400 करोड़ रुपये की भूमि शासन ने कब्जे में ली


      उज्जैन  ।कलेक्टर श्री आशीष सिंह के निर्देश पर आज भूमाफियाओं पर कड़ी कार्यवाही करते हुए नरेश जिनिंग मील की 4.934 हेक्टेयर जमीन पर से अतिक्रमण हटाते हुए शासन की ओर से कब्जा लिया गया। उल्लेखनीय है कि उक्त बेशकीमती जमीन का बाजार मूल्य लगभग 400 करोड़ रुपये से अधिक है। आज जिला प्रशासन की ओर से एडीएम श्री नरेन्द्र सूर्यवंशी एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री अमरेन्द्र सिंह की मौजूदगी में तहसीलदार द्वारा भूमि का कब्जा लिया गया एवं मौके पर पंचनामा बनाया गया। जिले में निरन्तर भूमाफियाओं के खिलाफ कार्यवाही करते हुए करोड़ों रुपये की जमीन शासकीय घोषित करते हुए उसका कब्जा प्राप्त किया जा रहा है। आज जिस जमीन का कब्जा प्राप्त किया गया वह उज्जैन-आगर रोड पर नगर के बीचोबीच स्थित है और अत्यन्त ही कीमती भूमि है, जिस पर भूमाफिया वर्षों से कब्जा जमाये हुए थे। उक्त जमीन पर शीतल पेय कंपनी, शराब की दुकान, पान की दुकान, आटाचक्की, टायर, इलेक्ट्रीक उपकरण की दुकान, प्रिंटिंग प्रेस, मेडिकल, नमकीन, होटल आदि की 26 व्यवसायिक दुकान है, जो जबरन उक्त जमीन पर कब्जा जमाये बैठे थे, जिनको दुकानें हटाने के निर्देश दिये गये हैं।


      उल्लेखनीय है कि ताकायमी भूमि पर वर्तमान में कोई ऑईल मील या जिनिंग फैक्टरी का कार्य नहीं चल रहा है। उक्त भूमि सर्वे नम्बर 1359/1 एवं 1359/2/3 रकबा 4.934 हेक्टेयर पर से औद्योगिक गतिविधि पूर्णत: समाप्त हो जाने से उक्त भूमि को मप्र भूराजस्व संहिता-1959 की धारा-181 के तहत ताकायमी भूमि का कारखाना पट्टा निरस्त करते हुए भूमि को शासकीय अभिलेख में दर्ज करने के निर्देश दिये गये थे। उक्त आदेश के तारतम्य में आज शासकीय भूमि का स्वामित्व अतिक्रमण हटाते हुए लिया गया।

Popular posts
डराने लगा है कोरोना, महिला जज, प्रोफेसर पति पत्नी,, कॉलेज के प्राचार्य सहित 19 पॉजिटिव,
Image
कोरोना के मरीजों की संख्या में आश्चर्यजनक वृद्धि होने से एक और जहां शहर में दहशत , वहीं दूसरी ओर प्रशासन की कार्यप्रणाली भी संदेह के घेरे में है
Image
लोकायुक्त टीम के 3 अधिकारी और 30 सदस्यों की टीम ने तीन स्थानों पर की कार्रवाई
Image
महाशिवरात्रि पर ऑनलाइन , एप अथवा टोल फ्री नंबर पर प्री बुकिंग करवाई जा सकेगी,,,,प्री बुकिंग 5 मार्च से खुलेगी
Image
बरकतउल्ला विवि कार्य परिषद का निर्णय : संविदा पद से डॉ आशा शुक्ला सेवानिवृत्त कुलपति पद पर नियुक्ति मामले में राजभवन को किसने धोखे में रखा
Image