वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये नोवल कोरोना वायरस से बचाव का प्रशिक्षण दिया गया

 


उज्जैन । प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्रीमती पल्लवी जैन गोविल की उपस्थिति में गत दिवस मंत्रालय भोपाल में मैदानी अधिकारियों एवं अन्य संबंधित लोगों को नोवल कोरोना वायरस से बचाव के लिये वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण के दौरान श्वसन शिष्टाचार सहित अन्य उपायों की जानकारी दी गई। साथ ही भारत सरकार की ट्रेवल एडवाईजरी, पब्लिक हेल्थ एक्ट की अधिसूचना तथा सामूहिक समारोहों के आयोजन के संबंध में दिशा-निर्देश दिये गये।
प्रशिक्षण में प्रदेश के सभी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, सिविल सर्जन सह अस्पताल अधीक्षक, पैथोलाजिस्ट, जिला सर्विलेंस अधिकारी तथा एपिडिमियोलाजिस्ट शामिल हुए। 


*प्रदेश में अभी तक कोई पॉजीटिव प्रकरण नहीं*


राज्य सर्विलेंस इकाई द्वारा नोवल कोरोना वायरस के संक्रमण की स्थिति की लगातार निगरानी की जा रही है। इस इकाई द्वारा जारी बुलेटिन में जानकारी दी गयी कि प्रदेश में अब तक कोई पॉजीटिव प्रकरण नहीं है। प्रदेश में नोवल कोरोना वायरस से प्रभावित देशों से आने वाले 917 यात्रियों की पहचान की जा चुकी है। इनमें से 473 यात्री अपने घरों में आईसोलेशन में रखे गये हैं तथा 368 यात्रियों का सर्विलेंस पूरा हो चुका है।  
संभावित 38 प्रकरणों के सेम्पल जांच के लिये एनआईव्ही पुणे, इन्दिरा गांधी शासकीय मेडिकल कॉलेज नागपुर, एम्स भोपाल एवं एन.आई.आर.टी.एच. जबलपुर भेजे गए थे, जिनमें से 29 की रिपोर्ट निगेटिव आई है तथा 9 की रिपोर्ट आना बाकी है। इन्दौर, भोपाल, जबलपुर, छतरपुर व ग्वालियर एयरपोर्ट पर प्रभावित देशों से आने वाले यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा रही है। अब तक 11 हजार 674 यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है ।