डोनेटकार्ट ने धनबाद के 40,000 से अधिक कोयला खनिकों को कोविड -19 की दूसरी लहर में दिया खाना

 



● कोयला खनिकों के लिए खाना और ज़रूरी चीज़ों के लिए डोनेटकार्ट ने नंद केयर फाउंडेशन को 2 करोड़ रुपये से   अधिक राशि जुटाने में मदद 

● 25,000 से अधिक डोनरों ने सहयोग किया

● दूसरी लहर से उबरने में संघर्ष कर रहे कोयला खनिकों को क्राउडफंडिंग से बहुत सहाय

    मिली है

इंदौर, july 2021: कोविड -19 महामारी की दूसरी लहर में लगाए गए लॉकडाउन में भारत 

प्रतिष्ठित क्राउडफंडिंग प्लेटफॉर्म डोनेटकार्ट ने नंद केयर फाउंडेशन के साथ मिलकर 40,000 से ज़्यादा कोयला खनिकों को खाने-पीने का ज़रूरी सामान दिलाने का सराहनीय काम किया है


कोविड -19 महामारी के चलते खनन गतिविधि बंद होने से धनबाद के हजारों डेली-वेज पर काम कर र

कोयला खनिक मुश्किल में आ गए थे। वे अपनी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए काफी संघर्ष कर रहे थे

क्योंकि उनका जीवन पूरी तरह से इसी पर निर्भर था। इनके परिवारों की दुर्दशा देखकर, डोनेटकार्ट और नं

केयर फाउंडेशन ने मिलकर फंड इकट्ठा किया ताकि खाने-पीने की ज़रूरी चीज़ें दी जा सकें


इस फंडरेज़ प्रोग्राम में, डोनेटकार्ट ने अपने प्लेटफार्म www.donatekart.com पर एक अभियान चलाया ज

लोग अपने बजट के हिसाब से डोनेट कर सकते हैं। इस वेबपेज पर लोग किराना किट, अनाज, दालें, मास्क

सैनिटाइज़र आदि डोनेट कर सकते थे। किराना किट में गेहूँ का आटा, चावल, चना दाल, नमक, तेल, हल्दी

पाउडर और मिर्च पाउडर शामिल हैं


नंद केयर फाउंडेशन ने डोनेटकार्ट और 25,000 से अधिक डोनरों के सहयोग से 2.3 करोड़ रुपये से अ

मूल्य की किराना किट जुटाई जो धनबाद और उसके आसपास 10000+ कोयला खनिकों के परिवारों में

बाँटी ग


डोनेटकार्ट के सीईओ और को-फाउंडर अनिल कुमार रेड्डी का कहना है, “हमने पहली लहर के दौरा

हजारों परिवारों तक किराना किट पहुँचाई थी, और अब भी उनकी मदद करना जारी रखना चाहते हैं। कोय

खनिकों की दुर्दशा दयनीय है। जब नंद केयर फाउंडेशन के दीपक कुमार ने धनबाद के कोयला खनिकों औ

उनके बच्चों की मदद करने के लिए हमारे समर्थन की इच्छा जताई, तो हमें विश्वास था कि इस संकट के

समय में हम उनके लिए हर संभव प्रयास करेंगे। अपने अगले अभियानों के माध्यम से हमारा उद्देश्य हजारों

लोगों तक पहुँचना है


नंद केयर फाउंडेशन के फाउंडर दीपक कुमार  डोनेटकार्ट प्लेटफॉर्म के फंडरेज़ से मिले रिस्पांस से का

संतुष्ट थे। “जब ये कोयला खनिक चावल के एक-एक दाने के लिए भी संघर्ष कर रहे थे, तो डोनेटकार्ट 

साथ-साथ बहुत से डोनर आगे आए और मदद की। यह कठिन समय है, लेकिन गैर सरकारी संगठनों औ

लोगों को एक साथ लाने वाला डोनेटकार्ट जैसा प्लेटफार्म, हमें जरूरतमंदों की मदद करने में सक्षम बनाता हैं

कोयला खनिक इस बात से वाकिफ हैं कि इस संकट से उबरने में वे अब अकेले नहीं हैं,” दीपक कुमार ने

कहा


नंद केयर फाउंडेशन धनबाद और उसके आसपास के इलाके में रहने वाले कोयला खनिकों और आदिवा

