दिए निर्देश,,,,शव वाहन तैयार रखे,ग्रामीण क्षेत्रों में पलायन करने वाले लोगों की जानकारी रखी जाये,समाचार-पत्रों को उठाने से पहले सेनिटाइज करें

*लॉकडाउन में जनता को आवश्यक जरूरत की चीजें उपलब्ध रहें –कमिश्नर, समाचार-पत्र, दूध एवं अन्य चीजों को उपयोग करने से पहले सेनिटाइज करें*

उज्जैन 23 मार्च। उज्जैन संभाग कमिश्नर श्री आनन्द कुमार शर्मा ने सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से संभाग के सभी जिलों के कलेक्टर्स एवं पुलिस अधीक्षक से रूबरू चर्चा की और संभाग के सभी जिलों में लॉकडाउन के दौरान आने वाली कठिनाईयों एवं इस बीच आम जनता को राहत देने के उद्देश्य से निर्देश जारी किये। कमिश्नर ने सभी कलेक्टर्स को निर्देश दिये कि कोरोना वायरस को दृष्टिगत रखते हुए सभी जिलों में लॉकडाउन किया गया है। लॉकडाउन के दौरान आम जनता को अपनी आवश्यक मूलभूत जरूरतों के लिये न भटकना पड़े। जिला प्रशासन यह प्रयास करें कि आम जनता को आवश्यक चीजें सरलता से मुहैया हो जायें। कमिश्नर ने निर्देश दिये कि इस दौरान जिले के प्रमुख चौराहों पर अनावश्यक जमावड़ा न हो। सभी लॉकडाउन के निर्देशों का पालन करें। लॉकडाउन के दौरान पेट्रोल पम्प, सब्जी मंडी, एलपीजी गैस, दवाई की दुकान आदि खुले रहें। खुलने का समय जिला प्रशासन अपनी सुविधा के अनुसार निर्धारित करे। इस दौरान इस बात का विशेष ध्यान रखें कि इन जगहों पर अनावश्यक भीड़ जमा न हो। जरूरतमन्द व्यक्ति ही इन स्थानों पर आये। जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन के अधिकारी सभी की जांच करके ही उन्हें आने दें। फल, सब्जी आदि का आवागमन हो रहा है तो उसे न रोका जाये। कमिश्नर ने कहा कि इस दौरान सभी व्यक्ति अपने घरों में आने वाले समाचार-पत्रों को उठाने से पहले सेनिटाइज करें। साथ ही दूध की थैली एवं अन्य इस्तेमाल की जाने वाली वस्तुओं को सेनिटाइज करके ही इस्तेमाल करें। इस्तेमाल करने के पहले एवं बाद में अपने हाथ साबुन से जरूर धोयें। उन्होंने बताया कि व्यक्ति महंगे सेनिटाइजर इस्तेमाल करने की बजाय 5 रुपये की साबुन की टिकिया से भी अपने हाथ धो सकते हैं।
​कमिश्नर ने सभी जिला कलेक्टर्स को निर्देश दिये कि लॉकडाउन के दौरान सभी जिले एक जैसा व्यवहार एवं एकरूपता रखें। सभी जिले लॉकडाउन एवं धारा-144 के आदेश मुख्य सचिव को प्रेषित करें। कमिश्नर ने कहा कि लॉकडाउन में आवश्यक शासकीय कार्यालय भी खुले रखें। लॉकडाउन का प्रचार-प्रसार किया जाये, ताकि आम जनता तक प्रतिबंधात्मक आदेश की जानकारी पहुंच जाये। कमिश्नर ने कहा कि अधिकारी यातायात के सम्बन्ध में एवं आवश्यक साफ-सफाई के सम्बन्ध में ब्रीफिंग करें। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिये कि वे आवश्यकता पड़ने पर निजी चिकित्सालयों के वेंटिलेटर को अधिग्रहित करें। आइसोलेशन फेसिलिटी सेन्टर का भ्रमण अनिवार्य रूप से कर लिया जाये और किसी भी अफवाह से सतर्क रहा जाये। कमिश्नर ने निर्देश दिये कि किसी भी आकस्मिक स्थिति से निपटने के लिये शव वाहन भी तैयार रखे जायें। छात्रावास एवं सामुदायिक भवन को आइसोलेशन सेन्टर बनाने के लिये चिन्हित किये जायें। उन्होंने बताया कि स्थापित कंट्रोल रूम में यदि कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की कोई कॉल आती है तो तत्काल उसे शासन स्तर पर एवं जिला प्रशासन स्तर पर पहुंचाया जाये। शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में पलायन करने वाले लोगों की जानकारी रखी जाये एवं उनका स्वास्थ्य परीक्षण अनिवार्य रूप से किया जाये।
