राहत इंदौरी बोले,,,,,,लगेगी आग तो आऐंगे घर कई जद में, यहां पे सिर्फ हमारा मकान थोड़ी है।

इंदौर । पूरे विश्व में साफगोई और शेर सुनाने की अपनी अद्भुत कला के कारण चर्चित राहत इंदौरी ने इंदौर में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में चल रहे विरोध प्रदर्शन में आंदोलनकारियों को संबोधित करते हुए एक बार फिर अपना मशहूर शेर,,, किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है,,,,, सुनाया ,उन्होंने यह भी कहा कि,,,, लगेगी आग तो आएंगे घर कई जद में ,,,,,,,यहां पे सिर्फ हमारा मकान थोड़ी है,,,, हमारे मुंह में तुम्हारी जबान थोड़ी है।
केरल में एक नेता के वायरल ऑडियो, जिसमें वह कह रहे हैं कि उर्दू का शायर राहत इंदौरी जेहादी है, पर उन्होंने जवाब दिया- "मैं 77 साल का हो गया हूं, मुझे अभी तक मालूम नहीं पड़ा कि मैं जेहादी हो गया हूं।" उन्होंने कहा- मैं मर जाऊं तो मेरी एक अलग पहचान लिख देना, लहू से मेरी पेशानी पे हिन्दुस्तान लिख देना। वे बोले- उठा शमशीर, दिखा अपना हुनर, क्या लेगा, ये रही जान, ये गर्दन है, ये सर, क्या लेगा...एक ही शेर उड़ा देगा परखच्चे तेरे, तू समझता है ये शायर है, कर क्या लेगा।
इसके बाद उन्होंने सुनाया- आंखों में पानी रखों, होंठो पे चिंगारी रखो, जिंदा रहना है तो तरकीबे बहुत सारी रखो...मैं वहीं कागज हूं, जिसकी हुकूमात को हैं तलब, दोस्तों मुझ पर कोई पत्थर जरा भारी रखो।
नागरिकता साबित करने के लिए दस्तावेज दिखाने पर राहत ने तंज कसते हुए शेर सुनाया कि- घरों के धंसते हुए मंजरों में रक्खे हैं, बहुत से लोग यहां मकबरों में रक्खे हैं...हमारे सर की फटी टोपियों पे तंज न कर, ये डाक्युमेंट हमारे अजायबघरों में रक्खे हैं।
इस शेर के बाद राहत ने कहा कि मैं समझता हूं कि नरेन्द्र मोदी को इससे बड़ा डाक्युमेंट कोई नहीं दे पाएगा, जो हमारे पास मौजूद है। और सिर्फ 70 साल के नही बल्कि 700 साल के मौजूद है। उन्होंने कहा कि यह लड़ाई सिर्फ मुस्लमानों की नहीं है...यह लड़ाई हिंदु, सिख, ईसाई...सब हिंदुस्तानियों की है। हर मजहब की लड़ाई है यह।
उन्होंने कहा कि पिछले दिनाें जब मैने यह सुना कि जामीया के बच्चों ने जब फैज की नज्म पढ़ी तो कुछ नासमझों ने फैज की नज्म का मतलब ही बदल दिया, मुझे कोई अचंभा नहीं हुआ क्योंकि मैं जानता हूं कि वह कम पढ़-लिखे हैं, ना वह हिंदी जानते हैं ना अंग्रेजी और ना उर्दू।
अगर खिलाफ हैं होने दो जान थोड़ी है, ये सब धुआं है कोई आसमान थोड़ी है।
लगेगी आग तो आऐंगे घर कई जद में, यहां पे सिर्फ हमारा मकान थोड़ी है।
हमारे मुंह से जो निकले वहीं सदाकत है..हमारे मुंह में तुम्हारी जबान थोड़ी है।
और जो आज साहिब-ए-मसनद है। उन्होंने कहा कि इस शेर पर दाद मत दिजीएगा, इस शेर पर कहियेगा इंशाअल्लाह।
जो आज साहिब-ए-मसनद हैं कल नहीं होंगे, किरायेदार हैं, कोई जाती मकान थोड़ी है...सभी का खून है शामिल यहां की मिट्‌टी में, किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है


Popular posts
बेटे के वियोग में गीत बनाया , बन गया प्रेमियों का सबसे अमर गाना
Image
ये दुनिया नफरतों की आखरी स्टेज पर है  इलाज इसका मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं है ,मेले में सफलतापूर्वक आयोजित हुआ मुशायरा
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
स्थानकवासी समाज के समाजसेवी सरदारमल राठौर का निधन
नवनियुक्त मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव को उज्जैन तथा अन्य जिलों से आए जनप्रतिनिधियों कार्यकर्ताओं और परिचितों ने लालघाटी स्थित वीआईपी विश्रामगृह पहुंचकर बधाई और शुभकामनाएं दी
Image