फिर दो की मौत, 7 माह का बच्चा भी संक्रमित, डॉ. महाडिक के घर पहुंचा कोरोना, चाय पत्ती का होलसेल व्यापारी भी पॉजिटिव, बड़नगर में भी कहर

उज्जैन। आज का हेल्थ बुलेटिन जारी हो गया है, पॉजिटिव मरीजों की संख्या आज फिर 14 आई है मरने वालों की संख्या भी 40 से बढ़कर 42 हो गई है, आज जिन मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है उनमें से जानसा हीपुरा की एक महिला उम्र 40 वर्ष और लक्ष्मी नगर का एक पुरुष उम्र उम्र 49 वर्ष की मौत हो चुकी है। आज जो पॉजिटिव रिपोर्ट आई है उनमें कादर पूरा का 7 माह का एक बच्चा और नागौरी मोहल्ले का 8 साल का एक बच्चा शामिल है रिपोर्ट में बड़नगर के एक ही मोहल्ले के चार लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है इनमें से दो महिलाएं 38, और 51 वर्ष की है जबकि दो पुरुष 27 और 31 वर्ष के हैं कमरी मार्ग की एक महिला भी जिसकी उम्र 41 वर्ष है पॉजिटिव आई है इसके अलावा दौलतगंज के एक मशहूर व्यापारी जिनकी चाय की होलसेल की दुकान है जगदीश गली निवासी उम्र 55 वर्ष की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है आज की रिपोर्ट में सबसे ज्यादा छुपाने वाली रिपोर्ट डॉक्टर महाडिक के परिवार की है महाडिक के परिवार में क्षीरसागर रहने वाले 10 वर्षीय युवक और 50 वर्षीय महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अब यह तय हो गया है कि डॉक्टर महाडिक ने उज्जैन शहर में कोरोना के कीटाणु फैलाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। आज की रिपोर्ट के मुताबिक 98 नए सैंपल लिए गए हैं जबकि 209 की रिपोर्ट आना शेष है आज प्राप्त रिपोर्ट में 153 नेगेटिव रिपोर्ट प्राप्त हुई है जबकि 14 रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अब उज्जैन में पॉजिटिव की संख्या बढ़कर 198 हो गई है मरने वालों की संख्या भी 40 से बढ़कर 42 हो गई है, आश्चर्य की बात यह भी है कि ज़िंदगियां लगातार लाशों में बदल रही है, लेकिन तमाम विरोध के बावजूद मौजूदा सरकार आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज पर पूरी तरह फिदा है, नयापुरा के जिस परिवार में कोरोनावायरस आया उनका कहना है कि हमें उज्जैन के आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में इलाज नहीं करवाना है क्योंकि वहां से जिंदा आने की उम्मीद कम होती है इसलिए इंदौर के अरविंदो में इलाज करवाया जाए, नयापुरा के ही एक अन्य परिवार ने यहां तक कह डाला कि यदि हमारे परिवार के अन्य किसी सदस्य कि रिपोर्ट पॉजिटिव आए तो हमें आरडी गार्डी मेडिकल कालेज में भर्ती मत करना चाहे तो गोली मारकर हमारी जान लेना, सांसद और विधायक आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज को लेकर खासे नाराज है लेकिन सरकार है कि मानती ही नहीं।


*चेरिटेबल हॉस्पिटल की आकस्मिक जांच की गई, एक डॉक्टर अनुपस्थित पाई गई*


कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी द्वारा  दिये  गये  निर्देशों  के  तारतम्य  में  आज     6 मई को चेरिटेबल  हॉस्पिटल का आकस्मिक निरीक्षण किया तथा पाया कि यहां एक डॉक्टर अनुपस्थित है।
निरीक्षण टीप के आधार पर अपर कलेक्टर एवं सक्षम अधिकारी श्रीमती बिदिशा मुखर्जी ने चेरिटेबल अस्पताल की डॉ.अदिति अवस्थी को नोटिस जारी कर आगामी 12 घंटे में अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं। साथ  ही चेतावनी  दी  गई  है  कि ड्यूटी पर उपस्थित नहीं होने की स्थिति में  उक्त स्टाफ के विरुद्ध आवश्यक सेवा  संधारण  तथा  विच्छिन्नता  निवारण अधिनियम-1979, डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट-2005  तथा एपिडेमिक डिजिज एक्ट-1897 की  धाराओं  के तहत दंडात्मक कार्यवाही की जायेगी।