पत्रकारों और उनके परिजनों के लिए जिलाधीश की पहल पर विशेष कॉविड 19 सेल गठित होगा,,, यह अधिकारियों के लिए गठित कोरोना योद्धा सेल की तरह काम करेगा

 उज्जैन ।कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने आज पत्रकारों की मांग पर कॉविड 19 के संक्रमण काल में जिले के पत्रकारों के हितों को ध्यान में रखते हुए जिला कोरोना सेल के गठन के निर्देश दिए हैं शहर के कुछ वरिष्ठ पत्रकारों ने आज कॉविड 19 के संक्रमण काल में पत्रकारों एवं उनके परिजनों को उचित चिकित्सा सुविधा एवं आवश्यक दवाइयों के नाम मिलने की जानकारी और पत्रकारों को इलाज में आने वाली दिक्कतों के साथ-साथ ऑक्सीजन मिलने में परेशानी और आवश्यकता पड़ने पर रेमडेसीविर इंजेक्शन ना मिलने की जानकारी जिलाधीश को दी , संवेदनशीलता का परिचय देते हुए जिलाधीश आशीष सिंह तत्काल निर्देश दिया कि पत्रकारों के लिए corona सेल का गठन किया जाए, इस सेल का नोडल अधिकारी हरिशंकर शर्मा को बनाया गया तथा स्विफ्ट वार ड्यूटी लगाने के लिए अलग से आवश्यक निर्देश आज ही जारी करने का आश्वासन दिया। निर्देश अनुसार 8,,,8 घंटे की शिफ्ट वार ड्यूटी लगाई जाएगी तथा एक हेल्पलाइन नंबर भी दिया जाएगा जिस पर पत्रकार एवं उनके परिजनों के इलाज में आने वाली दिक्कतों को दूर किया जाएगा। शासन ने पत्रकारों को फ्रंट लाइन वर्कर नहीं माना


 लेकिन उज्जैन जिलाधीश ने पत्रकारों को कोरोना काल में प्रशासन का मददगार मानते हुए और उनके परिवार की सुरक्षा के लिए कोरोना योद्धा सेल बनाने के निर्देश दिए हैं । मध्यप्रदेश में शायद उज्जैन पहला ऐसा जिला होगा जहां इस तरह पत्रकारों के हितों के लिए जिलाधीश आगे आए हैंैं।

पत्रकारों के टीकाकरण के लिए 27 या28 अप्रैल को विशेष कैंप लगेगा

पत्रकारों ने जिलाधीश श्री आशीष सिंह का ध्यान आकर्षित करते हुए उन्हें बताया कि गत 17 मार्च को पत्रकारों को विशेष कैंप लगाकर कोरोना का टीका लगाया गया था, लेकिन दूसरा डोज अभी तक नहीं लगाया गया, इस पर उन्होंने 6 हफ्ते बाद दूसरा डोज लगाने की जानकारी देते हुए बताया कि 27 या 28 अप्रैल को बड़ा कैंप लगाकर पत्रकारों और उनके परिजनों को दूसरा डोज लगाया जाएगा,उन्होंने इसके लिए आवश्यक निर्देश दिए हैं।

Popular posts
122 साल पुराने उज्जैन के नक्शे को आधार बनाकर,,, तालाबों की जमीन हड़पने वालों पर शिकंजा कसेगा,,, उज्जैन जिलाधीश के निर्देश से जमीन पर कब्जा करने वालों में हड़कंप मचा
Image
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
उज्जैन के अश्विनी शोध संस्थान में मौजूद हैं 2600 साल पुराने सिक्के
Image
उज्जैन के विश्वप्रसिद्ध महाकाल मंदिर परिसर में बिना अनुमति के युवती द्वारा वीडियो बनाकर वायरल किए जाने पर प्रकरण पंजीबद्ध
Image