दबंग एसपी मनोज सिंह अब जिस्मफरोशी डकैती कांड के आरोपियों को जेल भेजकर जन आकांक्षाओं पर खरा उतरे

उज्जैन।जिस्म फरोशी के धंधे पुलिस की वर्दी का उपयोग कर, जिस्म की मंडी में दलाली करने वाले नानाखेड़ा थाने में पदस्थ तीन पुलिसकर्मियों को पहले लाइन अटैच करने और जांच के बाद सारे सबूत उनके खिलाफ सामने आने के बाद इन्हें सस्पेंड करने और नानाखेड़ा थाना प्रभारी सतनाम सिंह के साथ-साथ सब इंस्पेक्टर देवड़ा को लाइन अटैच करने का साहस करने वाले पुलिस अधीक्षक मनोज सिंह ने निसंदेह खाकी वर्दी की आड़ में छुपे लुटेरों को बेनकाब किया है लेकिन खुले आम डकैती करने वाले इन सभी पुलिसकर्मियों के खिलाफ नानाखेड़ा थाने में ही प्रकरण दर्ज करने में देरी नहीं करना चाहिए, सूत्रों का कहना है कि पुलिस फरियादी का इंतजार कर रही है लेकिन हमारा कहना है कि अनेक मामलों में सुप्रीम कोर्ट भी स्वत संज्ञान लेकर मामला दर्ज करने के निर्देश जारी करती है तो फिर इस मामले में प्रकरण दर्ज करने में देरी क्यों? वैसे भी नानाखेड़ा क्षेत्र में चल रहे जिस्मफरोशी के खेल का पर्दाफाश हो चुका है और वह सारे काले चेहरे सामने है जिन्होंने खुलेआम कानून की धज्जियां उड़ाई। लगभग 10 दिन पहले नानाखेड़ा क्षेत्र मैं विक्रमादित्य क्लॉथ मार्केट 1 चर्चित व्यापारी जिसका सरनेम कोठारी बताया जाता है राणा खेड़ा थाना क्षेत्र में जिस्मफरोशी करने वाली एक महिला के साथ पकड़ा गया था, वहां पहुंचे पुलिस कर्मियों के साथ सौदेबाजी के बाद सूत्रों के मुताबिक ढाई लाख रुपए वसूले गए और इसके बाद मामले को रफा-दफा कर दिया, बाद में पूरे मामले का एक समाचार पत्र में पर्दाफाश होने के कारण प्रारंभिक जांच में घटना सही साबित हुई और जांच सीएसपी बाथम को सौंपते हुए कांस्टेबल संजीव सिंह , सुनील बिठूरे और राममूर्ति को तत्काल प्रभाव से लाइन अटैच कर दिया गया, जांच में यह साबित हुआ कि नानाखेड़ा क्षेत्र में जिस्मफरोशी का धंधा खूब फल-फूल रहा है और इस गंदे धंधे में कई बड़े व्यापारियों और रसूखदार लोगों को फंसा कर उनसे रुपए बैठने वाली कुछ कॉल गर्ल अपने धंधे को दिन दूनी रात चौगुनी गति से आगे बढ़ा रही है, इस धंधे को किसी की नजर ना लगे इसलिए इसमें कुछ पुलिस वालों को भी शामिल किया गया, जांच के बाद तीनों कांस्टेबलों को लाइन अटैच के स्थान पर सस्पेंड कर दिया गया और एसआई देवड़ा तथा थाना प्रभारी सतनाम सिंह लाइन अटैच कर दिया गया, घटना में शामिल महिला को अभयदान दिया गया है जो अनेक सवाल खड़े कर रहा है, पुलिस अधीक्षक मनोज सिंह ने पिछले दिनों चोरी की एक घटना में चोरी किए गए रुपयों से कहीं अधिक रुपया आरोपियों से जब्त कर न सिर्फ सबको चौंका दिया था बल्कि पुलिस पर भरोसा कायम रखने वालों को यह संदेश भी दिया था कि सभी पुलिसवाले भ्रष्ट नहीं होते हैं, इस मामले में भी पुलिस अधीक्षक मनोज सिंह को वह सभी काले चेहरे सामने लाना चाहिए और उन्हें सख्त सजा दिलवाना चाहिए जो नानाखेड़ा की जिस्मफरोशी कांड में खुलेआम ना सिर्फ शामिल थे बल्कि इस क्षेत्र को जिस्मफरोशी का अड्डा बनाने के जुर्म को लगातार अंजाम दे रहे थे।


Popular posts
122 साल पुराने उज्जैन के नक्शे को आधार बनाकर,,, तालाबों की जमीन हड़पने वालों पर शिकंजा कसेगा,,, उज्जैन जिलाधीश के निर्देश से जमीन पर कब्जा करने वालों में हड़कंप मचा
Image
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
उज्जैन के अश्विनी शोध संस्थान में मौजूद हैं 2600 साल पुराने सिक्के
Image
उज्जैन के विश्वप्रसिद्ध महाकाल मंदिर परिसर में बिना अनुमति के युवती द्वारा वीडियो बनाकर वायरल किए जाने पर प्रकरण पंजीबद्ध
Image