उज्जैन कलेक्टर वाला ‘मीडिया मॉडल’ पूरे देश में लागू क्यों नहीं हो सकता?

 


🔻उज्जैन में जब कलेक्टर आशीष सिंह मीडियाकर्मियों के लिए अलग से व्यवस्था कर सकते हैं। एक अधिकारी को नोडल अधिकारी बना कर दायित्व सौंप सकते हैं तो ऐसा इंदौर ही नहीं पूरे मप्र में हो सकता है। 

🔻प्रेस क्लब पहले तो उज्जैन कलेक्टर के प्रति धन्यवाद प्रस्ताव का लेटर राज्य सरकार को भेजे, प्रति इंदौर प्रशासन को भी। 

🔻प्रेस क्लब के सभी पूर्व अध्यक्षों की तत्काल बैठक बुलाएं, पूरा प्रारूप तैयार कर शासन को भेजे।

🔻पत्रकार कल्याण कोष से दस-बीस हजार की मदद देने की अपेक्षा पहल यह हो कि मीडिया के साथियों को वक्त पर सही उपचार मिले, उनकी जान बचाने की पहल होना चाहिए। 

🔻कल्साण कोष के लिए करोड़-दो करोड़ जुटाने की आप की क्षमताओं से मैं वाकिफ हूं लेकिन इस शक्ति को अभी फिल्ड के पत्रकारों की जान बचाने में लगाइए। 

🔻हम कब तक जीएस यादव आदि को श्रद्धांजलि देते रहेंगे। 

🔻यह दूसरा साल है हमारी इस मांग की भी शिवराज सरकार ने अनदेखी कर रखी है कि पत्रकारों को कोरोना वारियर का दर्जा/ फौरी मदद मिले। 

🔻मप्र सरकार को इस मामले में राजस्थान सरकार का मॉडल अपनाने में क्यों हिचक होना चाहिए  कि वहां कांग्रेस सरकार है। 

🔻मेरा निवेदन है आप सी मनभेद छोड़कर प्रेस क्लब सहित तमाम पत्रकार हितैषी संगठन एक जाजम पर आएं और इंदौर ही नहीं पूरे मप्र में उज्जैन मीडिया मॉडल को तत्काल लागू करने के लिए सीएम पर दबाव बनाएं। 

🔻इसके साथ ही पीएम स्तर पर पहल करने के लिए राष्ट्रीय मीडिया संगठनों को भी उज्जैन मॉडल लागू करने के लिए केंद्र से अनुरोध करें । 

🔻हमारे विए इंदौर/मप्र की तरह हर शहर/राज्य के फिल्ड में काम कर रहे मीडियाकर्मी का जीवन बचाना पहला कर्तव्य होना चाहिए। 

🔻दीपक भाई, आप के आत्मकाह वाले निर्णय से मैं सहमत नहीं हू, 🔻ऐसा घातक निर्णय कर आप हमारे अध्यक्ष अरविंद तिवारी के तमाम सकारात्मक प्रयासों को चुनौती दे रहे हैं। 

🔻आत्मदाह जैसी घोषणा कतई उचित नहीं है। 

🔻मैंने तो विधायक संजय शुक्ला द्वारा दो दिन बाद आत्मदाह की घोषणा का भी इसी मंच से विरोध किसा है। 

🔻आप भावुकता में ऐसा कोई कदम ना उठाएं, राम मंदिर निर्माण आंदोलन सहित आरक्षण आंदोलन आदि में जिन भी लोगों ने प्राणोत्सर्ग किया, उनके विछोह के बाद कितने संबंधित संगठनों ने उनके परिवारों की सुध ली। 

🔻अरविंद भाई, दीपक को समझाने के साथ ही आप ही बड़ी सोच वाली पहल कर के शहर/प्रदेश के सभी मीडिया हितैषी पत्रकार संगठनों को-कम से कम कोविड काल वाली ऐसी चुनौतियों का मुकाबला करने, राज्य/केंद्र को राजी करने-एक साथ बैठने के लिए आह्वान कीजिए। 

🔻इससे आपका कद बढ़ेगा साथ ही देश में यह मैसेज भी जाएगा कि इस तरह की पहल से ही इंदौर पत्रकारिता के गढ़ के रूप में पूरे देश में अलग पहचाना रखता है।

🔻दीपक भावुकता में कोई गलत कदम ना उठा ले, यह भी चिंता करें। 

🙏कीर्ति राणा

Popular posts
शहर के वरिष्ठ पत्रकार के परिवार में तीसरी मौत,दो भाईयों के बाद अब बहु की मौत,,,,,, अनेक पत्रकार कोरोना से लड़ रहे हैं जंग
Image
केंद्रीय मंत्री थावर चंद जी की पुत्री की मृत्यु
Image
चारों तरफ मौत का तांडव और ऐसे में बेड के सौदागरो की करतूत का सामने आना बेहद शर्मनाक,,,,,, सोशल मीडिया पर वायरल चैट का सच सामने आना चाहिए
Image
सारे रिकॉर्ड टूटे,,,आज 410 पॉजीटिव
Image
कोरोना का नया ट्रेंड पूरा परिवार आ रहा है चपेट में,,,,, पूर्व सांसद का पुत्र संक्रमित हुआ,,,,, विद्यापति कॉलोनी में एक ही परिवार की चार महिलाएं पॉजिटिव आई,,,,,,,,, ऋषि नगर और आजाद नगर में भी पूरा परिवार पॉजिटिव,,,,,,,,
Image