खुद डूब गया पर डूबने से बचा गया उज्जैन का नाम

 उज्जैन। शिप्रा नदी में डूब रहे मामी भांजे को बचाने में तैराक ने अपनी जान गवा दी ,उसने महिला को तो सुरक्षित निकाल लिया था लेकिन पुरुष को बचाने में स्वयं भी गहरे पानी में चला गया, एक अन्य तेराक ने जब डूबते हुए देखा तो वह भी पानी में कूद पड़ा और बेहोशी की हालत में उसे पानी से निकाला। अस्पताल में डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बताया जाता है कि महाराष्ट्र के जलगांव से हरीश अपनी मामी मंगल बाई जोकि औरंगाबाद में रहती है के साथ उज्जैन महाकालेश्वर दर्शन और शिप्रा नदी में स्नान करने आया था, शिप्रा नदी में स्नान करते वक्त मामी मंगल  बाई गहरे पानी में चली गई उसे बचाने भांजा हरीश भी पानी में कूदा लेकिन उसे तैरना नहीं आता था, जान बचाने के लिए जब वह चिल्लाया तो तैराक पंकज चावडा भी पानी में कूद पड़ा उसने मामी और भांजे को तो बचा लिया ,लेकिन खुद गहरे पानी से बाहर नहीं निकल पाया और उसकी मौत हो गई। शिप्रा के तट पर हुई इस घटना के बाद तट पर मौजूद लोगों की आंखें नम थी।



Popular posts
फेसबुक गैंग के गुंडे दुर्लभ कश्यप की हत्या
Image
तेजरफ्तार बस हुई दुर्घटनाग्रस्त, 3 की मौत, करीब 10 से 12 घायल
Image
महापौर मधुकर वर्मा के कांग्रेस की परिषद थी, महापौर थे मधुकर वर्मा तब भी चलता था लेनदेन का खेल ,,, निगम के इंजीनियरों ने रिश्वत की राशि के लिए बना रखा था गंगाजलि फंड
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
गोवर्धन सागर को अतिक्रमण से मुक्त कराने की कार्रवाई प्रारंभ हुई, 35अतिक्रमण हटाए गए, 28 दुकाने और 7 मकान तोड़े गये
Image