चुप क्यों है सरकार,,,,,,,,यह लूट नही डकैती है,,, महाराष्ट्र सरकार का मॉडल क्यों नहीं अपनाता मध्य प्रदेश

 रेमडसिवीर का संकट : आपदा में लूट का अवसर तलाश लिया दवाई विक्रेताओं ने 

••• महाराष्ट्र सरकार वाला मॉडल मप्र सरकार अपनाने की उदारता दिखाए तो लूट से बच सकते हैं मरीज-परिवार 

कीर्ति राणा

 इंदौर।

कोरोना संक्रमित मरीजों की जैसे जैसे संख्या बढ़ रही है, उपचार में कारगर माने जाने वाले इंजेक्शन रेमडसिवीर की मांग बढ़ने से इंदौर, भोपाल सहित अन्य शहरों में इसके मनमाने दाम वसूलने से मरीजों पर आर्थिक बोझ भी बढ़ता जा रहा है।पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में इस इंजेक्शन की कीमत ₹899 निर्धारित कर रखी है 

लेकिन इंदौर में ₹ 5400 एमआरपी वाले इंजेक्शन 

2 से 3 हजार तक में भी यहां वहां भटकने के 

बाद उपलब्ध हो रहे हैं।इंजेक्शन विक्रेताओं द्वारा आपदा में अवसर तलाशने से हजारों परिवार हर दिन लूट का शिकार हो रहे हैं। 

मुख्यमंत्री ने भले ही कोरोना मरीजों का नयूनतम खर्च पर उपचार के निर्देश दे रखे हैं

इंदौर कलेक्टर निजी अस्पताल संचालकों, दवाई विक्रेता संगठनों आदि के साथ बैठकों में रोज सख्ती कर रहे हैं लेकिन मरीजों की बढ़ती संख्या के चलते रेमडसिवीर की बढ़ती मांग और पर्याप्त पूर्ति के अभाव में कालाबाजारी वाले हालात बन रहे हैं।

माल मेरा, रेट मेरे वाली मनमानी 

इंदौर शहर में दवाइयों की थोक-फुटकर बिक्री करने वालों में 5 प्रतिशत ऐसे दवा विक्रेता हैं जहां रेमडसिवीर इंजेक्शनका स्टॉक रहता है।इस एक पखवाड़े से इन विक्रेताओं की चांदी है।जैसा ग्राहक वैसा भाव वसूला जा रहा है।कोरोना की पहली लहर में यही इंजेक्शन ₹ 5400 एमआरपी पर भी लोगों ने खरीदा है। बाद में प्रति इंजेक्शन 2800 पर और इन दिनों2 से 3 हजार में उपलब्ध है। यदि आप की प्रभावी लोगों से जान-पहचान है तो यह इंजेक्शन और सस्ते में भी उपलब्ध होजाता है।लेकिन जब मरीज को तत्काल डोज देने की अनिवार्यता बन रही हो तो परिजन जिस भाव में भी मिल जाए, खरीदने को मजबूर हो जाते हैं। 


🔹एक मरीज को छह इंजेक्शन का डोज अनिवार्य 


कोरोना उपचार में फिलहाल यही इंजेक्शन अधिक कारगर होने से एक मरीज को छह इंजेक्शन का डोज लगाना अनिवार्यहै।पहले दिन दो और बाकी के चार दिन एक-एक इंजेक्शन लगाया जाता है। पैसों का एकमुश्त इंतजाम न होने पर यह भीसंभव 

नहीं हो पा रहा है कि पीड़ित के परिजन हर रोज इंजेक्शन खरीद सकें। संबंधित दवाई विक्रेता भी कल माल की सप्लाय हो या नहीं जैसे कारण बता कर एक साथ छह इंजेक्शन खरीदने की सलाह देने से नहीं चूकते। 


🔹इंजेक्शन बनाने वाली प्रमुख दवा कंपनियां


कोरोना संक्रमित मरीज को रेमडसिवीर इंजेक्शन के एक डोज में 100 मिली ग्राम दवाई रहती है। ये इंजेक्शन बनानेवाली प्रमुख निर्माता कंपनिया सिपला, झायडस (केडिला), माइलान, हैट्रो, ग्लेनमार्क आदि कंपनियां हैं।इन सभी के गोदामदेवास नाका, पीथमपुर में हैं। इन बड़ी निर्माता कंपनियों से कच्चा माल लेकर अन्य छोटी कंपनियां भी रेमडसिवीर इंजेक्शन बनाने लगी हैं। दवा बाजारसे जुड़े एक खुदरा दवाई विक्रेता के मुताबिक फिलहाल मिल रहे इंजेक्शन का निर्माता कंपनियों ने एमआरपी सहित ₹ 5400, 4800, 4200 तय कर रखा है जबकि इनकी लागत अधिकतम 950 ₹ आती है। विक्रेता इसे न्यूनतम ₹2000 तकबेच रहे हैं। 

