ष तर्क प्रस्तुत कर जमानत का विरोध किया । अभियोजन कहानी एवं एडीपीओ श्री शाक्य के तर्कों से सहमत होते हुये माननीय न्यायालय ने आरोपी की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।


Popular posts
बेटे के वियोग में गीत बनाया , बन गया प्रेमियों का सबसे अमर गाना
Image
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image
11 वर्षो से महाकालेश्वर से बोरेश्वर महादेव की यह यात्रा अनवरत जारी है
इस स्वतंत्रता दिवस, चलिए प्लास्टिक से होते हैं स्वतंत्र
Image
वदतु संस्कृतं, जयतु भारतं,,,,,,,,, संस्कृत एवं भारतीय संस्कृति को समूचे विश्व में फैलाना है, महर्षि पाणिनि संस्कृत विश्वविद्यालय का प्रथम दीक्षांत समारोह सम्पन्न,
Image