कोरोना के मरीजों की संख्या में आश्चर्यजनक वृद्धि होने से एक और जहां शहर में दहशत , वहीं दूसरी ओर प्रशासन की कार्यप्रणाली भी संदेह के घेरे में है

 उज्जैन । पिछले 7 दिनों में कोरोना के मरीजों की संख्या में आश्चर्यजनक वृद्धि होने से एक और जहां शहर में दहशत ,वहीं दूसरी ओर प्रशासन की कार्यप्रणाली भी संदेह के घेरे में है। 

 कोरोना मरीजों के सरकारी आंकड़े रात 11:00 बजे जारी होने को लेकर भी प्रशासन की कार्य करने की शैली समझ से बाहर है, पूरे प्रदेश में उज्जैन ऐसा अकेला शहर होगा जहां रात के अंधेरे में कोरोना बुलेटिन जारी किया जाता है, आंकड़ों पर नजर डाले तो स्तिथि नियंत्रण से बाहर नजर आती है।

 22 फरवरी को 73 जांच में सिर्फ 4 पॉजिटिव ,23 फरवरी को 305 में 6 पॉजिटिव , 24 फरवरी को 265 में 7 पॉजिटिव, 25 फरवरी को 234 में 4 पॉजिटिव , 26 फरवरी को 252 में 8 पॉजिटिव ,27 फरवरी को 288  में 12 पॉजिटिव और 28 फरवरी को सबसे ज्यादा चौकानेवाले परिणाम सामने आए 129 में 14 रिपोर्ट पॉजिटिव आई,,,,,,, 22 तारीख से लेकर 28 फरवरी तक का 7 दिन का ग्राफ देखे तो क्रमशः 4%, 1.9 6%,,, 2 .7 प्रतिशत 1 . 7 प्रतिशत ,,,3% ,,,,,4% और 28 फरवरी को सर्वाधिक 11% पॉजिटिव आए, अर्थात 100 में से 11 पॉजिटिव निकले यह रिपोर्ट ना सिर्फ चौका देने वाली है बल्कि भविष्य के खतरे की तरफ भी इशारा कर रही है।

कोरोना के बढ़ते मरीजों को लेकर प्रशासन की कार्यप्रणाली भी संदेह के घेरे में है

विश्वसनीय सूत्रों से प्राप्त जानकारी यूके मुताबिक बुलेटिन में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के आंकड़ों को छुपाया जा रहा है, शहर की अनेक प्राइवेट लैब में पॉजिटिव आने वाले मरीजों की जानकारी हेल्थ बुलेटिन में दर्शाई नहीं जा रही है, इस संबंध में मालव क्रांति को  पुख्ता जानकारी


हासिल हुई है, उदाहरण के तौर पर संजीवनी अस्पताल में ऐसे अनेक मरीज पिछले तीन-चार दिनों में भर्ती हुए हैं ,जिनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, लेकिन प्राइवेट लैब में टेस्ट करवाने के कारण उनकी रिपोर्ट को कोरोना बुलेटिन में शामिल नहीं किया गया है. मुंबई से आई एक दंपत्ति भी 4 दिन पहले प्राइवेट लैब में जांच के बाद पॉजिटिव आई थी लेकिन उन्हें भी हेल्थ बुलेटिन में शामिल नहीं किया गया, प्राइवेट लैब में होने वाली जांचों को बुलेटिन में शामिल नहीं किए जाने से कोरोना पॉजिटिव आने वाले मरीजों की जानकारी उनके पड़ोसी तक को नहीं हो रही है जिसके कारण कोरोना से बचाव के प्रयास बेमानी साबित हो रहे हैं। प्राइवेट लैब में मरीजों से वसूली भी जमकर हो रही है पुलिस कंट्रोल रूम के सामने स्थित एक लैब में एक जांच के 14 सो रुपए वसूले जा रहे हैं।

Popular posts
उज्जैन के चरक में भर्ती लड़की का वीडियो वायरल हुआ
Image
5 दिन में 5 फोटोग्राफर मौत के मुंह में समा गए,,,,,
Image
राजनीति और धर्म के क्षेत्र की दो हस्तियों का दुखद निधन,,,,, कोरोना के कहर से कब उबरेगा शहर
Image
भाजपा के दबंग नेता शिवा कोटवानी नहीं रहे,,,, दोपहर में ही उनके बड़े भाई की दुखद मृत्यु हुई थी,,, परिवार के अन्य सदस्य भी कोरोना से पीड़ित
Image
Corona breaking,,,,,, पूरा परिवार आ रहा है पॉजिटिव,,,,,, पूर्व विधायक सहित 12 साल की मासूम चपेट में आई,,,,,, होलसेल दवा व्यापारी का पूरा परिवार संक्रमित,,,,, ऋषि नगर, विवेकानंद कॉलोनी और नानाखेड़ा हॉटस्पॉट बने,,,,,, पॉजिटिव आने वालों की चौका देने वाली 23% दर,,,,,, और भी बहुत कुछ,,,,,
Image