चरक अस्पताल परिसर में छेडछाड़ करने वाले अभियुक्त की जमानत निरस्त

उज्जैन।


 न्यायालय प्रथम वर्ग न्यायिक मजिस्ट्रेट श्रीमती साक्षी कपूर, जिला उज्जैन के न्यायालय द्वारा अभियुक्त रंजीत पिता रामभरोसे निवासी- उज्जैन का जमानत आवेदन निरस्त किया गया।


अभियोजन मीडिया सेल प्रभारी श्री मुकेश कुमार कु न्हारे ने बताया कि अभियोजन की घटना इस प्रकार है कि फरियादिया ने पुलिस थाना कोतवाली पर प्रथम सूचना रिपोर्ट लेखबद्ध कराई कि मैं आशा कार्यकर्ता हूॅ। दिनांक 11.10.2020 को अपने ईलाज हेतु अपनी साथी कार्यकर्ता के साथ चरक अस्पताल उज्जैन गई थी। जब वह अपनी गाड़ी पार्किंग हेतु अंदर गई तभी पार्किंग में खड़ा लड़का जिसका नाम रंजित था, वह फरियादिया का पीछा करने हुए पार्किंग तक आ गया व रास्ता रोक लिया और बुरी नियत से उसका हाथ पकड़ लिया और बोला कि तेरा चेहरा दिखा मुझे वीडियो बनाना है, फरियादिया के द्वारा चिल्लाचोट करने पर उसकी दोनों साथी वहां आ गई तो अभियुक्त उन्हें भी मॉ-बहन की नंगी-नंगी गालिया देने लगा। अभियुक्त के साथ वहा पर तीन अन्य साथीगण भी थे। अभियुक्त जाते-जाते बोला कि यदि वीडियो बनाने तथा हाथ पकडने वाली बात किसी को बताई तो जान से खत्म दूंगा। फरियादिया की रिपोर्ट पर अभियुक्त के विरूद्ध अपराध पंजीबद्ध किया गया। 


 अभियुक्त द्वारा माननीय न्यायालय में जमानत आवेदन प्रस्तुत किया गया था, अभियोजन अधिकारी द्वारा जमानत आवेदन का विरोध करते हुए तर्क किये कि अभियुक्त का पूर्व में आपराधिक रिकॉर्ड संलग्न है। यदि अभियुक्त को जमानत का लाभ दिया जाता है तो पुनः अपराध कारित करेगा। न्यायालय ने अभियोजन के तर्को से सहमत होकर अभियुक्त का जमानत आवेदन निरस्त किया गया। 


अभियोजन की ओर से पैरवी श्रीमती कमलेश श्रीवास, सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी, जिला उज्जैन द्वारा किया गया था।               


*सरिया चुराने का प्रयास करने वाले अभियुक्त की जमानत निरस्त*


 न्यायालय माननीय कु0 वंदना मालवीय, न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी तराना जिला उज्जैन के न्यायालय द्वारा अभियुक्त चुन्नीलाल उर्फ मनोज पिता रामचन्दर निवासी- धोबी गली, तराना, जिला उज्जैन का जमानत आवेदन निरस्त किया गया। 


 अभियोजन मीडिया सेल प्रभारी श्री मुकेश कुमार कुन्हारे ने अभियोजन घटना अनुसार बताया कि फरियादी सुयश ने हमराह अपने पिताजी के पुलिस थाना तराना पर मौखिक रिपोर्ट किया कि मैं तेजाजी चौक तराना में रहता हूं एवं मोबाईल शॉप की दुकान है, मेरे घर के पीछे बाड़ा है, जिसमें लोहे के सरिये रखे थे, मुझे बाडे में सरिये उठाने की आवाज आई तो मै तथा मेरे पिताजी पीछे बाडे में गये थे तो हमने देखा तो चुन्नीलाल उर्फ मनोज सरियो को उठा कर ले जा रहा था, मुझे देखकर सरिये छोड कर जाने लगा तो मैने और मेरे पिताजी ने कहा कि सरिये क्यो उठाऐ तो चुन्नीलाल मॉ-बहन की नंगी-नंगी गालिया देने लगा। मैने उसे गाली देने से मना किया तो चुन्नीलाल मेरे साथ झूमा-झटकी करने लगा और ईंट की मारी जो मेरे दोनो पैर की पिडली और दाहिने हाथ के पौचे में चोट आई। उसी समय कालू और गणेश आ गये तो कालू और मेरे पिताजी ने मुझे बचाया। चुन्नीलाल जाते-जाते बोला कि मेरे पर चोरी का आरोप लगाया या मेरे खिलाफ रिपोर्ट की तो जान से खत्म कर दूंगा। फरियादी की रिपोर्ट पर अभियुक्त चुन्नीलाल के विरूद्ध पुलिस थाना तराना पर अपराध पंजीबद्ध किया गया। 


अभियुक्त को थाना तराना पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया था। अभियोजन के तर्कों से सहमत होकर अभियुक्त का जमानत आवेदन निरस्त किया गया।


 प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी एडीपीओ श्री सुनील परमार, सहायक जिला अभियोजन अधिकारी, तराना, जिला उज्जैन द्वारा की गई।