🔹बिना चीन की मदद के इंजेक्शन भी संभव नहीं 


रेमडसिवीर इंजेक्शन सहित अन्य दवाइयों के निर्माण में लगने वाले एपीआई ( एक्टिव पार्टिकल इंडीग्रेंडस) का पूरे विश्व में चीन बड़ा सप्लायर है।हालांकि कुछ निर्माता कंपनियां एपीआई निर्माण करने लगी हैं लेकिन अधिकांश भारतीय दवा कंपनियां अभी एपीआई के लिए चीन पर ही निर्भर हैं।तमाम कूटनीतिक तनाव के बावजूद चीन के प्रति भारत का उतना आक्रामक रवैया नजर नहीं आ रहा तो उसका प्रमुख कारण एपीआई वाली निर्भरता भी है। 


🔹‘हां छुट्टियों की वजह से सप्लाय में कमी हुई’ 


दवाबाजार विक्रेता एसोसिएशन के अध्यक्ष विनय बाकलीवाल ने माना कि पिछले कुछ दिनों में रेमडसिवीर इंजेक्शन केसंकट की स्थिति बनी हुई है। बाकलीवाल के मुताबिक होली-रंगपंचमी आदि अवकाश, महाराष्ट्र में अधिक डिमांड जैसेकारणों से इंदौर में संकट बना लेकिन यह अस्थायी है। शीघ्र हालत सामान्य हो जाएंगे।इंजेक्शन के मनमाने दाम वसूलनेवालों पर जिला प्रशासन कार्रवाई करे एसोसिएशन सहयोग करेगा। 


🔹महाराष्ट्र सरकार लूट से बचा सकती है तो 

मप्र सरकार क्यों नहीं पहल कर सकती


महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना संक्रमित मरीजों को मात्र ₹ 899में इंजेक्शन उपलब्ध कराने की पुख्ता व्यवस्था कर रखी है।मप्र सरकार ने अभी तक उस मॉडल को नहीं अपनाया है इससे आमजन में यह शंका पैदा हो रही है कि मप्र में दवाईविक्रेताओं ने सरकार से साठगांठ कर रखी है।मप्र सरकार से पहले इंदौर कलेक्टर चाहें तो महाराष्ट्र मॉडल को और बेहतरतरीके से लागू कर सकते हैं। 


🔹मुंबई में प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्रों को दे रखा है

इंजेक्शन की बिक्री का अधिकार

मुंबई में रेमडसिवीर इंजेक्शन की बिक्री महाराष्ट्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्रों से करवाई जा रहीहै।जो इंजेक्शन दवाई दुकानों पर 

₹4000 तक में मिल रहा है, इन केंद्रों से मात्र ₹899 में खरीदा जा सकता है। खरीदी केलिए जाने वाले व्यक्ति को अपना और मरीज का आधार कार्ड कोरोना पॉजिटिव होने की रिपोर्ट डॉक्टर का


लिखाप्रिसक्रिप्शन आदि साथ ले जाना होता। मरीज के परिजन कालाबाजारी न कर सकें इसलिए प्रतिदिन दो इंजेक्शन ही उपलब्ध कराए जाते है

लेखक कीर्ति राणा देश के जाने-माने पत्रकार और  चिंतक हैं

Popular posts
इन्दौर के चिकित्सकों का दल सेवाधाम की हवा और दीवारों की जांचकर ढूंढेगा मौत के कारण*
Image
किंकिणी कीर्तन राष्ट्रीय नृत्य उत्सव* के माध्यम से फिर एक बार महाकाल की नगरी उज्जैन में कथक नृत्य का एक प्रतिष्ठा पूर्ण आयोजन होने जा रहा है
Image
Breaking,,,,,,,,, नगर निगम आयुक्त कोरोना पॉजिटिव हुए
Image
कलेक्टर ने बैठक में निर्देश दिये कार्यक्रमों का मिनिट टू मिनिट कार्यक्रम तैयार किया जाये,,,,,,,29 मई को राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद का उज्जैन दौरा प्रस्तावित, अ.भा.आयुर्वेद महासम्मेलन व स्व-सहायता समूह के सम्मेलन में भाग लेंगे
Image
बिग ब्रेकिंग ,,,,,,जून में होंगे चुनाव,,,,?
Image