शराब का ठेकेदार 29 जुलाई तक 18 . 5 करोड रुपए जमा नहीं कर पाने के कारण शहर में चर्चा का विषय बना

उज्जैन । मास्क नहीं पहनने वालों को जेल भेजने वाला प्रशासन आखिरकार शराब माफियाओं पर क्यों मेहरबान है? चर्चा यह है कि जितनी शक्ति शहर के आम नागरिकों पर प्रशासन दिखाता है इतनी शक्ति प्रभावशाली लोगों पर क्यों नहीं दिखाता , उज्जैन जिले में शराब का ठेका लेने वाली फर्म 18.5 करोड़ रुपये जमा करने मे विफल रही, विभागीय सूत्रों के अनुसार, वर्तमान लाइसेंसधारी समृद्धि ट्रेडर्स को 4 जुलाई को 286.61 करोड़ की दर से उज्जैन जिले के लिए शराब का ठेका दिया गया था। निविदा की शर्तों के अनुसार, ठेकेदार की फर्म ने अग्रिम अनुबंध राशि का 5 प्रतिशत लाइसेंस शुल्क के रूप में दिया जाना था और शेष राशि सात सात दिन में 20- 20% और शेष राशि 60 प्रतिशत 14 दिन में भुगतान किया जाना था। सूत्रों ने बताया कि बैंक ने पहले 14 दिनों में देय बैंक गारंटी का 50 प्रतिशत भुगतान किया लेकिन बैंक गारंटी की शेष 50 प्रतिशत राशि का भुगतान करने में विफल रही, जो कि बैंक गारंटी राशि जमा करने की 29 जुलाई अंतिम तिथि थी। सूत्रों के मुताबिक स्थानीय अधिकारियों ने फर्म को 3 दिनों की अनुग्रह अवधि का लाभ दिया। सूत्रों ने आरोप लगाया कि फर्म ने 4 और 5 अगस्त को दो और दिनों की याचना की, और बताया कि बैंक गारंटी राशि का 50 प्रतिशत जमा करने को सहमत है, जिसकी राशि लगभग 18.50 करोड़ रुपये है, जबकि अधिकारियों ने विवेकाधीन शक्तियों का उपयोग कर फर्म को दो और दिन प्रदान किए और तदनुसार फर्म को 7 अगस्त (शुक्रवार) तक बकाया बैंक गारंटी जमाकरना थी । एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "अगर फर्म ठेके की शर्त के मुताबिक 18 .50 करोड़ों रुपए बैंक ग्यारनटी के जमा नहीं कर पाती है, तो इसका अनुबंध तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दिया जा सकता है।" , लेकिन सूत्रों के अनुसार शराब ठेकेदार ने शनिवार तक उक्त राशि जमा नहीं करवाई, सूत्रों के मुताबिक उसे सोमवार तक राशि जमा कराने की छूट दी गई है, जो आश्चर्यजनक है, मास्क नहीं पहनने वालों और बैंक की छोटी-छोटी किस्ते जमा नहीं करवाने वालों पर सख्त कार्रवाई करने वाल जिला प्रशासन द्वारा शराब माफियाओं को छूट देना चर्चाओं में है, यदि वर्तमान शराब अनुबंध को समाप्त कर दिया जाता है तो आबकारी विभाग फिर से नए सिरे से निविदा को वापस बुलाएगा और तब तक वह खुद ही दुकानें चलाएगा। उज्जैन जिले में, 141 शराब की दुकानें हैं जिनमें 37 विदेशी शराब की दुकानें और 104 काउंटी निर्मित शराब की दुकानें शामिल हैं। शराब के ठेके के चालू वित्त वर्ष के दौरान यह दूसरा उदाहरण बन सकता है। महाकाली ट्रेडर्स को वर्ष 2020-2021 के लिए शराब ठेके के लिए अनुबंध किया गया था और उन्हें 1 अप्रैल से काम शुरू करना था, लेकिन कोरोना लॉकडाउन के मद्देनजर, अनुबंध को निष्पादित नहीं किया जा सका और नए सिरे से निविदाएं आमंत्रित की गईं। सूत्रों ने बताया कि उज्जैन वह जिला है, जहां एकाधिकार व्यवसाय को बढ़ावा दिया जाता है, लेकिन स्थानीय लाइसेंसधारी ने सिंडिकेट का गठन किया और दो बाहर के सहयोगियों को भी शामिल किया।


Popular posts
सेक्स वर्कर्स को गिरफ्तार या परेशान न करे,,,अपनी मर्जी से प्रॉस्टीट्यूट बनना अवैध नहीं है,,वेश्यालय चलाना गैरकानूनी है ,,,, सुप्रीम कोर्ट
Image
जिस रेल लाइन को कांग्रेस सरकार में 1975 में उखाड़ फेंका अब भाजपा सरकार ने वहां नई रेल लाइन का काम शुरू किया
Image
जो कभी सिंधिया घराने का महल था अब उज्जैन में वहा हेरिटेज होटल बनाने की योजना है।
Image
प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायतों के चुनाव घोषणा,पंचायत क्षेत्र के लिए आचार संहिता आज से लागू
Image
अभिनेत्रिया जिन्होंने पर्दे पर वैश्या का किरदार निभाने के लिए अपने रोल में जान फूंक दी
Image