अपनों की लापरवाही से ,बच्चों पर कोरोना का कहर, नागपुर से बचने उज्जैन आए लेकिन 6 साल की मासूम आ गई चपेट में

 उज्जैन। मध्यप्रदेश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, प्रदेश के साथ-साथ देश के हालात भी ठीक नहीं है। इधर उज्जैन शहर में लगातार कोरोना पॉजिटिव मरीजों का  आंकड़ा 19 दिन तक बढ़ने के बाद 20 अप्रैल को कुछ राहत थी ,लेकिन यह राहत बढ़ते मामलों के बीच बहुत कम है। कोरोना के नए मरीजों में 3 साल ,5 साल, 2 साल , 6 माह और डेढ़ साल के बच्चे भी शामिल हो रहे हैं जोकि चिंता का विषय है। कम उम्र के बच्चों को यह रोग उनके अभिभावक जाने अनजाने में दे रहे हैं ।दैनिक मालव क्रांति की पड़ताल में ऐसे कुछ किस्से सामने आए जिससे सबक लेना सबके लिए जरूरी है। 20 अप्रैल को बंगाली कॉलोनी में रहने वाला एक 3 वर्षीय बच्चा कोरोना की चपेट में आया , बच्चे के पिता एमआर है, हालांकि उनके अनुसार वे पिछले 26 मार्च से घर से बाहर नहीं गए लेकिन इसके पूर्व छह-सात दिन के लिए गोवा गए थे, संयुक्त परिवार होने के कारण  3 वर्ष के मासूम संक्रमित हुआ है , परिवार में बड़े पापा की कोरोना से मौत हुई है तथा परिवार के कुछ और सदस्य कोरोना पॉजिटिव है। निश्चित तौर पर परिवार के बड़े सदस्य की लापरवाही से मासूम कोरोना की चपेट में आया है। 17 अप्रैल को भी साईं विहार कॉलोनी में रहने वाला 3 वर्षीय मासूम कोरोना की चपेट में आ गया था इस मासूम के पिता भी एमआर है और लगातार बाहर जाने के कारण बच्चा संक्रमित हुआ । 19 अप्रैल को 6 वर्ष की एक बालिका पॉजिटिव आई बालिका का पूरा परिवार महाराष्ट्र से उज्जैन आया था उम्मीद थी कि कोरोना से वह उज्जैन में सेफ रहेंगे, तेजनकर अस्पताल के पास रहने वाले परिवार में नागपुर का यह परिवार पहुंचा लेकिन इस बीच किसी असावधानी की वजह से 6 वर्ष की बच्ची पॉजिटिव आ गई। 19 अप्रैल को ही भैरवगढ़ जेल परिसर में रहने वाले पुलिस विभाग के कर्मचारी की 4 वर्षीय पुत्री थी पॉजिटिव आई। इसके अलावा 17 अप्रैल को ही महानंदा नगर में रहने वाली 3 वर्षीय बालिका और कालिदास मार्ग पर रहने वाली 5 वर्ष की बच्ची पॉजिटिव आई। 16 अप्रैल को कालियादेह महल गांव में रहने वाली 6 वर्षीय बालक, राघव पिपलिया गांव में रहने वाली 4 साल की बच्ची, अग्रवाल नगर में रहने वाला 2 साल का बच्चा और बड़नगर में रहने वाली 6 महीने की बच्ची पॉजिटिव आ चुकी है। बच्चों के परिजनों से मालव क्रांति ने जब चर्चा की तो अधिकांश ने स्वीकारा कि परिवार के सदस्यों का लगातार बाहर आना जाना लगा रहा इसी वजह से मासूम कोरोना के चपेट में आए ।17 अप्रैल को बेगम बाग कॉलोनी में रहने वाली डेढ़ वर्ष की मासूम बच्ची के परिवार के अधिकांश सदस्य इंजीनियर है  उनकी लापरवाही की वजह से डेढ़ साल की बच्ची पॉजिटिव आ गई, बच्ची के दादाजी आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में भर्ती है जबकि परिवार के कुछ और सदस्य भी पॉजिटिव आए हैं और घर पर ही अपन इलाज करवा रहे हैं। बच्चों के प्रति यह लापरवाही ठीक नहीं है मासूम बच्चों को परिवार के सदस्यों से कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है ,पिछले 10 दिनों में 50 से अधिक बच्चे कोरोना संक्रमित हुए हैं।


Popular posts
शहर के वरिष्ठ पत्रकार के परिवार में तीसरी मौत,दो भाईयों के बाद अब बहु की मौत,,,,,, अनेक पत्रकार कोरोना से लड़ रहे हैं जंग
Image
केंद्रीय मंत्री थावर चंद जी की पुत्री की मृत्यु
Image
चारों तरफ मौत का तांडव और ऐसे में बेड के सौदागरो की करतूत का सामने आना बेहद शर्मनाक,,,,,, सोशल मीडिया पर वायरल चैट का सच सामने आना चाहिए
Image
कोरोना का नया ट्रेंड पूरा परिवार आ रहा है चपेट में,,,,, पूर्व सांसद का पुत्र संक्रमित हुआ,,,,, विद्यापति कॉलोनी में एक ही परिवार की चार महिलाएं पॉजिटिव आई,,,,,,,,, ऋषि नगर और आजाद नगर में भी पूरा परिवार पॉजिटिव,,,,,,,,
Image
सारे रिकॉर्ड टूटे,,,आज 410 पॉजीटिव
Image