सम्पूर्ण मीडिया तंत्र पर हमला है

अर्नब गोस्वामी@रिपब्लिक भारत उनके नेटवर्क, पत्रकारिता और तौर तरीक़ों से सहमति-असहमति हो सकती है। लेकिन जिस तरीके से एक नेशनल चैनल के संपादक को बिना किसी summons या नोटिस के गिरफ़्तार किया गया, वो सरासर ग़लत है। आज अगर इसपर सवाल नहीं उठाया गया तो कल किसी और का भी नंबर हो सकता है! यह लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ की हत्या है। आज अर्नब को हिरासत में लिया गया है तो दूसरे चैनल बड़े खुश हो रहे हैं! याद रखना ये सिर्फ अर्नब पर नहीं, बल्कि सम्पूर्ण मीडिया तंत्र पर हमला है।


 


Popular posts
जिले में आज से ही लेफ्ट राइट के नियम का पालन करते हुए शाम 7:00 बजे तक खुली रहेगी दुकाने ,,,,, धार्मिक स्थल नहीं खुलेंगे,,,,,ब्लैक फगस के 89 मरीज हैं जिनका उपचार चल रहा है,,,,,,,कलेक्टर ने कहा कि अब आगे से कोरोना के जितने भी प्रकरण पॉजिटिव आएंगे उन सभी को होम क्वॉरेंटाइन के स्थान पर कोविड केयर सेंटर में रखा जाएगा
Image
आज 11 जून से ही संपूर्ण बाजार खुलेगा लेफ्ट राइट का नियम तत्काल प्रभाव से समाप्त
Image
चौबीस घंटे पर्दे के पीछे रहकर कर रही है टीम डाटा कलेक्शन का काम*
Image
पटवारियों की दुर्घटना में मौत के बाद एक्सिस बैंक ने उनके नामिनी को दिए 20 20 लाख रुपए, जिलाधीश ने सोपे चेक
Image
आरक्षक का सनसनी खेज अश्लील वीडियो हुआ वायरल, तड़ीपार बदमाश भी है शामिल,
Image