नियमित दर्शनार्थियों को करना होगा अभी और इंतजार


 महाकालेश्वर


मंदिर में आज से दर्शन प्रारंभ होने से भक्तों में खुशी की लहर दौड़ गई. प्रबंध समिति द्वारा कोविड सुरक्षा को प्राथमिकता देते हुए न्यूनतम एक टीका अथवा पिछले 48 घंटो की नेगेटिव आरटीपीसीआर रिपोर्ट की अनिवार्यता व सामाजिक दूरी अनुपालन के संदर्भ में 500 दर्शनार्थियों के स्लॉट में पूर्व ऑनलाइन अनुमति से सभी को दर्शन कराए जा रहे हैं. पिछले 25 वर्षों से आ रहे नियमित दर्शनार्थी श्री राधेश्याम जी ने बताया कि कॉविड नियम अनुपालन के परिप्रेक्ष्य में केवल शिखर दर्शन ही कर रहे हैं तथा कोवीड परिस्थितियों  के सामान्य होते ही बाबा के साक्षात दर्शन करेंगे. उज्जैन के निवासी मंदिर की व्यवस्थाओं हेतु सदैव तत्पर रहते हैं.

मंदिर प्रशासक श्री नरेंद्र सूर्यवंशी ने बताया कि प्रथम दिवस बुकिंग पूर्ण रही . वैक्सीनेशन प्रमाणपत्र अथवा नेगेटिव आरटीपीसीआर रिपोर्ट के साथ काफी दर्शनार्थी ने त्वरित दर्शन टिकट से भी दर्शन किए. उन्होंने आगे कहा कि मंदिर क्षेत्र अधिक घनत्व का होने से सुरक्षा अनिवार्य है. मंदिर के "" नियमित दर्शनार्थी "" हेतु परिस्थिति सामान्य होते ही दर्शन व्यवस्था के संबंध में निर्णय लिया जाएगा. तब तक यदि वे दर्शन करना चाहते हैं तब वर्तमान सुरक्षा नियम का पालन करते हुए, बुकिंग करने के बाद ही दर्शन हेतु मंदिर पधारें तथा अनावश्यक अव्यस्था एवं परेशानी से बचें।

भक्त मंदिर से लड्डू प्रसाद पाकर भी प्रसन्न हुए एवम अपने मित्रों, संबंधियों को भी प्रसाद वितरण किया. अन्नक्षेत्र प्रभारी श्री निनाद काले ने बताया कि अन्नक्षेत्र  पूर्ण दक्षता से प्रारंभ किया गया है वर्तमान निर्गम द्वार से भोजन प्रसाद के कूपन श्रद्धालु प्राप्त कर रहे हैं.

आर.के. तिवारी, सहा. प्रश. अधिकारी,श्री महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन.




Popular posts
ओ माय गॉड,,,, महाकाल में नौकरी और करतूत इतनी गंदी,,,,,,
Image
अमलतास हॉस्पिटल में पत्रकार सम्मान व कॉकलियर इम्प्लांट ऑपरेशन किया गया।
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
122 साल पुराने उज्जैन के नक्शे को आधार बनाकर,,, तालाबों की जमीन हड़पने वालों पर शिकंजा कसेगा,,, उज्जैन जिलाधीश के निर्देश से जमीन पर कब्जा करने वालों में हड़कंप मचा
Image
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image