अमलतास विशेष विद्यालय मेंअनूठी पहल – राखी के बंधन की डोर के साथ इन बच्चो के होंसलो को करे और मजबूत

 


देवास - अमलतास विशेष विद्यालय (अमलतास अस्पताल ,देवास )के बच्चों के होसलों की झलक देखने और उनमें आत्मविश्वास जगाने के लिए आज दिनांक 29 जुलाई शनिवार दिव्यांग बच्चों द्वारा राखी प्रदर्शनी रखी गई जिसमें बच्चों ने कई सुन्दर राखी बनाई गई | साथ ही मुख्य अथिति के रूप में श्री मंत विक्रम सिंह पवार (देवास रियासत महाराज साहब ), डॉक्टर दीपक मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी उज्जैन और मीडिया के साथीगण मोजूद थे अतिथि के हाथ बच्चों द्वारा लगाई गई दुकान का उद्घाटन किया गया एवं पुनित कार्य की सराहना की | इन बच्चों को भले ही दुनिया की रीत रिवाज ना पता हो, लेकिन इनके दिलेों में अपनों के लिये जज्बा एवं आत्मनिर्भ


रता समाज के लिये अनोखा संदेश देता है | सामान्यत: हम देखते है की जो बच्चे पूर्णत: विकसित होते है , वो अपना काम खुद कर सकते है लेकिन हमारे अमलतास द्वारा संचालित स्पेशल स्कूल में जो न चल पाते है न बोल पाते है न समझ पाते है ऐसे बच्चे अगर कुछ करे तो एक नया आयाम स्थापित करते है अमलतास अस्पताल ने यह कर दिखाया है जिससे हमारे स्कूल के डॉक्टर्स , शिक्षक और अमलतास के संस्थापक श्री सुरेश सिंह भदोरिया जी के सपने को पंख दिखाने का काम किया है बच्चो ने राखियाँ बनाई है हम इसे जन जन तक पंहुचाना चाहते है विशेष विद्यालय के प्रिंसिपल डॉ.भारती लाहोरिया द्वारा बताया गया की हमारा उद्देश्य है कि सभी लोग राखी ख़रीदे और जो राशि एकत्रित होगी वो इन छात्रों के विकास के लिए ही लगाई जाएगी ज्यादा से ज्यादा लोग राखी खरीदे , और अपने मित्र ,परिजन में भी राखी खरीदने का आग्रह कर हम मिल कर इन बच्चो के जीवन में खुशीया ला सकते है ! अमलतास अस्पताल के चेयरमैन श्री मयंक सिंह भदोरिया जी द्वारा बताया गया कि इस योजना को जन जन तक पंहुचा कर हम अपने को ओर किसी और को खुशिया दे सकते है! अभी स्कूल में 100 बच्चे है जिनका निरंतर थेरेपी और ईलाज चल रहा है |

Popular posts
बेटे के वियोग में गीत बनाया , बन गया प्रेमियों का सबसे अमर गाना
Image
ये दुनिया नफरतों की आखरी स्टेज पर है  इलाज इसका मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं है ,मेले में सफलतापूर्वक आयोजित हुआ मुशायरा
उज्जैन के अश्विनी शोध संस्थान में मौजूद हैं 2600 साल पुराने सिक्के
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
नवनियुक्त मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव को उज्जैन तथा अन्य जिलों से आए जनप्रतिनिधियों कार्यकर्ताओं और परिचितों ने लालघाटी स्थित वीआईपी विश्रामगृह पहुंचकर बधाई और शुभकामनाएं दी
Image