प्रथम वर्षगांठ पर हुआ श्री अवंति पार्श्वनाथ तीर्थ त्रिशिखरीय जिनालय पर ध्वजारोहण


सुबह निकला ध्वजा वरघोड़ा, लगे अवंति पार्श्वनाथ भगवान के जयकारे
उज्जैन। गुरूदेव तीर्थोध्दारक गच्छाधिपति भगवंत जिनमणिप्रभ सूरिश्वरजी मसा के आशीर्वाद एवं प्रेरणा से आयोजित श्री अवंति पार्श्वनाथ तीर्थ त्रिशिखरीय जिनालय की प्रथम वर्षगांठ महोत्सव में शनिवार को धर्मध्वजा फहराई गई। तीन दिवसीय ध्वजारोहण महोत्सव के तीसरे दिन प्रातः मुनि पाश्र्वचंद्र विजयजी, साध्वी प्रशांतगुणा श्रीजी मसा आदि ठाणा की निश्रा में ध्वजा वरघोड़ा शांतिनाथ मंदिर से निकला जो विभिन्न मार्गों से होता हुआ श्री अवंति पार्श्वनार्थ तीर्थ दानीगेट पहुंचा।
सचिव चंद्रशेखर डागा के अनुसार महोत्सव में शनिवार को नवकारसी प्रातः 8 बजे शांतिनाथ मांगलिक भवन शांतिनाथ गली सराफा में हुई जिसके लाभार्थी जिनेश्वर युवा परिषद रही। तत्पश्चात प्रातः 9 बजे ध्वजा वरघोड़ा शांतिनाथ मंदिर से निकलेगा जो विभिन्न मार्गों से होता हुआ अवंति पार्श्वनाथ मंदिर दानीगेट पहुंचा। रास्ते भर समाजजन भक्ति करते हुए चले तथा अवंति पार्श्वनाथ भगवान के जयकारे लगे। 10.30 बजे सत्तरभेदी पूजन एवं स्वामी वात्सल्य का आयोजन किया गया। जिसके लाभार्थी संघवी शा. कुशलराज उत्तमचंद ललितकुमार प्रतीक, प्रियुष, विनीत गोलेच्छा परिवार मोकलसर हाल बैंगलोर रहे। रितेश जैन एवं तरूण डागा के अनुसार जिनेश्वर युवा परिषद के संयोजन में आयोजित महोत्सव में विधिकारक श्रेष्ठी बृजेश जैन द्वारा विधि विधान के साथ 12.39 बजे ध्वजारोहण कराया गया। श्री अवंति पार्श्वनाथ तीर्थ की मुख्य ध्वजा के लाभार्थी संघवी कुशल राज उत्तमकुमार ललित कुमार गोलेछा बेंगलुरु रहे। श्री चिंतामणि पारसनाथ कायमी ध्वजा के लाभार्थी हीरालाल, कुमार विकास बड़ागांव जिला कोल्हापुर तथा श्री आदेश्वर कायमी ध्वजा के लाभार्थी मांगीलाल, जितेंद्र, मनीष मालू परिवार सूरत थे। तीन दिवसीय महोत्सव के सानंद संपन्न होने पर श्री अवंति पार्श्वनाथ तीर्थ जैन श्वे. मूर्तिपूजक मारवाड़ी समाज ट्रस्ट ने समस्त समाजबंधुओं का आभार व्यक्त किया।