कलेक्ट्रेट का कर्मचारी, कलेक्टर बंगले का फोन रिसीवर कर्मी, नगर निगम कर्मी, बैंक ऑफ इंडिया के मैनेजर सहित 8 शासकीय कर्मचारी, तीन पुलिसकर्मी और d-mart का कैश काउंटर पर कार्यरत कर्मी पॉजिटिव आया, पॉजिटिव आने वालों में विक्रम विश्वविद्यालय का रिटायर्ड प्रोफेसर भी शामिल

उज्जैन। आज फिर कोरोना का कहर उज्जैन पर टूटा । 715 जांच में 46 पॉजिटिव रिपोर्ट आई इनमें से 42 पॉजिटिव उज्जैन शहर के हैं, आज पॉजिटिव आने वालों में 8 शासकीय सेवक, तीन पुलिसकर्मी ,एक स्टूडेंट ,खाचरोद का प्रसिद्ध बिल्डर , बैंक मैनेजर सहित अनेक व्यापारी चपेट में आए हैं. भैरवगढ़ जेल में बंद एक कैदी भी संक्रमित आया है . हामु खेड़ी में रहने वाला 28 वर्षीय युवक कलेक्टोरेट में ई गवर्नेंस का काम देखता है ।वही नागझिरी में रहने वाला 50 वर्षीय कोरोना पॉजिटिव कलेक्टर बंगले पर फोन अटेंड करता है, यह होमगार्ड का कर्मी है ।इसके अतिरिक्त गौतम मार्ग निवासी 35 वर्षीय युवक, क्षीरसागर निवासी 39 वर्षीय, महिला बैंक ऑफ इंडिया कॉलोनी में रहने वाले 52 वर्षीय और 33 वर्षीय पुरुष ,अलकापुरी में रहने वाले 52 वर्षीय पुरुष, ग्रैंड होटल परिसर में रहने वाले 45 वर्षीय पुरुष, शासकीय सेवक है। बैंक आफ इंडिया कॉलोनी में रहने वाले 52 वर्षीय पुरुष बैंक ऑफ इंडिया के जोनल ऑफिस में मैनेजर के पद पर कार्यरत है। वही 33 वर्षीय युवक भी बैंक ऑफ इंडिया में कर्मचारी है । तात्या टोपे मार्ग पर रहने वाले 58 वर्षीय पुरुष, विक्रम विश्वविद्यालय में प्रोफेसर थे और उन्होंने अनेक पुस्तकें लिखी है वर्तमान में उन्होंने वीआरएस लिया है। ग्रैंड होटल परिसर में रहने वाले 45 वर्षीय पुरुष स्वास्थ्य विभाग में निरीक्षक के पद पर है ।आज पॉजिटिव आने वालों में d-mart पर कैश काउंटर पर काम करने वाला 25 वर्षीय युवक जो कि ग्राम करोहन में रहता है ,पॉजिटिव आया है। शहर के नामी पत्रकार जो कि बहादुरगंज में रहते हैं उनकी रिपोर्ट पुनः पॉजिटिव आई है ।पुनः पॉजिटिव रिपोर्ट आने वालों में एक डॉक्टर भी शामिल है। आज पॉजिटिव आने वालों में गुरु नानक अस्पताल, सीएचएल अस्पताल, तेजनकर अस्पताल और पाटीदार अस्पताल में भर्ती मरीज भी शामिल है। आज की रिपोर्ट इस बात का संकेत भी है कि पॉजिटिव आने वालों में बड़ी संख्या में पुरुष वर्ग शामिल है आज 46 पॉजिटिव में से सिर्फ आठ फीमेल है,,, जबकि 38 मेल है,,,,, जो इस बात का प्रमाण है कि कोरोना रोग से संक्रमित होने वालों में पुरुष वर्ग का प्रतिशत सर्वाधिक है। जिसकी वजह यह भी हो सकती है कि अनलॉक में पुरुष वर्ग ही सबसे ज्यादा घरों से बाहर निकल रहा है।