समुदायों की बेहतरी के लिए काम कर रहा है। फाउंडेशन कोयला खनिकों के बच्चों को शिक्षा प्रदान करता 

और इन परिवारों का समर्थन भी करता है


डोनेटकार्ट संगठनों को अपने प्लेटफॉर्म पर मुफ्त अभियान चलाने की अनुमति देता है। गैर-सरका

संगठनों के साथ कोई प्रत्यक्ष फाइनेंशियल लेन-देन नहीं है इसलिए यह डोनेट करने वालों को पारदर्शिता

और उनके धन के सही उपयोग का आश्वासन देता है। डोनर्स हर प्रोसेस का हिस्सा हैं और उन्हें लाभार्थियों 

समय पर अपडेट मिलता रहता है कि प्रोडक्ट का उपयोग कैसे किया जा रहा है


डोनेटकार्ट ने महामारी के दौरान लोगों को ऐसे तथा अन्य अभियानों में योगदान करने की अनुमति देने में

महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। मुंबई, दिल्ली, राजकोट, जयपुर, पुणे, गाजियाबाद और भारत के अन्य शहरों 

कई एनजीओ पार्टनर के साथ, डोनेटकार्ट ने प्रभावी और पारदर्शी तरीके से 1.5 लाख से अधिक डोनरों के

सहयोग से अस्पताल के बुनियादी ढाँचे के लिए 30 करोड़ रुपये से अधिक की राशि का सामान जुटाया है

इसमें ऑक्सीजन सिलेंडर, ऑक्सीजन कंसंटेटर, बेड, ऑक्सीमीटर आदि शामिल हैं। उन्होंने अस्पतालों 


होम क्वारंटाइन मरीज को उपकरण और जरूरतमंद लोगों को किराना किट बाँटना भी शुरू कर दिया है। 

ज़रूरत के समय में हमें तुरंत कार्रवाई करने की आवश्यकता है


युवराज सिंह, नोरा फतेही, सामंथा अक्किनेनी और अन्य कई कॉर्पोरेट व मशहूर हस्तियाँ भी मदद के लि

आगे आईं हैं और डोनेटकार्ट पर एक फंडरेज़ करना शुरू किया है। यह डोनर्स और गैर सरकारी संगठनों 

लिए विश्वास और पारदर्शिता सुनिश्चित करता है, जो बहुत महत्वपूर्ण है


डोनेटकार्ट के बारे में

डोनेटकार्ट देश का सबसे भरोसेमंद क्राउडफंडिंग प्लेटफॉर्म है। यह दुनिया भर के लोगों को भारत में गै

सरकारी संगठनों (एनजीओ) और चैरिटेबल संगठनों को विभिन्न उत्पादों के लिए धन जुटाने में समर्थन कर

की अनुमति देता है, जो डोनेटकार्ट की टीम द्वारा लोगों तक पहुँचाया जाता है


डोनेटकार्ट ने 5 लाख से अधिक डोनरों का भरोसा हासिल किया है और देशभर में 1000 से अधिक गै

सरकारी संगठनों (एनजीओ) को सहयोग किया है। डोनेटकार्ट की टीम अब तक इस प्लेटफार्म की सहाय

से 100 करोड़ रुपये की राशि जुटाने में कामयाब रही है


आप डोनेटकार्ट की वेबसाइट www.donatekart.com पर जाकर नंद केयर फाउंडेशन और अन्य गै

सरकारी संगठनों को इस कठिन समय में लोगों की मदद करने में सहयोग सकते हैं।र।तार।नेर:।केए।इसऔर।में।सेरी।हैसी।।रकेफी।”रलानई।धिक।,हाँ।दहे।केताकी संगठनों को इस कठिन समय में लोगों की मदद करने में सहयोग सकते हैं।

Popular posts
ओ माय गॉड,,,, महाकाल में नौकरी और करतूत इतनी गंदी,,,,,,
Image
अमलतास हॉस्पिटल में पत्रकार सम्मान व कॉकलियर इम्प्लांट ऑपरेशन किया गया।
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
122 साल पुराने उज्जैन के नक्शे को आधार बनाकर,,, तालाबों की जमीन हड़पने वालों पर शिकंजा कसेगा,,, उज्जैन जिलाधीश के निर्देश से जमीन पर कब्जा करने वालों में हड़कंप मचा
Image
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image