​कमिश्नर ने समस्त कलेक्टर्स को निर्देश दिये कि वे अपने-अपने क्षेत्र के कृषि मजदूर, कारखाना मजदूर एवं अन्य सेक्टर में लगे हुए मजदूरों को निर्देश दें कि वे अनावश्यक पलायन न करें। इन मजदूरों के भोजन की व्यवस्था भी जिला प्रशासन प्राथमिकता से करे। कमिश्नर ने कहा कि कलेक्टर सभी व्यापारी संघों को निर्देश दे कि वे अपने यहां काम करने वाले श्रमिकों की मजदूरी न काटे। उन्होंने कहा कि किसी भी आकस्मिक स्थिति के लिये हमेशा तैयार रहते हुए सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था की भी व्यवस्था सुनिश्चित की जाये। कमिश्नर ने कहा कि सभी बैंक अपना कार्य हमेशा की तरह चालू रखें। फल, दूध, सब्जी आदि आवश्यक चीजें लोगों तक पहुंचे, इसके लिये समय निर्धारित कर लिया जाये।
​पुलिस महानिरीक्षक श्री राकेश गुप्ता ने समस्त पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिये कि वे अपने-अपने जिलों में यह सुनिश्चित करें कि पेट्रोल पम्प खुले रहें, डोर टू डोर सर्विस में समय की पाबन्दी न रहे। माल सप्लाई करने वाले वाहनों को बॉर्डर पर न रोका जाये। रतलाम एवं देवास में स्थापित दवाई कंपनियों में कर्मचारियों की आवाजाही बाधित न की जाये। यदि कोई 100 डायल पर कोरोना से सम्बन्धित सूचना देता है तो उस पर तत्काल संज्ञान लिया जाये। 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों की फील्ड में ड्यूटी न लगाई जाये। श्री गुप्ता ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान यह सुनिश्चित किया जाये कि आवश्यक वस्तुओं की ब्लेक मार्केटिंग न हो। लोग साधारण बुखार या खांसी में ओपीडी में न जायें, अपितु अस्पताल में स्थापित विशेष रूप से बनाये गये सेन्टर में जायें।
​वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान जिले के एनआईसी कक्ष में कलेक्टर श्री शशांक मिश्र, डीआईजी श्री मनीष कपूरिया, पुलिस अधीक्षक श्री सचिन अतुलकर, अपर कलेक्टर श्री आरपी तिवारी, श्री क्षितिज सिंघल, आयुक्त नगर निगम श्री ऋषि गर्ग सहित स्वास्थ्य विभाग एवं नगरीय प्रशासन विभाग के अधिकारीगण मौजूद थे।


Popular posts
अखाड़ा परिषद् अध्यक्ष नरेंद्र गिरी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत
Image
देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले वीर जवानों को श्रद्धांजलि
स्ट्रांग रूम का निरीक्षण करने के लिए राजनीतिक दल आमंत्रित 
फेसबुक गैंग के गुंडे दुर्लभ कश्यप की हत्या
Image
सरकारी जमीन पर तान दी मल्टी, टीएनसीपी ने निरस्त की अनुमति, नगर निगम ने भ्रष्टाचार की सीमा तोड़ी,,, बिल्डर ने शासकीय अधिकारी एवं इंजीनियरों से सांठगांठ कर अवैध मल्टी का निर्माण करने पर नगर निगम इंजीनियर मीनाक्षी शर्मा, भवन अधिकारी रामबाबू शर्मा, नगर निवेशक मनोज पाठक पर धारा 420, 467, 468, 471, 120-बी भादवी एवं भ्रष्टाचार का प्रकरण दर्ज करने की मांग की थी
Image