श्रीमती कंचन त्रिपाठी के निधन से शोक की लहर

 


देश के प्रख्यात समालोचक,  साहित्यकार एवं विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के पूर्व हिंदी विभागाध्यक्ष स्वर्गीय आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी की पुत्रवधु एवं श्री अमिताभ त्रिपाठी बन्टुल की धर्मपत्नी श्रीमती कंचन त्रिपाठी का  दिनांक 23 अप्रैल को देर रात एक निजी अस्पताल में कोविड के इलाज के दौरान असामयिक दुखद निधन हो गया। वे 57 वर्ष की थीं। उन्होंने अपनी उच्च शिक्षा काशी हिंदू विश्वविद्यालय एवं विक्रम विश्वविद्यालय से प्राप्त की थी। पिछले कई दशकों तक उन्होंने देश के अनेक राज्यों में केंद्रीय विद्यालय में प्रशिक्षित स्नातक संस्कृत शिक्षिका के रूप में अविस्मरणीय सेवाएँ दीं। वे अपने पीछे दो पुत्र  छोड़ कर गई हैं।

अनेक साहित्यकार,  संस्कृतिकर्मियों और प्रबुद्ध जनों ने श्रीमती कंचन त्रिपाठी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए दिवंगत आत्मा के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की है।

Popular posts
122 साल पुराने उज्जैन के नक्शे को आधार बनाकर,,, तालाबों की जमीन हड़पने वालों पर शिकंजा कसेगा,,, उज्जैन जिलाधीश के निर्देश से जमीन पर कब्जा करने वालों में हड़कंप मचा
Image
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
उज्जैन के अश्विनी शोध संस्थान में मौजूद हैं 2600 साल पुराने सिक्के
Image
उज्जैन के विश्वप्रसिद्ध महाकाल मंदिर परिसर में बिना अनुमति के युवती द्वारा वीडियो बनाकर वायरल किए जाने पर प्रकरण पंजीबद्ध
Image