ग्रामोफ़ोन से फसल बेचना हुआ आसान, लॉकडाउन में हजारों किसानों ने उठाया लाभ*

 


देश की अग्रणी एग्रीटेक स्टार्टप कंपनी ग्रामोफ़ोन पिछले पांच साल से किसानों को स्मार्ट खेती करने के लिए आधुनिक तकनीकों के माध्यम से सशक्त करने के उद्देश्य से कार्यरत है और उनके जीवन में समृद्धि ला रही है। कोरोना महामारी के चलते पिछले २ साल सभी के लिए काफी मुश्किल रहे और किसान भाई भी इससे अछूते नहीं रहे हैं |


लॉकडाउन की वजह से सभी सब्जी व् अनाज मंडियां बंद रहीं और किसान भाईयो को अपनी फसल बेंचने का कोई रास्ता नहीं दिख रहा था | उतना ही मुश्किल ये दौर हमारे अनाज व्यापारियों के लिए रहा, वो किसानो से किसी भी तरह जुड़ ना सके | कोरोना की दूसरी लहर के समय किसान अपनी रबी फसलों की कटाई में व्यस्त थे। फसलों की कटाई के बाद किसान लॉकडाउन में फसलों को कैसे बेच पाएंगे इसे लेकर फिक्रमंद थे।


हर बार की तरह इस अभूतपूर्व समस्या को सुलझाने का बीड़ा ग्रामोफ़ोन ने उठाया और किसानों की उपज बेचने की प्रक्रिया को भी स्मार्ट बनाने के उद्देश्य से ‘ग्राम व्यापार’ की शुरुआत की। ग्राम व्यापार के माध्यम से किसान घर बैठे ही अपने ग्रामोफ़ोन मोबाइल ऍप के द्वारा अपनी फसलों को बेंच सकते है बस एक बिक्री सूचि बना कर और भरोसेमंद खरीददारों से डायरेक्ट बात करके | इसी ऐप पर कई व्यापारी खरीददार भी सक्रिय होते है जो खरीद सूचि बनाकर किसानो तक आसानी से पहुँच सकते हैं |


ग्राम व्यापार ने फसलों के व्यापार को बेहद आसान और मुनाफे वाला बना दिया है। इससे किसान और व्यापारी दोनों को लाभ हो रहा है। ऐसे लॉकडाउन के समय में ग्राम व्यापार ने सभी किसानों को घर बैठे फसल बेचने का ये नया माध्यम दे कर सारी मुश्किलें आसान कर दी।


ग्राम व्यापार के शुरू होने के साथ ही अब किसान अपने पूरे कृषि चक्र यानी बुआई से लेकर बिक्री तक के सभी कार्य को ग्रामोफ़ोन एप के माध्यम से अपने खेत या घर में बैठे बैठे बड़ी ही आसानी से कर रहे हैं। ग्राम व्यापार के लांच के तुरंत बाद हजारों किसानों ने अपनी फसल के लिए ग्राम व्यापार से भरोसेमंद खरीददार ढूंढे और सौदा तय किया।



ग्रामोफ़ोन के हेड ऑफ़ आउटपुट बिज़नेस  श्री अतुल चौहान ने मीडिया से बातचीत में कहा -


“ग्राम व्यापार की शुरुआत के साथ ही अब ग्रामोफ़ोन किसानों की हर जरूरत का साधन बन गया है। पहले किसान ग्रामोफ़ोन के माध्यम से फसल से उपज तो अच्छी निकाल रहे थे पर उन्हें उपज से अच्छा मुनाफा प्राप्त करने में समस्या होती थी। अब ग्राम व्यापार उनकी यह परेशानी भी दूर कर रहा है, उन्हें एप पर कई खरीददारों के विकल्प एक साथ मिल रहे हैं जिनसे वे घर बैठे बात कर के सौदा तय कर रहे हैं।”


ग्राम व्यापार एक डिजिटल माध्यम होने की वजह से देश के सभी छेत्रों के किसान भाई और व्यापारी डायरेक्ट जुड़ पा रहे है और फसलों का व्यापार बेहद आसानी से कर पा रहें हैं | वैसे अभी तो यह बस एक शुरुआत भर है, आने वाले दिनों में ऐसी उम्मीद है की ‘ग्राम व्यापार’ से फसलों का व्यापार पूरी तरह से बदल जाएगा और किसानों एवं व्यापारियों दोनों ही के खुशहाली की वजह बनेगा।


अधिक जानकारी के लिए विजिट करें:  https://play.google.com/store/apps/details?id=agstack.gramophone

 https://bit.ly/3f7ginx

Popular posts
कैबिनेट की बैठक में फिर बदला महाकाल कॉरिडोर का नाम,,,,, अब इसे,, महाकाल लोक,,, के नाम से जाना जाएगा, आजादी के बाद पहली बार उज्जैन में हुई प्रदेश सरकार के कैबिनेट की बैठक
Image
ब्रेकिंग,,,,,,,,नयापुरा के जैन परिवार पर आफत का पहाड़ टूटा, सलूजा नर्सिंग होम में भर्ती बहू से परिवार में संक्रमण आने की आशंका जताई
शहर के नौनिहाल आज पर फोकस कर नित नए कीर्तिमन रच रहे हैं, हाल ही में शहर में आयोजित हुई माइंड पॉवर अबेकस की राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में बच्चों ने इतिहास रच दिया
Image
श्री महाकालेश्वर कॉरिडोर का अद्भुत नजारा
Image
उज्जैन में परिवार में फेल रहा है संक्रमण, बड़ी संख्या में पति पत्नी और बाप बेटे संक्रमित,,,, फेसबुक पर जारी की गई एक पोस्ट ने रेंगटे खड़े कर दिए
Image