कोरोना का कहर शहर के चप्पे-चप्पे पर मौजूद , संदिग्ध की मौत के बाद lic में हड़कंप मचा

 उज्जैन ।कोरोना का कहर शहर के चप्पे-चप्पे पर मौजूद


है, बावजूद इसके शहर के नागरिक बेखौफ होकर शहर में घूम रहे हैं। पिछले 5 दिनों का डाटा होश उड़ाने वाला है। 1 जनवरी को कोरोना पॉजिटिव आने वालों की संख्या 14 थी इसमें पुलिस विभाग में कार्यरत कर्मी ,सैलून संचालक, फ्रीगंज का प्रतिष्ठित व्यापारी और फ्रीगंज क्षेत्र में ही प्रतिष्ठित नमकीन की दुकान का संचालक पॉजिटिव आया था । 2 जनवरी को पॉजिटिव आने वालों की संख्या 22 थी, इसमें शासकीय टीचर, हेल्थ वर्कर, बैंक कर्मी ,कैटरिंग कर्मी, किसान, विद्युत मंडल कर्मचारी और ऑटो डील की दुकान चलाने वाला शामिल था। 3 जनवरी को 14 पॉजिटिव आने वालों में कपड़े की दुकान संचालित करने वाला, राजनेता कॉस्मेटिक शॉप डीलर ,सीनियर सिटीजन, पीडब्ल्यूडी वर्कर, बैंक कर्मी ,विश्वविद्यालय कर्मी और ड्राइवर शामिल था । इसी तरह 4 जनवरी को 9 पॉजिटिव आने वालों में बैंक कर्मचारी, एडवोकेट ,पुजारी और शासकीय कर्मी शामिल थे। 5 जनवरी को 15  पॉजिटिव आने वालों में प्राइवेट जॉब करने वाले, ड्राइवर, टेलीविजन शॉप मालिक ,टाटा प्रोजेक्ट में काम करने वाला , रेस्टोरेंट्स संचालक और स्टूडेंट्स शामिल था। इन 5 दिनों की समीक्षा की जाए तो स्पष्ट हो जाता है कि शहर के चप्पे-चप्पे पर कोरोना पॉजिटिव  आने वाले मौजूद  है इसके अतिरिक्त रिपीट पॉजिटिव आने वालों की संख्या भी कम चौका देने वाली नहीं है। 4 जनवरी को हुई जांच में 9 पॉजीटिव आने के साथ-साथ रिपीट पॉजिटिवआने वालों की संख्या भी 9 थी ,,,यानी कि जितने पॉजिटिव आए उतने ही रिपीट पॉजिटिव भी आए ,रिपीट पॉजिटिव आने वालों में बड़ी संख्या में युवा वर्ग शामिल है। 4 जनवरी को रिपीट पॉजिटिव आने वालों में 20 वर्षीय युवक जो की बेगम बाग में रहता है और स्टूडेंट है शामिल है ।इसी प्रकार 2 जनवरी को 30 वर्षीय युवक जो कि राजीव नगर में रहता है रिपीट पॉजिटिव आया था ।1 जनवरी को भी तिरुपति ड्रीम्स में रहने वाली 29 वर्षीय महिला रिपिटेटिव आई थी। 5 जनवरी को 38 वर्षीय युवक पॉजिटिव आया था। भारतीय जीवन बीमा निगम में भी 25% से अधिक कर्मचारी, अधिकारी पॉजिटिव आने के बाद हड़कंप मचा हुआ है। कल शाम एल आई सी के 50 वर्षीय कर्मचारी की अचानक मौत होने के बाद विभाग के अधिकारी सकते में है। बताया जाता है कि उक्त कर्मचारी अचानक बीमार हुआ और अस्पताल पहुंचने के कुछ देर बाद उसने दम तोड़ दिया ।कोरोना प्रोटोकॉल के तहत उसका अंतिम संस्कार किया गया ।इसी तरह एल आई सी के अकाउंटेंट 5 जनवरी को रिपीट पॉजिटिव आया।शाखा क्रमांक 1 भरतपुर ब्रांच के ही सहायक ब्रांच मैनेजर और विकास अधिकारी के साथ-साथ एलआईसी में काम करने वाले कुछ कर्मचारी और एजेंट पिछले 15 दिनों में पॉजिटिव आ चुके हैं। जिससे एलआईसी में कार्यरत अधिकारी और कर्मचारी भयभीत है। जिला प्रशासन ने भी अब कोरोना फैलाने वालों को सख्ती से रोकना बंद कर दिया है। यहां तक की कोरोना पॉजिटिव आने वाले प्रतिष्ठित व्यवसाई अपनी दुकानों का संचालन भी पूर्ववत ही कर रहे हैं जिससे शहर में कोरोना तेजी से फैल रहा है।