दुराचारी ने फिर दिखाया कोरोना संक्रमण का भय

    राजगढ। माननीय न्यायालय विशेष न्यायाधीश पाॅक्सो एक्ट श्रीमति अंजली पारे राजगढ ने थाना राजगढ के अपराध क्रमांक 124/2019 धारा 363, 366, 376(2) भादवि एवं 5/6 पाॅक्सो एक्ट में नाबालिग अभियोक्त्री अपह्रत करने एवं बलात्कार करने के आरोपी पीरूलाल का जमानत आवेदन निरस्त कर दिया गया है।


          अभियोजन कहानी संक्षेप में इस प्रकार है कि फरियादी द्वारा पुलिस थाना राजगढ में इस आशय की रिपोर्ट लेख कराई कि दिनांक 19 मार्च 2019 को फरियादी मजदूरी करने गांव में गया हुआ था। जब शाम को घर आया तो पत्नि ने बताया कि अभियोक्त्री बिना बताये कही चली गई है और घर पर नही आई है। अभियोक्त्री को तलाश करने परन्तु वह नहीं मिली। जिस पर अपराध की कायमी कर विवेचना प्रारंभ की गई। विवेचना के दौरान अभियोक्त्री को राजगढ से दस्तयाब कर बयान दर्ज करने के उपरांत प्रकरण में आवश्यक धाराओं का इजाफा किया गया। 


 


         अभियुक्त पीरूलाल ने न्यायालय के समक्ष जमानत अर्जी प्रस्तुत कर निवेदन किया कि वर्तमान में कोनोना वायरस का संक्रमण तेजी से बढ रहा है और यदि वह न्यायिक अभिरक्षा में जेल में निरूद्ध रहता है तो जेल में संक्रमण होने का खतरा है। इसके अलावा अभियुक्त ने पीडित बालिका के परिवार वालों से दुश्मनी होने और दुश्मनी के कारण झूठी रिपोर्ट लिखायी जाकर झूठा फसाया गया है, बतलाते हुए जमानत की मांग की थी। जिस पर प्रकरण में विशेष लोक अभियोजक श्री आलोक श्रीवास्तव द्वारा जमानत का विरोध करते हुए तर्क किया गया कि अभियुक्त नाबालिग बालिका को बहला-फुसलाकर ले गया था और उसे अपने साथ करीबन 4 माह तक रखा और उस बीच आरोपी पीरू ने कई बार नाबालिग बालिका के साथ शारीरिक संबंध बनाये है। जेल में समय-समय पर सेनेटाईजेशन किया जा रहा है साथ ही कोविड-19 की गाईडलाईन का पूर्णतः पालन किया जा रहा है। इस कारण किसी भी प्रकार के संक्रमण फैलने की कोई भी आशंकाएं नहीं है। अतः अभियुक्त का जमानत आवेदन निरस्त किया जावे। 


   न्यायालय ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद आरोपी पीरूलाल के जमानत आवेदन को निरस्त कर दिया है।


Popular posts
122 साल पुराने उज्जैन के नक्शे को आधार बनाकर,,, तालाबों की जमीन हड़पने वालों पर शिकंजा कसेगा,,, उज्जैन जिलाधीश के निर्देश से जमीन पर कब्जा करने वालों में हड़कंप मचा
Image
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
उज्जैन के अश्विनी शोध संस्थान में मौजूद हैं 2600 साल पुराने सिक्के
Image
उज्जैन के विश्वप्रसिद्ध महाकाल मंदिर परिसर में बिना अनुमति के युवती द्वारा वीडियो बनाकर वायरल किए जाने पर प्रकरण पंजीबद्ध
Image