जिलाधीश की तानाशाही पर बिफरे कैलाश विजयवर्गीय,,, ट्वीट कर जताया असंतोष

 


इंदौर : लगता है शहर तानाशाहों के हवाले है,  नौकरशाही हर मामले में हावी होती नजर आ रही है। जिला प्रशासन के मुखिया मनमाने निर्णय लेकर लागू कर देते हैं और प्रभारी मंत्री सहित तमाम जनप्रतिनिधि उनकी हां में हां मिलाते रहते हैं। ताजा मामला टोटल लॉकडाउन का है। प्रदेश के मुखिया ने कड़ाई बरतने का इशारा क्या किया कि प्रशासन ने आनन – फानन में लॉकडाउन का ऐलान करते हुए लोगों को किराना व सब्जी से भी महरूम कर दिया।

हैरत की बात ये है कैलाश विजयवर्गीय को छोड़कर कोई भी  सत्ताधारी दल के नेता इस पर कुछ भी बोलने से बचते रहे। अब कैलाश विजयवर्गीय एक ट्वीट वायरल हो रहा है जिसमें उन्होंने जिलाधीश के निर्णय पर असहमति जताते हुए रोष प्रकट किया है।


लोगों की सहूलियत का भी नहीं रखा ध्यान,दस दिन का लॉक डाउन कितना भारी पड़ेगा, समझा जा सकता है।


प्रशासन को पता नहीं किस बात की जल्दी थी। वैसे ही बीते डेढ़ माह से लोग घरों में रहकर कभी जनता तो कभी कोरोना कर्फ्यू का पालन कर रहे हैं। एम्बुलेंस से लेकर अस्पताल, डॉक्टर, दवाई, इंजेक्शन व ऑक्सीजन के नाम पर लूट खसोट के शिकार लोगों के लिए राहत की बात ये थी कि किराना, फल व सब्जी उन्हें सहज उपलब्ध हो रही थी। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों के लिए फल उनकी इम्म्युनिटी बढाने में मददगार साबित हो रहे थे, वहीं किराना व सब्जी प्रतिदिन मिलने से उनके दाम भी सामान्य स्तर पर बने हुए थे पर सीएम की नजरों में अपने नम्बर बढ़वाने के लिए उतावले हो रहे जिला प्रशासन के मुखिया ने टोटल लॉकडाउन लगाते समय लोगों की इस छोटी सी सहूलियत का भी ध्यान नहीं रखा। नतीजा ये हुआ कि लोग रोटी- सब्जी के भी मोहताज हो गए। सभी जानते हैं कि सब्जी का स्टॉक नहीं किया जा सकता, वह खराब होने लगती है। दूसरे गरीब व निम्नवर्गीय लोगों के घरों में एक- दो दिन से ज्यादा का अनाज नहीं रहता, ऐसे में दस दिन का लॉक डाउन उनपर कितना भारी पड़ेगा, समझा जा सकता है।


रात को ही सब्जी के लिए उमड़े लोग।


प्रशासन का टोटल लॉकडाउन का आदेश सोशल मीडिया पर वायरल होते ही लोग रात में ही सब्जी खरीदने उमड़ पड़े। जिसको जिस भाव में जो हाथ लगा खरीद लिया। सब्जी वालों ने भी मौका देखकर दो गुना भाव वसूले। लोगों ने हड़बड़ाहट में आलू- प्याज बड़ी मात्रा में खरीद लिए। फल व सब्जी मंडी में प्रशासन के आदेश से अनभिज्ञ कई ट्रक व लोडिंग वाहन सब्जी भरकर मंडियों में पहुंचे, उन्हें वापस लौटा दिया गया। रात में ही दुकान सजाकर सब्जी बेच रहे खेरची व्यापारियों को भी वहां से पुलिस ने खदेड़ दिया।


पुलिस के जवान इस हद तक मनमानी पर उतारू हो गए कि अस्पताल, कल कारखाने व मेडिकल शॉप वालों को पहचान पत्र दिखाने पर भी वापस लौटा दिया


टोटल लॉकडाउन के बाद पुलिस भी चौराहों पर सक्रिय हो गई। पुलिस के जवान इस हद तक मनमानी पर उतारू हो गए कि अस्पताल, कल कारखाने व मेडिकल शॉप वालों को पहचान पत्र दिखाने पर भी वापस लौटा दिया। बात यहीं तक सीमित नहीं रही। सूत्रों के मुताबिक वैक्सीन लेकर जा रहे लोडिंग वाहन को जब्त कर ट्रैफिक थाने पहुंचा दिया गया। पुलिस वालों की इस नासमझी की वजह से कई टीकाकरण केंद्रों पर वैक्सीन समय पर नहीं पहुंच पाई।

Popular posts
जिले में आज से ही लेफ्ट राइट के नियम का पालन करते हुए शाम 7:00 बजे तक खुली रहेगी दुकाने ,,,,, धार्मिक स्थल नहीं खुलेंगे,,,,,ब्लैक फगस के 89 मरीज हैं जिनका उपचार चल रहा है,,,,,,,कलेक्टर ने कहा कि अब आगे से कोरोना के जितने भी प्रकरण पॉजिटिव आएंगे उन सभी को होम क्वॉरेंटाइन के स्थान पर कोविड केयर सेंटर में रखा जाएगा
Image
आज 11 जून से ही संपूर्ण बाजार खुलेगा लेफ्ट राइट का नियम तत्काल प्रभाव से समाप्त
Image
पारस जैन और मंत्री डॉ मोहन यादव ने मुख्यमंत्री से कहा की वैवाहिक आयोजनों के लिए वर पक्ष को 100 एवं वधु पक्ष को 100 व्यक्तियों की अनुमति प्रदान की जाए
Image
पटवारियों की दुर्घटना में मौत के बाद एक्सिस बैंक ने उनके नामिनी को दिए 20 20 लाख रुपए, जिलाधीश ने सोपे चेक
Image
चौबीस घंटे पर्दे के पीछे रहकर कर रही है टीम डाटा कलेक्शन का काम*
Image