#स्मृति शेष/चंद्रा नायडू : पिता कर्नल सीके नायडू की सर्वाधिक लाड़ली रहीं ताउम्र

  

*जीडीसी में अंग्रेजी की प्रोफेसर थीं


हिंदी में करती थीं क्रिकेट कमेंटरी *

•••• तब शहर में न इतनी कारें थीं न ऐसा ट्रैफिक, सेल्फ ड्राइव करने वाली पांच महिलाओं को जानते थे लोग 

🔹कीर्ति राणा इंदौर।

दशकों पूर्व शहर की सड़कों पर गिनीचुनी महिलाएं ही कार दौड़ाती नजर आती थीं।उनमें कैप्टन सीकेनायडू की लाड़ली बिटिया चंद्रा नायडू इसलिए भी शहर में पहचानी जाती थीं कि कैप्टन नायडू के स्वस्थ रहने तक वे ही हरफंक्शन में उनके साथ रहती थीं। कैप्टन नायडू की लाड़ली बेटी इसलिए कि कैप्टन की दिनचर्या  से लेकर किससे मिलेंगे, कब, कहां जाएंगे यह सब वे ही तय करती थी।नायडू भी इसीलिए अन्य बच्चों की अपेक्षा चंद्रा को अधिक स्नेह करते थे।कैप्टन नायडू का क्रिकेट भी उनके बच्चों में मैडम नायडू पर ही अधिक छाया। उन्होंने अपने पिता महान क्रिकेटर सीकेनायडू पर 'अ डॉटर रेमेम्बर्स' नाम से किताब भी लिखी है। 

मोतीतबेला वाले गर्ल्स कॉलेज में वो थीं तो अंग्रेजी की प्रोफेसर लेकिन क्रिकेट की पहली हिंदी महिला कमेंटेटर काखिताब उनके नाम रहा।इंदौर के ही सुशील दोषी के मुकाबले उनकी हिंदी कमेंटरी का वैसा स्तर तो नहीं रहा, कुछ समयबाद उन्होंने यह फील्ड छोड़ भी दी लेकिन आज जब उनके निधन की खबर चली तो उन्हें देश की पहली महिला क्रिकेटकमेंटेटर के रू में ही याद किया गया। 

जीडीसी मोतीतबेला में जब चंद्रा नायडू अंग्रेजी की प्रोफेसर थीं तब अशोक कुमट पोलिटिकल साइंस के जूनियर प्रोफेसरथे।बाद में जब कुमट सर दैनिक भास्कर के स्पोर्ट्स एडिटर रहे तब नायडू मैडम अकसर शाम को आफिस आती रहती थीं।महीन आवाज और मुस्कुराता चेहरा, उनसे टकराकर सुगंधित हुआ हवा का झोंका पूरे हॉल को खुशबूदार कर देता था। 

कुमट सर बताने लगे 1972 में मैने जीडीसी ज्वाइन किया तब मैडम हमारी सीनियर थीं। प्राचार्य थीं विमला शर्मा, उन्होंनेड्यूटी लगादी कि कॉलेज में लड़के न घुस पाए। मैडम के साथ हम कॉलेज परिसर में इस आदेश का भी पालन करते रहते।जीडीसी में उन्होंने अंग्रेजी नाटक भी करवाए।महिला क्रिकेट में उनका योगदान रहा, कमेंटेटर वो थीं ही और कर्नल कीपुत्री-यही सारे कारण रहे कि वे बीते 15 वर्षों से एमपीसीए कि मेंबर भी रहीं।पहले मैं स्वदेश में स्पोर्ट्स जर्नलिज्म करताथा, सत्यव्रत रस्तोगी संपादक थे। कई मित्र सलाह देते तुम कॉलेज में हो और संघ विचारधारा वाले अखबार में लिख रहेहो, नौकरी में परेशानी न बढ़ जाए।बाद में नवभारत और भास्कर से जुड़ गया, मैडम नायडू से संपर्क बना रहा लेकिन कुछवर्षों से वे सबसे कट सी गई थीं। 

कमेंटेटर-पद्मश्री सुशील दोषी ने उनके निधन पर अफसोस जाहिर करने के साथ ही कहा महिला क्रिकेट को इंदौर मेंस्थापित करने में उनका काफी योगदान रहा है।कवि सरोज कुमार का कहना था मैं डेढ़-दो साल से प्रयास कर रहा था चंद्रानायडू से मुलाकात करूं, वो वक्त ही नहीं दे रही थीं। मैंने सुशील दोषी को भी बताया, उन्होंने कहा था मैं बात करता हूं, साथ चलेंगे मिलने पर अब तो वह चले ही गईं। 

🔹तब शहर छोटा था इसलिए चर्चा में रहीं फर्राटे से कार दौड़ाने वाली ये महिलाएं 

दशकों पूर्व इंदौर छोटा था, न इतनी कारें थीं और न ही इतना ट्रैफिक, ऐसे में फर्राटे से कार दौड़ाने वाली महिलाएं सबकी नजर में आ जाती थीं।एक तो चंद्रा नायडू थी ही, दूसरी थीं कवियत्री चंद्रकांता महाजन ‘अकेली’ (दैनिक भास्कर में रहेअनिल महाजन की मां), तीसरी हमीदा वलीमोहम्मद जो यशवंत क्लब के सेक्रेटरी रहे जेडी मेहता की दोस्त के रूप मेंअधिक पहचानी जाती थीं।बाद में वे मुंबई शिफ्ट हो गईं, आकाशवाणी मुंबई में कार्यक्रम देने लगीं, श्रीमती रानाडे के नामसे वे लेखन क्षेत्र में सक्रिय हो गईं।कैप्टन नरेंद्रसिंह भंडारी की पत्नी विजया भंडारी और दिगंबर जैन समाज इंदौर केअध्यक्ष भरत मोदी की माताजी-सर सेठ हुकमचंद की पुत्री चंद्रप्रभा मोदी।सेल्फ ड्राइव करने वाली इन पांचों महिलाओं कोशहर के अधिकांश लोग इसलिए भी जानते थे क्योंकि ये महिलाएं सामाजिक कार्यक्रमों, गोष्ठियों खेल गतिविधियों में भी सक्रिय रहती थीं।

Popular posts
उज्जैन के चरक में भर्ती लड़की का वीडियो वायरल हुआ
Image
Corona breaking,,,,,, पूरा परिवार आ रहा है पॉजिटिव,,,,,, पूर्व विधायक सहित 12 साल की मासूम चपेट में आई,,,,,, होलसेल दवा व्यापारी का पूरा परिवार संक्रमित,,,,, ऋषि नगर, विवेकानंद कॉलोनी और नानाखेड़ा हॉटस्पॉट बने,,,,,, पॉजिटिव आने वालों की चौका देने वाली 23% दर,,,,,, और भी बहुत कुछ,,,,,
Image
5 दिन में 5 फोटोग्राफर मौत के मुंह में समा गए,,,,,
Image
शादी वैवाहिक कार्यक्रम में अनुमति के साथ अधिकतम 50 व्यक्ति सम्मिलित हो सकेंगे
Image
राजनीति और धर्म के क्षेत्र की दो हस्तियों का दुखद निधन,,,,, कोरोना के कहर से कब उबरेगा शहर
Image