जब जय हो ,जय हो ,महाकाल बाबा की से गूंज उठा गांधीनगर, 67 वर्ष लालचंद जैन को  कोरोना को  पराजित कर घर लौटे

 


उज्जैन । उज्जैन शहर के गांधीनगर की  वह  गली  जहां पर 67 वर्षीय लालचंद जैन रहते हैं ,जब   उनकी  कोरोनावायरस की जांच  रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो उदास हो  गयी । स्वाभाविक ही था  उनके  मोहल्ले में कोरोना के    खतरे  ने  दस्तक जो  दे दी  थी ।
            लेकिन समय पर  जांच  , हौसला अफजाई  , दवाई  और  पौष्टिक  आहार के चलते लाल चंद जैन 2 मई को स्वस्थ होकर अपने घर  लोटे ।जैसे ही आरआर टी   टीम उनको लेकर  गांधीनगर पहुंची लोगों ने खड़े होकर जोर जोर से तालियां बजाना शुरू कर दी ,जय महाकाल के जयकारे लगाए ।लालचंद जैन भी  उत्साह से  हाथ  उठाकर  सभी  लोगों का अभिवादन स्वीकार  करते   और  धीरे-धीरे अपने घर की ओर बढ़ रहे थे. स्वस्थ होकर लोटे श्री  लालचंद जैन को लेकर उनके मोहल्ले में जो उत्साह था वह वाजिब भी था ।क्योंकि उनकी उम्र 67 वर्ष है और ऐसे उम्र दराज लोगों को  कोरोना  वायरस का खतरा ज्यादा ही होता है। फिलहाल लालचंद जैन का घर लौटना जहां लोगों में कोरोना वायरस की लड़ाई के विरुद्ध एक आस्था जगाता है। वही इस खतरे  के  बीच में काम कर रहे चिकित्सकों ,शासन के  प्रशाशनिक व  पुलिस  अधिकारियों  की मेहनत के प्रति भी विश्वास को मजबूत करता है । जिला कलेक्टर  श्री शशांक मिश्र ने  अपने वीडियो संदेश में कहा भी है कि   आम जन को यदि कोरोनावायरस  वायरस से संक्रमण की शंका हो तो  वे उसको छुपाए नहीं और तुरंत ही 104 पर  सूचना दें । जल्दी सूचना मिलेगी  तो मरीज की देखभाल भी अच्छे से होगी। जांच भी होगी और निश्चित रूप से  लाल चंद जैन की   तरह  ठीक होकर लोग अपने घरों की ओर  लौटेंगे ।  गांधीनगर के लोगों ने न केवल  लालचंद जैन का स्वागत किया बल्कि  चिकित्सा विभाग की  वँहा पर  तैनात आरआरटीटी जिसमें डॉक्टर रोनक एलची , डॉक्टर अभिषेक सिसोदिया, चिकित्सा कर्मी सुश्री रीना कुशवाहा, श्री राजेंद्र, पुलिसकर्मी  श्री  सूर्य कुमार सिंह का भी ताली बजाकर शुक्रिया अदा किया। जिनकी  सक्रियता  की वजह से गांधीनगर में कोरोनावायरस का  ज्यादा फैलाव नहीं हुआ ।


Popular posts
बेटे के वियोग में गीत बनाया , बन गया प्रेमियों का सबसे अमर गाना
Image
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image
11 वर्षो से महाकालेश्वर से बोरेश्वर महादेव की यह यात्रा अनवरत जारी है
इस स्वतंत्रता दिवस, चलिए प्लास्टिक से होते हैं स्वतंत्र
Image
वदतु संस्कृतं, जयतु भारतं,,,,,,,,, संस्कृत एवं भारतीय संस्कृति को समूचे विश्व में फैलाना है, महर्षि पाणिनि संस्कृत विश्वविद्यालय का प्रथम दीक्षांत समारोह सम्पन्न,
Image