श्री महाकालेश्वर मंदिर में खुदाई के दौरान निकली प्राचीन दीवार गायब ?




फिर से खुदाई कर निकालेंगे जमींदोज की गई दीवार

डॉ. अवधेशपुरी महाराज के सुझाव से पुरातत्व विभाग सहमत

उज्जैन। सर्वविदित है कि आज से करीब 15 दिन पूर्व महाकाल मंदिर के नजदीक खुदाई में एक दीवार निकाली थी किंतु प्रशासन ने लीपापोती करते हुए उस दीवार को दुबारा से जमीन में ही दबा दिया था। पिछले दिनों उपेक्षित पड़ी पुरासंपदा का निरीक्षण करने के लिए पहुंचे डॉ. अवधेशपुरी महाराज ने दीवार के संबंध में अधिकारियों से पूछा तो वे दीवार नहीं दिखा पाए। वह ढंक दी गई थी तथा कई ऐतिहासिक पुरा साक्ष्य भी वहां उपलब्ध नहीं थे। महाराजश्री ने इस पूरे मामले को लेकर पुरातत्व विभाग के अधिकारियों से विस्तार से चर्चा की और सारी स्थिति से अवगत कराया। प्रिंसिपल सेक्रेटरी कल्चर एवं एमपी आर्कियोलॉजी कमिश्नर शेखर शुक्ला तथा पुरातत्व विभाग मध्यप्रदेश के अभिलेखागार प्रभारी डॉ. रमेश यादव ने महाराजश्री को बताया कि आप के दौरे के बाद हमने वहीं पुनः निरीक्षण किया है तथा दीवार वाले पूरे क्षेत्र को मजदूरों से खुदाई के निर्देश दिये हैं। यह खुदाई आज से प्रारंभ होगी। प्रशासन से बातकर अपना एक व्यक्ति वहां छोड़ा है जिसकी देखरेख में खुदाई होगी। हम उस पूरे क्षेत्र में खुदाई कराएंगे तथा अब तक प्राप्त हुई पुरा संपदा को त्रिवेणी संग्रहालय में संरक्षित कराएंगे। महाराजश्री ने संभावना व्यक्त की कि वह दीवार विक्रमादित्य कालीन महाकाल मंदिर का ढांचा हो सकता है, साथ ही सुझाव दिया कि क्यों न वहां ‘महाकाल म्यूजियम एंड रिसर्च सेंटर’ बनाया जाए। पुरातत्व विभाग इस सुझाव से सहमत हुआ तथा कहा कि हम आपके पत्र को अपनी सहमति के साथ दिल्ली भेजेंगे। महाराजश्री के लगभग समस्त सुझावों से पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग सहमत नजर आया।

Popular posts
ओ माय गॉड,,,, महाकाल में नौकरी और करतूत इतनी गंदी,,,,,,
Image
अमलतास हॉस्पिटल में पत्रकार सम्मान व कॉकलियर इम्प्लांट ऑपरेशन किया गया।
Image
शहर के प्रसिद्ध चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेश समधानी द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या किए जाने की कोशिश
Image
122 साल पुराने उज्जैन के नक्शे को आधार बनाकर,,, तालाबों की जमीन हड़पने वालों पर शिकंजा कसेगा,,, उज्जैन जिलाधीश के निर्देश से जमीन पर कब्जा करने वालों में हड़कंप मचा
Image
उज्जैन कलेक्टर के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि,,,130 करोड़ रुपये कीमत की 3 हेक्टेयर जमीन शासकीय हुई,,,,पूर्णिमा सिंघी, प्रमोद चौबे और श्री राम हंस यह है तीन आधार स्तंभ जिनकी मेहनत और सच्चाई रंग लाई
Image