बीएनपी ठेकेदार द्वारा किए जा रहे अत्याचार के विरोध में श्रमिकों ने सौंपा ज्ञापन
 

देवास। बैंक नोट प्रेस के श्रमिकों पर ठेकेदार का अत्याचार बढ़ता जा रहा है। जिससे सभी श्रमिको की आर्थिक स्थिति खराब हो रही है। बीएनपी में 2011 से कार्य रहे श्रमिकों ठेकेदार द्वारा निकालने की धमकी दी जाकर रिश्वत की मांग की जा रही है, जिससे सभी श्रमिक अपने परिवार के जीविकोपार्जन के लिए चिंतित है। श्रमिकों ने जिसकी शिकायत मंगलवार को जिला कलेक्टर से की। श्रमिकों ने बताया कि बैंक नोट प्रेस की ठेकेदारी कम्पनी ग्लोबल वेंचर संस्था को सिर्फ तीन माह ही आए हुए है, लेकिन संस्था के ठेकेदार सुबोध कुमार शर्मा एवं बीएनपी अधिकारी सुभाष कुमार द्वारा ठेकेदार श्रमिकों को परेशान किया जाकर शोषण किया जा रहा है। श्रमिकों द्वारा विरोध करने पर धमकी दी जाती है कि मेरी सीएमडी से डायरेक्ट बातचीत है। बीएनपी ठेकेदारी में कुल 145 मजदूर है। ठेकेदार द्वारा 19 पुराने मजूदर है, जिनको पहले ही बंद कर दिया गया था। वहीं वर्तमान ठेकेदार द्वारा 24 मजदूरों को बंद कर दिया गया है। वर्तमान ठेकेदार द्वारा 10 हजार रूपए की रिश्वत की मांग की जा रही है। श्रमिकों द्वारा विरोध करने पर ठेकेदार कहता है कि काम करना है तो करो नही तो मैं बिहार और यूपी के श्रमिकों को भर्ती कर लूंगा। ठेकेदार द्वारा दबाव बनाया जा रहा है कि तुम सभी श्रमिकों को कम वेतन में काम करना पड़ेगा। ठेकेदार द्वारा हर माह समय पर पूर्ण वेतन भी नही डाला जा रहा है। हर माह 5 तारीख को वेतन डाला जाना चाहिए, लेकिन अब 15 तारीख तक वेतन डाला जा रहा है। श्रमिकों को पिछले माह का अब 3500, 3200, 3000, 1800 व 5600 रूपए का वेतन डाला गया है। जिन श्रमिकों ने बीएनपी महाप्रबंधक व अन्य संबंधित अधिकारियों से शिकायत की, उन श्रमिकों को ठेकेदार द्वारा बंद कर दिया गया। श्रमिकों ने आरोप लगाया कि यह कृत्य अधिकारियों व कम्पनी के ठेकेदार की मिलीभगत से हो रहा है। पूर्व ठेकेदार द्वारा संध्या सिक्योरिटी भोपाल के कार्यकाल में 2018-19 में मई माह में 13 कर्मचारियों का पूरा वेतन अभी तक नही दिया गया व सभी 145 श्रमिकों का 13 माह का पीएफ भी नही डाला गया है। श्रमिकों को अभी तक कलेक्टर रेट से वेतन दिया जाता था, लेकिन अब नए ठेकेदार द्वारा मनमानी कर कम वेतन दिया जा रहा है। श्रमिकों ने जिला कलेक्टर से ज्ञापन देकर मांग की है कि बंद किए गए श्रमिकों को पुन: काम पर रखा जाए और वर्तमान ठेका निरस्त कर भूतपूर्व सुपरवायजर ललीत भाटी को पुन: कार्य पर रखा जाए। क्योंकि इनके कार्यकाल में हम संतुष्ट थे। पहली बार बीएनपी ठेकेदार श्रमिक अपनी समस्या को लेकर सामने आए है, अन्यथा आज तक श्री भाटी के कार्यकाल में कोई समस्या नही आई। बीएनपी श्रमिक वर्तमान ठेकेदार सुबोध कुमार शर्मा से संतुष्ट नही है। जिससे श्रमिकों को मानसिक प्रताडऩा झेलनी पड़ रही है और बीएनपी की प्रतिष्ठा खराब हो रही है। ज्ञापन देते समय अजय कचनारे, विजेन्द्र राव, सुधीर मालवीय, मुकेश मालवीय, हिम्मत पवार, धर्मेन्द्र राजोरिया, नरेन्द्र सांगते, पवन घावरी, चेतन पथरोड़, राहुल बिरगड़े, जितेन्द्र खत्री, नितेश बिरगड़े, सोमेश सारोलिया, आकाश धायना, सांवलेस राव, आशुतोष पनवारिया, कमलेश सिसोदिया, सुरेन्द्र राव, विरेन्द्र योगी, जितेन्द्र सोनी, गोविंद सोनी, गोविंदसिंह, जितेन्द्र रजावत, सुभाष गौतम, मोहनसिंह, दिलीपराव, भीमराव, प्रदीप सोलंकी, जयप्रकाश मालवीय, रोहित थावलिया, रितेश योगी, सुभाष थावलिया, नितेश चौहान, रविंद्र रायपुरिया, सुनील बैरागी, बाबूलाल सोलंकी, नीतिन सोलंकी सहित बड़ी संख्या में ठेकेदार श्रमिक उपस्थित थे। 

Popular posts
अखाड़ा परिषद् अध्यक्ष नरेंद्र गिरी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत
Image
देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले वीर जवानों को श्रद्धांजलि
स्ट्रांग रूम का निरीक्षण करने के लिए राजनीतिक दल आमंत्रित 
फेसबुक गैंग के गुंडे दुर्लभ कश्यप की हत्या
Image
सरकारी जमीन पर तान दी मल्टी, टीएनसीपी ने निरस्त की अनुमति, नगर निगम ने भ्रष्टाचार की सीमा तोड़ी,,, बिल्डर ने शासकीय अधिकारी एवं इंजीनियरों से सांठगांठ कर अवैध मल्टी का निर्माण करने पर नगर निगम इंजीनियर मीनाक्षी शर्मा, भवन अधिकारी रामबाबू शर्मा, नगर निवेशक मनोज पाठक पर धारा 420, 467, 468, 471, 120-बी भादवी एवं भ्रष्टाचार का प्रकरण दर्ज करने की मांग की थी
Image